Connect with us

Cities

Lockdown Update: उद्योगों का नहीं बढ़ा कोटा, इतने ही वर्करों से चलाना होगा काम

Published

on

उद्योगों का कोटा नहीं बढ़ सका। 13000 वर्करों तक ही 331 उद्योगों का चलाने की अनुमति मिली है। 1600 से अधिक आवेदन सरल पोर्टल पर उद्यमियों ने जमा किए हैं। दो दिनों से उद्योग विभाग व उद्यमियों की बीच चल रही वार्ता में कोटा बढऩे व राहत मिलने की उम्मीद जगी थी। एसीएस ने तो नए दिशा निर्देश जारी होने की बात भी कही थी।

30 अप्रैल के बाद उद्योगों के पहिये को चालू करने के लिए मिलने वाली छूट के संबंध में बृहस्पतिवार को नए दिशा निर्देश जारी नहीं हो सके। इनका उद्यमी इंतजार कर रहे थे। देर शाम सात बजे तक दिशा निर्देश जारी होने थे, उससे पहले सरकार ने एससीएस टीवीएन प्रसाद को बदल कर यह जिम्मेवारी अप्रूव ङ्क्षसह को दे दी। एक दिन पहले अतिरिक्त मुख्य सचिव उद्योग, वाणिज्य वित्त विभाग के साथ उद्यमियों की वीसी हुई थी। जिसमें नए दिशानिर्देश जारी करने की बात कही गई थी।
Lockdown Update: उद्योगों का नहीं बढ़ा कोटा, इतने ही वर्करों से चलाना होगा काम

नए दिशा निर्देश के मुताबिक उद्योगों में ये परिवर्तन होने थे

उद्योग स्व घोषणा के आधार पर आवेदन कर सकेंगे और उन्हें चलाने की अनुमति दी जाएगी। पास भी उद्यमी दे सकता है। पास की जिला व ब्लॉक स्तर पर सीमा हटेगी। अन्य उद्योगों पर 50 प्रतिशत और आइटी उद्योगों पर 33 प्रतिशत कर्मचारी लगाने की शर्त रहेगी। ये राहत उन जिलों में दी जा रही है जहां कोविड-19 के मामले कम हैं। गुरुग्राम, पलवल, फरीदाबाद, नूंह, पंचकुला, सोनीपत और पानीपत जिलों में जहां पिछले 28 दिनों में जिन ब्लॉकों में 10 या अधिक सक्रिय कोविद मामले व पात्र नहीं होंगे।

 

ब्याज सब्सिडी दी जाएगी

सरकार एक सीमित अवधि के लिए दिए गए वेतन पर ब्याज सब्सिडी देने पर विचार कर रही है। प्रति कर्मचारी वेतन की राशि पर और ब्याज माफी की अवधि के कैप के साथ यह सुविधा मिल सकती है। जिन उद्योगों में 20 कर्मचारी काम करते हैं, उन्हें सॉफ्टवेयर पोर्टल द्वारा 100 प्रतिशत आवश्यकता की अनुमति मिलेगी। निर्यात संबंधी सभी यूनिटों को प्राथमिकता से चलाया जाएगा। उद्योगों के पहिये के तेजी से चालू करने के लिए सरकार राहत देगी। इसके लिए नए दिशा निर्देश जारी किए जा रहे हैं। ऑल इंडिया रोटर स्पिनर्स एसोसिएशन के प्रधान प्रीतम सचदेवा ने बताया कि अब नए सिरे से काम होगा। अधिकारी को बदला गया है। दिशा निर्देश आज जारी होने की उम्मीद थी। जो हो नहीं पाए।

पानीपत में अब तक मिली 321 उद्योगों को अनुमति

पानीपत में लॉकडाउन 2.5 के बाद ढील देने पर 321 उद्योगों का चलाने की अनुमति मिली है। 1600 उद्योगों ने आवेदन दिया था। इन उद्योगों मे 13000 वर्कर काम करेंगे। समालखा ब्लॉक में कम आवेदन आने के कारण उन्हें पानीपत में समायोजित किया गया है। उद्यमी कोटा बढ़ाने की मांग कर रहे हैं। कोटा नहीं बढ़ाया गया है। नए दिशा निर्देश जारी होने की स्थिति में उद्योगों को उम्मीद बंधी थी। फिलहाल वह भी टूट गई है।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *