Connect with us

पानीपत

पानीपत शहर को इस साल मिल जाएगा हाली पार्क

Published

on

Advertisement

पानीपत शहर को इस साल मिल जाएगा हाली पार्क

 

 

Advertisement

शहर का ड्रीम प्रोजेक्ट हाली पार्क आम लोगों को समर्पित हो जाएगा। वर्ष 2014 से शुरू हुआ इंतजार 2021 में खत्म हो जाएगा। 20 दिसंबर 2014 को मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सब्जी मंडी में रैली करते हुए पार्क के सौंदर्यीकरण की घोषणा की थी। 16 दिसंबर 2016 को निदेशालय ने प्रशासकीय मंजूरी के साथ फंड रिलीज किया था। शहरी स्थानीय निकाय निदेशालय से इस पार्क के सौंदर्यीकरण पर 23.69 करोड़ रुपये का बजट मंजूर किया गया। इसमें से 16 करोड़ से अधिक खर्च हो चुके हैं। 23 एकड़ एरिया में से 9 एकड़ में झील बनेगी। शेष में पार्क, रेस्टोरेंट और बाल भवन। झील में 60 फीट ऊपर तिरंगा लहराएगा। झील में 27 बोट उतारी जाएंगी। झील में पानी लाने के लिए पाइप बिछ गई है। ग्रिल लग गई है। दिल्ली और चंडीगढ़ से सजावटी पौधे मंगवाए जाएंगे। चार अंडरपास बनेंगे

पानीपत शहर को इस साल मिल जाएगा हाली पार्क

असंध रोड पर अंडरपास पर बिना बारिश भी पानी भरा ही रहता है। लोगों को मजबूरी में रेल लाइन के ऊपर से जाना पड़ता है। इस कारण कई बार हादसे हो चुके हैं। बरसों से इस अंडरपास के सुधार की मांग हो रही थी। मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने इस अंडरपास के सुधार के लिए मंजूरी दे दी है। इस जगह को चौड़ा किया जाएगा। रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगेंगे। इसके साथ ही गोहाना रोड, नई अनाजमंडी और बिशन स्वरूप कालोनी में अंडरपास पर काम होगा। नगर निगम तीन अंडरपास के लिए पैसा भी देगा। काम रेलवे करेगा। नई अनाजमंडी का प्रोजेक्ट रेलवे ही पूरा करेगा।

Advertisement

9800 स्ट्रीट लाइट लगेंगी

नई स्ट्रीट लाइट का इंतजार भी इस वर्ष खत्म हो जाएगा। मुंबई से लाइटें आ चुकी हैं। अब फिटिग के सामान का इंतजार है। शहर के दो पार्षदों दुष्यंत भट्ट और रवींद्र भाटिया ने इन लाइटों का मुंबई जाकर निरीक्षण किया था। पहली तिमाही में ये लाइटें लग सकती हैं। इसके अलावा पुरानी स्ट्रीट लाइटों की मरम्मत होगी। एग्रो मॉल में शिफ्ट होगा नगर निगम

Advertisement

जीटी रोड पर गोहाना रोड के नजदीक एग्रो मॉल है। इसका कुछ इस्तेमाल नहीं हो रहा। मार्केट कमेटी ने इसे बनवाया था। अब इस मॉल में नगर निगम कार्यालय को शिफ्ट किया जाएगा। इस समय पालिका बाजार और ताऊ देवीलाल कांप्लेक्स में निगम कार्यालय चल रहे हैं। दोनों कार्यालय एक जगह हो जाएंगे तो आमजन को बड़ी राहत मिलेगी। निगम कार्यालय को शिफ्ट करने के लिए मुख्यमंत्री मनोहरलाल स्वीकृति दे चुकी है। एग्रो मॉल की कीमत लगाई जा रही है। गोहाना और असंध रोड होंगे फोरलेन

गोहाना और असंध रोड को फोरलेन किया जाएगा। असंध रोड पर काम शुरू हो गया है। इस पर करीब दस करोड़ रुपये खर्च हो रहे हैं। लालबत्ती चौक से नहर तक सड़क बनाई जा रही है। वहीं, गोहाना रोड भी जीटी रोड से नहर तक बनेगा। इसके लिए पर्यावरण मंजूरी सहित सभी क्लीयरेंस हो चुकी हैं। जनवरी महीने में शिलान्यास किया जा सकता है। पीडब्ल्यूडी के माध्यम से टेंडर लगाया जाएगा। किलोमीटर स्कीम वाली बस 25 बसें चलेंगी

रोडवेज महकमे में साल 2020 में पहली बार 25 निजी बसों को बेड़े में शामिल किया गया। किलोमीटर स्कीम के तहत डिपो ने बसों का संचालन कर यात्रियों को सुविधा देने का प्रयास किया। रोडवेजकर्मियों ने इसका विरोध भी जताया, लेकिन अधिकारिक आदेशों के सामने बेबस ही रहे। हालांकि लॉकडाउन के कारण बसों का पहिया थमा तो प्राइवेट ट्रांसपोर्टरों ने खुद को ठगा सा महसूस किया। नए वर्ष में सभी 25 बसें चलेंगी।

20 नई रोडवेज बसें आएंगी

पानीपत रोडवेज डिपो परिसर के बेड़े में फिलहाल 125 बसें शामिल हैं। पिछले लंबे समय से रोडवेज कर्मचारी डिपो में नई बसें शामिल करने की मांग उठा रहे थे। दिसंबर 2020 में सरकार ने डिपो परिसर में जल्द ही 20 नई रोडवेज बसें शामिल करने की घोषणा की है। मार्च 2020 में पानीपत डिपो के बेडे में 9 मिनी बसों को भी शामिल किया गया था। सिवाह के पास होगा बस स्टैंड

ग्लोबल इंफ्राकॉन कंपनी ने 9.65 करोड़ रुपये की लागत से 26 अक्टूबर, 2018 को 21 माह में बस स्टैंड का निर्माण कार्य पूरा करने का टेंडर छुड़ाया था। कंपनी को 21 माह यानी जुलाई 2020 तक लगभग साढ़े छह एकड़ में बस स्टैंड का निर्माण कार्य पूरा करना था। कोरोना महामारी और लॉकडाउन की वजह से कामकाज प्रभावित हुआ तो ठेकेदार ने समयावधि 31 मार्च तक बढ़वा ली थी। फिलहाल बस स्टैंड का लगभग 90 फीसद निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। ठेकेदार का दावा है कि फरवरी माह के आखिर तक नए बस स्टैंड का निर्माण कार्य पूरा हो जाएगा। डाहर में नया शुगर मिल

गांव डाहर में नए स्थापित होने वाले शुगर मिल को 75 एकड़ में 300.68 करोड़ की लागत से बनाया जाएगा। इस मिल की प्रतिदिन की पिराई क्षमता 50 हजार क्विंटल रहेगी। इसमें 28 मेगावाट का बिजली प्लांट भी स्थापित किया जाएगा। इसकी पिराई क्षमता को 75 हजार क्विटल तक ले जाया जा सकता है। यानी किसानों को अब गन्ना लेकर बाहर नहीं जाना पड़ेगा। ठेकेदार 2020 तक मिल चालू करने के दावे कर रहा था, लेकिन अब 2021 में ही मिल बन पाएगा। वाहनों की करनाल में पासिग

शहर में ट्रांसपोर्ट नगर बनने से लेकर आज तक वाहनों की पासिग मोटर व्हीकल इंस्पेक्टर (एमवीआइ) ही जांच करके करते थे। नवंबर 2020 में वाहनों की पासिग में आधिकारिक आदेशों पर बड़ा फेरबदल किया गया। अब जिले के कॉमर्शियल वाहनों की पासिग 82 किलोमीटर दूर रोहतक में होने लगी है। पासिग मशीनों से करने का दावा है। पानीपत के वाहनों की करनाल में पासिग हो सके, इसके लिए तैयारी की जा रही है। करनाल में पासिग होने से बड़ी राहत मिलेगी।

 

 

Source : Jagran

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *