Connect with us

पानीपत

पत्नी से न मिलने देने पर बंदी ने हथकड़ी से सिर फोड़ा

Published

on

Advertisement

पत्नी से न मिलने देने पर बंदी ने हथकड़ी से सिर फोड़ा

 

सिवाह स्थित जिला जेल से सिविल अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में बुधवार दोपहर करीब 12:15 बजे इलाज कराने आए बंदी ने हथकड़ी से खुद का सिर फोड़ कर आत्महत्या का प्रयास किया। बंदी ने आरोप लगाया कि एसआइ ने पत्नी से गाली-गलौज की और मिलने नहीं दिया। उसने विरोध किया तो उसका सिर फोड़ दिया। बंदी व उसके स्वजनों ने एक घंटे तक जमकर हंगामा किया। इस दौरान बंदी ने एसआइ को जेल से छूटने के बाद सबक सिखाने की भी धमकी दी। वहीं बंदी के स्वजन और पुलिसकर्मी एक-दूसरे की वीडियो भी बनाते रहे। बाद में बस अड्डा चौकी पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मामला शांत कराया। बंदी के खिलाफ आत्महत्या के प्रयास का मामला दर्ज कर लिया गया है।

Advertisement

पत्नी से न मिलने देने पर बंदी ने हथकड़ी से सिर फोड़ा

बिहोली गांव का विकास उर्फ विक्की लूट मामले में तीन महीने से पानीपत जेल में बंद है। उसके फेफड़ों में पानी भरा था। इलाज के लिए उसे पुलिस लाइन के एसआइ व अन्य तीन पुलिसकर्मी सिविल अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में लाए। यहां आते ही विकास ने शोर मचा दिया एसआइ कर्मबीर ने उसका सिर फोड़ दिया है। विकास के पास आए एक दोस्त ने स्वजनों को कॉल कर दी। विकास के भाई व अन्य कई युवकों ने इमरजेंसी वार्ड में पहुंचकर हंगामा कर दिया। एसआइ कर्मबीर ने 100 नंबर पर काल की। बस अड्डा चौकी प्रभारी नरेश कुमार, एसआइ मदन सहित पांच पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे। स्वजनों को शांत कराया। घायल विकास को प्राथमिक उपचार के बाद पीजीआइ रोहतक रेफर कर दिया गया।

Advertisement

एसआइ ने धक्का देकर गाली दी

बंदी विकास चिल्ला रहा था कि एसआइ कर्मबीर ने उसकी पत्नी निर्मला के साथ गाली-गलौज की। विरोध करने पर उसे धक्का दिया और फिर दीवार पर सिर पटक दिया। इससे सिर में चोट लगी। उसने कहा कि कर्मबीर ने गाड़ी में भी गाली दी थी। मना करने पर मारपीट पर आमादा हो गया। वहीं बिझौल मोड़ पर रहने वाली निर्मला का कहना है कि उसने हाथ जोड़े और गाली देने के लिए मना किया, पर एसआइ नहीं माना।

Advertisement

विकास ने खुद फोड़ा सिर

एसआइ कर्मबीर ने बताया कि विकास की तबीयत खराब थी। 28 दिसंबर को भी विकास को इलाज के लिए अस्पताल लाया गया था। बुधवार को अस्पताल के इमजेंसी वार्ड में विकास स्ट्रेचर पर बैठा रखा था। उसे इंजेक्शन लगना था। बाहर एसपी (स्पेशल पुलिस आफिसर) और दो पुलिसकर्मी तैनात थे। वे डाक्टर को बुलाने गए थे। इसी दौरान विकास ने हथकड़ी से खुद को सिर फोड़ लिया और उन पर आरोप लगा दिए। अस्पताल स्टाफ मौके पर ही था।

जेल से कॉल कर निर्मला और दोस्त बुलाया

एसआइ ने बताया कि विकास ने जेल से फोन कर निर्मला और अपने एक दोस्त को अस्पताल आने को कहा था। वे दोनों को विकास से मिलने नहीं दे रहे थे। इस वजह से वह तैश में आ गया था। इस बारे में जेल प्रशासन को भी अवगत कराया जाएगा।

शिकायत पर केस दर्ज

बस अड्डा चौकी प्रभारी एसआइ नरेश कुमार ने बताया कि सिविल अस्पताल के नर्सिग आफिसर विनय ने शिकायत दी है कि विकास ने गुस्से में आकर हाथ में बंधी हथकड़ी से सिर पर वार कर लिया और आत्महत्या का प्रयास किया। विकास के खिलाफ धारा 309 (आत्महत्या) के प्रयास का मामला दर्ज कर लिया है। जांच में अस्पताल में लगे सीसीटीवी की फुटेज को भी शामिल किया गया है।

विकास ने साथी साथ मिलकर गुड़ विक्रेता से लूटे थे 14 हजार रुपये

एसआइ नरेश कुमार ने बताया कि उत्तर प्रदेश के जिला शामली के कांधला के असरफ ने समालखा थाना पुलिस को शिकायत दी कि 15 सितंबर 2020 को रेहड़ी में गुड़ बेचने के लिए खलीला जा रहा था। इसी दौरान बाइक सवार दो युवकों ने उससे 14000 रुपये लूट लिए। जांच के बाद पुलिस ने मामले में बिहोली के विकास और उसके साथी को गिरफ्तार किया था।

सिविल अस्पताल से दो बंदी हो चुके हैं फरार

बीमारी होने पर पुलिस बंदियों को जेल से इलाज के लिए सिविल अस्पताल लाती है। यहां प़ुलिसकर्मी बंदियों के लिए साफ्ट टारगेट होते हैं। यहां 14 दिन में दो बंदी फरार हो गए थे। दोनों बंदियों को पुलिस आज तक काबू नहीं कर पाई है।

-30 नवंबर को सिविल अस्पताल के कोरोना वार्ड से चोरी का आरोपित बंदी सौदापुर का गौरव भाग गया था।

-14 दिसंबर को पत्नी की हत्या का आरोपित फिरदौस अस्पताल से फरार हो गया था।

 

Source : Jagran

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *