Connect with us

पानीपत

ये नियम आपकी जिदगी से जुड़े हैं, ढाबों, मिठाई की दुकानों को ये मानना होगा

Published

on

ये नियम आपकी जिदगी से जुड़े हैं, ढाबों, मिठाई की दुकानों को ये मानना होगा

 

मिठाई की दुकानों, ढाबों, डेयरी और अचार की फैक्ट्री में काम करने वाले कारीगरों को सिर पर टोपी, हाथों में दस्ताने पहनने होंगे। भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण के आदेशों को खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन के अधिकारी पालन कराएंगे। इसके लिए फोसटेक (फूड सेफ्टी ट्रेनिग एंड सर्टिफिकेशन) के तहत जिले के मुख्य व्यापारियों को पहले ही ट्रेनिग दी जा चुकी है। जिला खाद्य सुरक्षा अधिकारी डा. श्यामलाल ने बताया कि होटल-रेस्टोरेंट के मालिकों, डेयरी उत्पादकों, अचार-पापड़, चाट-पकौड़ी की दुकान-ठेली दुकानदारों और हलवाइयों को हाइजीन के संबंध में प्रशिक्षण दिया गया है। प्राधिकरण के आदेशों को रिमाइंडर भी भेजा जा रहा है। उत्पादकों और कारीगरों को स्वच्छता-शुद्धता के प्रति जागरूक रहना होगा, ताकि ग्राहक बीमारियों से बचा रहे। खाद्य पदार्थ तैयार करने, परोसने के समय सिर पर टोपी, दस्ताने, गाउन, मुंह को कवर करने मास्क पहनना होगा। खाद्य सुरक्षा अधिकारी के मुताबिक यह आदेश सभी एफबीओ (फूड बिजनेस ऑपरेटर) यानि रजिस्ट्रेशन व लाइसेंस धारकों के लिए अनिवार्य है।

5 oldest sweet shops from all over India!

बीमार कारीगर से न लें काम

हलवाई, ढाबा-डेयरी मालिक अपने बीमार कारीगर से काम न लें, ऐसे भी निर्देश जारी किए गए हैं। कोरोना महामारी सहित दूसरी संक्रमित बीमारियों के फैलने का खतरा रहता है। बीमार कारीगर पूरी तरह स्वस्थ हो जाए, तभी उसे काम पर बुलाया जा सकता है।

Navi Mumbai Gets Its First Rooftop, Sea-Facing Dhaba | Curly Tales

परिसर की रखें साफ-सफाई

ग्राहक को शुद्ध भोजन परोसना दुकानदार की जिम्मेदारी है। कई बार बाहर से सब कुछ साफ दिखता है, रसोईघर और बर्तन धोने वाले स्थान पर बहुत ज्यादा गंदगी दिखती है। मिठाई तैयार करने वाली फैक्ट्रियों में मच्छर-मक्खी आदि कीट खाद्य सामग्री पर बैठे रहते हैं। दुकानदारों को स्पष्ट निर्देश है कि परिसर में सफाई रखें। बर्तन धोने वाला पानी भी साफ होना चाहिए।

 

 

Source : Jagran