Connect with us

पानीपत

मानवता की मिसाल: बुटीक पर सिलती हैं कपड़े, जो पैसे बचते हैं उसके बांट देती हैं मास्क

Published

on

Advertisement

मानवता की मिसाल: बुटीक पर सिलती हैं कपड़े, जो पैसे बचते हैं उसके बांट देती हैं मास्क

बुटीक पर कपड़ों की सिलाई करते-करते रामपुरा कालोनी की ललिता ठक्कर लोगों के लिए मास्क बनाने लगी। बुटीक का काम मंदा होने के बावजूद वह कपड़ों से मास्क तैयार कर लोगों में मुफ्त बांटती हैं। इनकी सोच है कि कोई भी जरूरतमंद व्यक्ति बिना मास्क के नहीं रहना चाहिए। क्योंकि आम आदमी की जिंदगी की वेल्यू भी उतनी ही है जितनी एक वीआइपी की। बूटीक से फ्री हाेते ही गली-गली चल पड़ती हैं लोगों को मास्क देने।

Advertisement

पुलिसकर्मियों को भी देती हैं मास्क

Advertisement

चौक चौराहों पर ड्यूटी देने वाले ट्रैफिक पुलिसकर्मियों को बिना मास्क के देखा तो उन्हें भी मास्क देने शुरू कर दिए। ललिता का कहना है कि यह आपदा की घड़ी है। इसमें सभी को एक दूसरे का सहयोग करना चाहिए। इसी उद्देश्य से वह जनहित में कार्य कर रही है। कोरोना से बचने के लिए मास्क बेहद जरूरी है। इसलिए ही वह जरूरतमंदों के लिए मास्क तैयार कर रही है। अक्सर वह देखती थी कि आज भी कुछ लोग बिना मास्क के घूमते हैं। जिससे उनको बीमारी का खतरा है। इन लोगों को मास्क दिए जा रहे हैं। जिससे वह जागरूक हो सके। साथ ही कोरोना योद्धा के रूप में ड्यूटी दे रहे कर्मियों को भी मास्क दिए हैं, क्योंकि उनकी बदौलत ही हम कोरोना से जंग लड़ रहे हैं।

 

Advertisement

काम में मंदा लेकिन सिलिसला जारी

ललिता बुटीक चलाती है। इस समय बुटीक पर भी काम मंदा है। इसके बावजूद वह अपने खर्च से कटौती कर मास्क तैयार कर रही हैं। अब तक करीब तीन हजार मास्क तैयार कर वह लोगों को बांट चुकी हैं। उनके बनाए मास्क भी अलग डिजाइन के हैं। यह मास्क मुंह व नाक के साथ आंखों की भी रक्षा करता है। इसमें पट्टी के साथ सफेद प्लास्टिक लगी हुई है। जिसे आंखों पर भी पहना जा सकता है।

लॉकडाउन में लोगों को दिया राशन

लाकडाउन में भी ललिता ने जरूरतमंदों की सेवा की। जो भी जरूरतमंद उनके पास पहुंचता, उसे तुरंत राशन मुहैया कराती। ललिता का कहना है कि बुटीक का काम बंद था। समय भी अधिक था। इसलिए उन्होंने जरूरतमंदों की सेवा करने का निर्णय लिया।

 

 

Source : Jagran

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *