Connect with us

पानीपत

Weather Update: मौसम ने दिखाए तेवर, घना कोहरा छाया, प्रदूषण का स्‍तर भी बढ़ा

Published

on

Advertisement

Weather Update: मौसम ने दिखाए तेवर, घना कोहरा छाया, प्रदूषण का स्‍तर भी बढ़ा

 

एक सप्ताह तक मौसम साफ रहने के बाद वीरवार को फिर से घने कोहरे ने दस्तक दी। कोहरे के कारण सड़कों पर वाहन रेंग-रेंग कर चलते दिखाई दिए तो दृश्यता भी मात्र दो मीटर की रही। सुबह 9 बजे तक कोहरे का जबरदस्त प्रकोप देखने को मिला। हवा में प्रदूषण का स्तर भी अब बढ़ने लगा है। वीरवार को हवा में प्रदूषण की मात्रा 379 रही, जो सेहत के लिए हानिकारक कही जा सकती है।

Advertisement
Weather Update: मौसम ने दिखाए तेवर, घना कोहरा छाया, प्रदूषण का स्‍तर भी बढ़ा

एक सप्ताह पहले कुछ दिनों तक कोहरा छाया था। उसके बाद से ठंड जरूर बढ़ी थी लेकिन मौसम साफ था। बुधवार शाम को ही मौसम का मिजाज बदला और कोहरा छाने लगा। वीरवार सुबह के समय कोहरा में दो मीटर आगे भी दिखाई नहीं दे रहा था। सुबह की सैर करने निकले लोग भी कोहरे की वजह से थोड़े असहज नजर आए। कोहरे के कारण वाहनों की रफ्तार पर भी ब्रेक लगे रहे। अधिकतम व न्यूनतम तापमान में भी भारी गिरावट आई। वीरवार को सुबह के समय तापमान 11 डिग्री सेल्सियस रहा, वहीं न्यूनतम तापमान 6 डिग्री दर्ज किया गया। धुंध के साथ शीतलहर का असर सरकारी दफ्तरों से लेकर बाजार में देखने को मिल रहा है। विभागीय कर्मचारी समय पर नहीं पहुंच पा रहे हैं तो वहीं अपने गंतव्य तक जाने वाले दूसरे यात्रियों को भी लेट-लतीफी हो रही है। ठंड से बचने के लिए लोग अलाव का सहारा लेते दिख रहे हैं।

कोहरे से गेहूं की फसल को फायदा 

Advertisement

कृषि वैज्ञानिक डा. यशपाल ने बताया कि जितनी ज्यादा कोहरा होगा, गेहूं की फसल के लिए उतनी ही फायदेमंद होगी। गेहूं की फसल में पानी देने की ज्यादा जरूरत नहीं होगी। सुबह कोहरे व दोपहर को धूप का फसल पर अच्छा असर रहता है लेकिन ज्यादा ठंड सब्जियों के लिए हानिकारक है।

69 से 379 पर पहुंचा एक्यूआई

Advertisement

दिसंबर के पहले सप्ताह में जींद की हवा पहाड़ी एरिया से भी स्वच्छ थी। एयर क्वालिटी इंडेक्स मात्र 69 पर था लेकिन दिसंबर के अंतिम सप्ताह तक यह बढ़कर 379 पर पहुंच गया है, जो स्वास्थ्य के लिहाज से हानिकारक माना जाता है।

कैथल में भी धुंध ज्यादा होने से वाहन चालक परेशान

वीरवार सुबह सड़कों पर घनी धुंध छा गई। धुंध ज्यादा होने के कारण सड़कों पर वाहन रेंगते हुए नजर आए। बुधवार शाम को ही हल्की धुंध हो गई थी। उसके बाद सुबह ज्यादा धुंध रही, दस बजे के बाद धूप निकली। वाहन चालकों को वाहन चलाने में काफी परेशानी हुई, वाहन चालक अपने वाहनों की लाइटों को जलाकर चलते दिखाई दिए। वाहन चालकों को धुंध के कारण काफी सावधानी बरतनी पड़ी। बसे भी अपने निर्धारित समय से  लेट पहुंची। लोग बस स्टॉपिज पर यात्रियों का इंतजार करते हुए दिखाई दिए। ठंड से बचने के लिए लोगों ने अलाव का भी सहारा लिया। वीरवार सुबह न्यूनतम तापमान 18 डिग्री व न्यूनतम तापमान 6 डिग्री सेल्सियस रहा। मौसम विज्ञानियों का मानना है कि आगामी एक सप्ताह तक मौसम ऐसा ही बना रहेगा।

गेहूं की फसल के लिए धुंध वरदान साबित

गेहूं की फसल के लिए धुंध वरदान साबित होगी। धुंध गेहूं की फसल के फुटाव में अच्छा योगदान रखती है। ठंड भी बढ़ रही है। ज्यादा ठंड सब्जी की फसल के लिए हानिकारक है। मौसम विज्ञानी रमेश चंद्र का कहना है कि ठंड के मौसम में किसान अपनी फसलों का  विशेषकर ध्यान रखे। कई बार धुंध के मौसम में खाद डालते समय पीला पन आ जाता है। खाद को जमीन के हिसाब से ही डाले। कृषि विभाग के डाक्टरों की सलाह लें।

डा. रामपाल ने बताया कि ठंड अपना असर दिखा रही है। बच्चे का विशेषकर ध्यान रखें। बुखार, खासी व जुकाम के मरीज इस समय सबसे ज्यादा होते है।

 

Source : Jagran

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *