Connect with us

पानीपत

जनता को याद आए रोहिता रेवड़ी वाले दिन, पार्कों की हालत हुई ख़स्ता – Sector 12 लोगों में ग़ुस्सा

Published

on

Advertisement

जनता को याद आए रोहिता रेवड़ी वाले दिन, पार्कों की हालत हुई ख़स्ता – Sector 12 लोगों में ग़ुस्सा

 

 

Advertisement

सेक्टर 12 का ग्रीन पार्क बेहाल है। लाइटें खराब हैं। म्यूजिकल फव्वारा सिस्टम चल नहीं रहा। ग्रीन पार्क वेलफेयर एसोसिएशन ने डायरी में शिकायत दर्ज करवाकर निगम आयुक्त को 24 घंटे का अल्टीमेटम दिया है। बुधवार दोपहर 12 बजे तक व्यवस्था में सुधार नहीं हुआ तो सदस्य नगर निगम कार्यालय के गेट पर कूड़े का ढेर लगा देंगे। एक साल से शिकायत पर कार्रवाई नहीं होने के बाद एसोसिएशन के सदस्यों ने मंगलवार को यह फैसला लिया।

भाजपा की नीतियों और अपने पिता जी की ईमानदारी पर जीती हूं : अवनीत कौर |  Panipat, Fashion, Saree

Advertisement

सेक्टर-25 कट से चांदनी बाग थाने की तरफ जाने पर पेट्रोल पंप के ठीक सामने ग्रीन पार्क है। पूर्व विधायक रोहिता रेवड़ी के समय इस पार्क के विकास पर 2.25 करोड़ रुपये खर्च हुए थे। नगर निगम के अधिकारी इसका रखरखाव ठीक से नहीं कर रहे हैं। पार्क की व्यवस्था इतनी खराब है कि यहां कोई माली व सफाईकर्मी नहीं है। बारिश के सीजन में घास उग आई। एसोसिएशन के सदस्यों ने निजी खर्चों से इसे कटवा दिया है। अब उस सूखे घास को उठा कर ले जाने वाला कोई नहीं है। जेबीएम के सफाईकर्मी इसे उठाने को तैयार नहीं हैं। पार्क की 58 लाइटें कई महीने से बंद पड़ी हैं। सुंदरता के लिए पार्क में म्यूजिकल फव्वारा लगाया गया।

मेयर अवनीत कौर ने सितंबर माह में एक म्यूजिकल फव्वारा का उद्घाटन किया था। दूसरा चालू करवाने के लिए ग्रीन पार्क वेलफेयर एसोसिएशन के पदाधिकारी अफसरों का चक्कर काट रहे हैं। लाइटों के लिए बनाए गए चेंबर का गेट नहीं है। इन समस्याओं के समाधान को लेकर कई दिनों से निगम कार्यालय में फोन की घंटी की बजाते रहे। अफसरों ने जब अनदेखी की तो एसोसिएशन के सचिव डा. नरेंद्र जसिया, कैशियर एसडी आहूजा, सदस्य राजेश तुली व पवन मेहंदीरत्ता मंगलवार को ज्ञापन देने निगम कार्यालय पहुंचे। निगम के गेट पर रखेंगे कूड़ा : सचिव डा. नरेंद्र जसिया ने बताया कि निगम कार्यालय में दोपहर 12 से लेकर 12:30 बजे तक निगम आयुक्त का इंतजार किया। कार्यालय में बताया गया कि आयुक्त मीटिग में व्यस्त हैं। शाम 4 बजे आएंगे। सदस्यों की सलाह पर शिकायत पत्र को डायरी डिस्पैच करा दिया। 24 घंटे का अल्टीमेटम दिया गया है। पार्क की समस्या का समाधान नहीं हुआ तो सारा कूड़ा उठा कर निगम कार्यालय के गेट पर रख देंगे। इसके सिवाय दूसरा कोई रास्ता नहीं है।

Advertisement

 

एक साल पहले विधायक को ये मांग पत्र सौंपा ग्रीन पार्क वेलफेयर एसोसिएशन की तरफ से 26 अगस्त 2019 को मांग पत्र सौंप कर इन समस्याओं का निदान कराने की मांग की गई थी। एक साल बीत जाने के बाद भी कोई सुनवाई नहीं है। मांग पत्र में दी गई शिकायतें हैं-: -योग हाल का निर्माण कराया जाए। -50 डस्टबिन पार्क में लगाए जाएं

-म्यूजिकल फाउंटेन चालू करवाया जाए। -ट्रैक का दोबारा से निर्माण हो। -दो सफाईकर्मी व दो माली की स्थाई नियुक्ति -ग्रीन प्लांटेशन लगवाएं जाएं। -बच्चों के लिए झूले लगवाएं जाएं। -घास कटिग मशीन व जरूरी संसाधन उपलब्ध कराया जाए। -ओपन जिम में साइकलिग लगवाएं। -बंद पड़ी लाइटों को चालू कराएं। निकाय मंत्री को भेज चुके हैं शिकायत कैशियर एसडी आहूजा ने बताया कि निकाय मंत्री अनिल विज से लेकर सीएम मनोहर लाल को कई बार लिखित शिकायत भेज चुके हैं। कोई सुनवाई नहीं हो रही है। वार्ड नंबर 13 के पार्षद शिवकुमार शर्मा के संज्ञान में भी है। उन्होंने कई बार प्रयास किया। लेकिन निगम के अफसरों के कान पर जूं तक नहीं रेंगा।

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *