Connect with us

पानीपत

विद्यार्थियों की संख्या नहीं बढ़ी तो बंद होगा स्कूल

Published

on

Advertisement

विद्यार्थियों की संख्या नहीं बढ़ी तो बंद होगा स्कूल

 

राजकीय स्कूलों में विद्यार्थियों की घटती संख्या चिता का विषय है। ऐसे में शिक्षा विभाग ने एक सख्त फैसला लिया है। जहां हाईस्कूल में विद्यार्थियों की संख्या 50 और सीनियर सेकेंडरी स्कूल में 70 से कम है, उन स्कूलों का न केवल नजदीक के विद्यालय में विलय किया जाएगा, बल्कि स्टाफ की तैनाती भी दूसरी जगह कर दी जाएगी। हालांकि विभाग ने जिला शिक्षा अधिकारियों को नोटिस जारी कर नए शैक्षणिक सत्र 2021-22 तक उक्त स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या बढ़ाने का मौका जरूर दिया है। पानीपत जिले की बात करें तो केवल इसराना खंड के पूठर गांव का राजकीय हाई स्कूल है, जहां छठी से दसवीं तक के विद्यार्थियों की संख्या केवल 43 हैं।

Advertisement
विद्यार्थियों की संख्या नहीं बढ़ी तो बंद होगा स्कूल

 

प्रयासों के बावजूद भी संख्या कम

Advertisement

विभाग के अनेक प्रयासों के बावजूद भी राजकीय हाई व वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालयों में विद्यार्थियों की संख्या में खास इजाफा नहीं हो पा रहा है। ऐसे स्कूलों के संचालन में विभाग को परेशानी आ रही हैं। इसलिए स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या बढ़ाने के लिए शिक्षा बोर्ड की तरफ से उन जिला शिक्षा अधिकारियों को नोटिस जारी किए गए हैं। जिनके क्षेत्राधिकार में हाई स्कूलों में विद्यार्थी की संख्या 50 से कम और वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालयों में 70 से कम है। आंकड़ों की बात करें तो प्रदेश भर में ऐसे 52 राजकीय हाई स्कूल है, इनमें से 7 राजकीय कन्या उच्च विद्यालय हैं।

स्टाफ के साथ पंचायतों को भी जिम्मा

Advertisement

शिक्षा विभाग ने विद्यार्थियों की संख्या बढ़ाने की नैतिक जिम्मेदारी न केवल जिला शिक्षा अधिकारी, संबंधित स्कूल स्टाफ व प्रिसिपल, बल्कि ग्राम पंचायतों को भी सौंपी हैं, ताकि उनके गांव का स्कूल बंद न हो। इसलिए पंचायत भी विद्यार्थियों की संख्या बढ़ाने में अपने स्तर पर प्रयास करें।

दूसरे स्कूल में होगा विलय

जिले में पूठर गांव का राजकीय हाई स्कूल इकलौता है। जहां छठी से दसवीं तक के विद्यार्थियों की संख्या केवल 43 है। यदि नए शैक्षणिक सत्र से पहले स्कूल में विद्यार्थियों की संख्या 50 से ज्यादा नहीं हो पाती है तो विभाग उक्त स्कूल को राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय मांडी या बुआना लाखू में विलय कर सकता हैं। दोनों गांव के स्कूलों की दूरी पूठर से करीब तीन किलोमीटर है।

विद्यार्थियों की संख्या बढ़ाने के आदेश

जिला शिक्षा अधिकारी रमेश कुमार ने बताया कि जिले में केवल राजकीय हाई स्कूल पूठर में विद्यार्थियों की संख्या 50 से कम हैं। वहां के स्टाफ को नए शैक्षणिक सत्र 2021-22 तक विद्यार्थियों की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। इसमें ग्राम पंचायत का भी सहयोग लिया जाएगा। यदि संख्या नहीं बढ़ती है तो स्कूल का नजदीक के किसी स्कूल में विलय किया जाएगा।

किस कक्षा में कितने विद्यार्थी

कक्षा विद्यार्थी

छठी 12

सातवीं 06

आठवीं 06

नौवीं 13

दसवीं 06

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *