Connect with us

पानीपत

पानीपत के किसानों ने बचाया दो सौ करोड़ लीटर पानी

Published

on

Advertisement

पानीपत के किसानों ने बचाया दो सौ करोड़ लीटर पानी

 

गिरते भूजल को बचाने के लिए किसान आगे आए हैं। सरकार के आह्वान पर पानीपत जिले के 600 से ज्यादा किसानों ने पहली बार 300 हेक्टेयर से अधिक रकबे में धान (अत्यधिक पानी की लागत वाली फसल) की खेती छोड़ मक्का, दाल, कपास व बाजरे के अलावा बागवानी (सब्जियां, फल, फूल व मसाले) की खेती को अपनाया। अब उक्त किसानों को कृषि एवं किसान कल्याण विभाग की ओर से प्रोत्साहन राशि की दूसरी किस्त (पांच हजार रुपये) भी जारी कर दी गई है। 2 हजार रुपये प्रति एकड़ की प्रथम किस्त फसल की बिजाई की वेरीफकेशन के बाद दी जा चुकी है। एक अनुमान के अनुसार करीब दो सौ करोड़ लीटर पानी इससे बचा है। कृषि विभाग के उपनिदेशक डा.वीरेंद्र आर्य का कहना है कि आगे भी किसानों को जागरूक करेंगे। अभी योजना की शुरुआत हुई है। धीरे-धीरे सभी किसान इसे अपनाने लगेंगे तो बड़ा बदलाव आ जाएगा।

Advertisement
पानीपत के किसानों ने बचाया दो सौ करोड़ लीटर पानी

पानीपत के दो ब्लॉक डार्क जोन का हिस्सा

प्रदेश का कुछ हिस्सा डार्क जोन में है। 36 ब्लॉक ऐसे हैं, जहां पिछले 12 वर्षो में भू-जल स्तर में पानी की गिरावट दोगुनी हुई है अर्थात जहां पानी की गहराई 20 मीटर थी, वह आज 40 मीटर हो गई है। 40 मीटर से ज्यादा गहराई वाले 19 ब्लॉक हैं, लेकिन 11 ब्लॉक ऐसे हैं, जिसमें धान की फसल नहीं होती है। 8 ब्लॉक रतिया, सीवान, गुहला, पीपली, शाहबाद, बबैन, ईस्माइलाबाद व सिरसा ऐसे हैं जहां भू-जल स्तर की गहराई 40 मीटर से ज्यादा है और धान की बिजाई होती है, ऐसे ही क्षेत्रों को इस योजना में शामिल किया गया है। पानीपत जिले की बात करें तो बापौली व समालखा ब्लॉक डार्क जोन का हिस्सा हैं। प्रथम स्टेज में सत्यापित किसान

Advertisement

फसल किसान

बाजरा 220

Advertisement

मक्का 151

दाल 11

कपास 37

 

 

पहले चरण में इतनी जमीन चिह्नित हुई

58 फीसद जमीन पर बाजरा की फसल लगाई

32 फीसद जमीन पर मक्का लगाया

07 फीसद पर कपास लगाई

3 फीसद पर दाल लगाई

—————-

प्रथम चरण में कितनी मिली राशि

फसल मिलने वाली राशि

बाजरा- 8,75,569 लाख

मक्का – 4,90,772 लाख

दाल – 34,654 हजार

कपास – 1,07,226 लाख

 

इतने किसानों ने असल में फसल लगाई

फसल किसान

बाजरा 116

मक्का 50

दाल 08

कपास 13

 

दूसरे चरण में इतनी जमीन पर फसल लगी

68 फीसद जमीन पर बाजरा हुआ

23 फीसद जमीन पर मक्का हुआ

05 फीसद पर कपास लगा

04 फीसद पर दाल लगाई

 

द्वितीय स्टेज पर कितनी मिली राशि

फसल मिलने वाली राशि

बाजरा- 12,42,448 लाख

मक्का – 4,01,598 लाख

दाल – 64,190 हजार

कपास – 1,03,057 लाख

 

यह भी जानें

419 किसानों के खेत में पहले चरण में धान के अलावा अन्य फसल की बिजाई हुई मिली

187 किसानों के खेत में फसल पकी मिली दूसरे चरण की रिपोर्ट अनुसार

160 किसानों के 170 हेक्टेयर में मिली बागवानी फसल

01 किलो चावल पैदा करने पर खर्च होता है 5 हजार लीटर पानी

20 क्विंटल धान उपजती है एक एकड़ में, 13 क्विंटल निकलता है चावल

06 मई 2020 को शुरु की गई थी मेरा पानी, मेरी विरासत योजना

02 हजार रुपये वेरीफिकेशन के बाद मिलते हैं

05 हजार की दूसरी किस्त फसल पककर तैयार होने पर मिलती है

301 हेक्टेयर जमीन पहले चरण में चिह्नित हुई

144 हेक्टेयर पर धान के अलावा अन्य फसल उपजाई गई

 

 

 

 

 

Source : Jagran

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *