Connect with us

पानीपत

दिल्ली-पानीपत जीटी रोड पर संभलकर सफ़र करें, राख के बादलों में हादसे का ख़तरा

Published

on

Spread the love

दिल्ली-पानीपत जीटी रोड पर संभलकर सफ़र करें, राख के बादलों में हादसे का ख़तरा

नेशनल हाईवे पर निर्माण कर रही कंपनी की लापरवाही से हादसे का खतरा बढ़ गया है। मिट्टी भरत में प्रयोग होने वाली राख हवा में उड़ने से न केवल वाहन चालकों का निकलना दूभर हो रहा है, बल्कि कई बार तो वाहन दिखाई तक नहीं देते। दुकान व ढाबे चलाने वाले भी परेशान हैं। बाहर सामान तक नहीं रख पा रहे हैं। इन हालातों से कंपनी के अधिकारी भली-भांति परिचित हैं, लेकिन पानी की बौछार करा या मिट्टी के नीचे दबाकर समाधान की तरफ ध्यान देने को तैयार नहीं हैं।

हाईवे पर राख के बादल, हादसों का खतरा

जैक्शन कंपनी द्वारा नेशनल हाईवे के चौड़ीकरण के साथ साथ अंडरपास का निर्माण किया जा रहा है। हाल में नेस्ले वाली सड़क के सामने, हथवाला रोड के पास, नई अनाज मंडी मोड़ के सामने जहां अंडरपास निर्माण शुरू हुआ है, वहीं मनाना, खलीला, मछरौली कट के सामने पहले ही निर्माणाधीन अंडरपास के बचे कामों को तेजी से पूरा किया जा रहा है। कस्बे में भी सर्विस लेन के किनारे पर खुदाई कर नाले का निर्माण हो रहा है। कंपनी की तरफ से सड़क किनारे गड्ढे खोद वैसे ही छोड़ दिया गया है। रात को हादसा होने का भय बना रहता है।

मिट्टी के साथ राखी का प्रयोग

मनाना, खलीला व मछरौली के पास निर्माणधीन अंडर पास में भरत में मिट्टी के साथ राखी का प्रयोग किया जा रहा है। राखी को मिट्टी में दबाने की बजाय ऐसे ही खुला में डाला गया है। पानी की बौछार या अन्य समाधान न किये जाने के कारण हवा में उड़कर वाहन चालकों के लिए मुसीबत बन रही है। कई बार हालात ऐसे हो जाते है की वाहन दिखाई तक नहीं देते। मंगलवार को भी दोपहर के समय ऐसा ही नजारा दिखा। खासकर दोपहिया वाहन सवारों को परेशानी झेलनी पड़ रही है।

बैठना तक हुआ दूभर

आजाद मनाना, नरेश कुमार, प्रवीन ने बताया कि कंपनी की ओर से मिट्टी भरत में राखी प्रयोग में लाई तो जा रही है, लेकिन उस पर पानी की बौछार नहीं होने के कारण दिन भर उड़ती रहती है। ऐसे में उनका अपनी दुकान व ढाबों पर बैठना तक दूभर हो चुका है। पूरा दिन में कई कई बार सफाई करनी पड़ती है। सामान तक बाहर नहीं रख पा रहे हैं। राखी के चलते ग्राहक तक कम होने से आमदनी घट गई है। परंतु न तो कंपनी के अधिकारी सुध ले रहे हैं और न ही एनएचएआ अधिकारी।

कराएंगे पानी की बौछार : जेक्शन कंपनी के प्रोजेक्ट मैनेजर अनिल कुमार का कहना है कि कर्मचारियों को लगातार पानी की बौछार कराने के लिए कहा गया है। यदि ऐसा नहीं हो रहा है तो वह खुद मौका निरीक्षण कर समाधान कराएंगे, ताकि राखी के उड़ने से गुजरने वाले वाहन चालकों को दिक्कत न हो।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *