Connect with us

यमुनानगर

अजब-गजब फर्जीवाड़ा, व्‍यापारी के नाम कई बैंकों से ठग ले गए दो करोड़ 54 लाख का लोन

Published

on

Advertisement

अजब-गजब फर्जीवाड़ा, व्‍यापारी के नाम कई बैंकों से ठग ले गए दो करोड़ 54 लाख का लोन

 

ठगी का अलग ही मामला सामने आया है। लोन कराने के नाम पर लिए व्यापारी अभिषेक से दस्तावेज लिए गए। इन दस्तावेजों में छेड़छाड़ कर अलग-अलग बैंकों से 54 लाख रुपये का लोन लिया। जबकि दो करोड़ रुपये की प्रॉपर्टी व कारें खरीदने के नाम पर लोन लिया गया। इसका पता भी अभिषेक को तब लगा, जब उन्होंने बैंक में सिबिल स्कोर चेक किया। पुलिस ने फिलहाल मामले में केस दर्ज किया है।

Advertisement

पुलिस को दी शिकायत के मुताबिक, सेक्टर 17 निवासी अभिषेक ने सत्यम इंडस्ट्रीज के नाम से वर्ष 2014 में मनोज ढींगरा के साथ मिलकर दामला में फैक्ट्री लगाई। उस समय बतौर पार्टनर उन्होंने अपनी फर्म के लिए पंजाब नेशनल बैंक माडल टाउन से लोन लिया था। जिसे बाद में चुका दिया गया।

व्‍यापारी के नाम से ठगों ने करीब ढाई करोड़ का लोन ले लिया।

Advertisement

इसके बाद फर्म को पंजाब में शिफ्ट कर दिया गया और वहां का जीएसटी नंबर लेकर कार्य शुरू कर दिया। इस दौरान वह उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद निवासी दीपक से मिला। अारोपित ने बताया कि वह कम ब्याज दर पर फाइनेंशियल इंस्टीट्यूट से लोन उपलब्ध कराता है।

उस समय दीपक ने उनका विजिटिंग कार्ड व फोन नंबर लिए। कुछ दिनों बाद दीपक का फोन आया और उसने कहा कि एक नई कंपनी बाजार में आई है। वह कम ब्याज पर लोन दे रही है। जिस पर वह तैयार हो गए। आरोपित ने उनकी फैक्ट्री में विजिट करने की बात कही। कुछ दिनों बाद वह दीपक, गाजियाबाद निवासी मनोज व राजीव उनकी फैक्ट्री में आए। यहां पर फैक्ट्री के फोटोग्राफ लिए और उनके दस्तावेज ले लिए। जल्द लोन कराने के लिए कुछ पैसा भी दीपक के खाते में ट्रांसफर किया।

Advertisement

काफी समय बीतने के बाद भी जब उनका लोन नहीं हुआ और दीपक से भी कोई संपर्क नहीं हुआ, तो उसे शक हुआ। जिस पर वर्ष 2019 में सत्यम इंडस्ट्रीज के नाम से बनाई गई फर्म का जीएसटी नंबर विभाग को सरेंडर कर दिया, क्योंकि दस्तावेजों का दुरुपयोग होने का खतरा था। फर्म पर लिए गए सभी लोन भी चुका दिए थे।

 

सिबिल स्कोर चेक किया, तो लगा ठगी का पता

पुलिस को दी शिकायत में अभिषेक ने बताया कि जब उन्होंने बैंक का सिबल स्कोर चेक किया, तो पता लगा कि अलग-अलग बैंकों से करीब 54लाख रुपये उनके दस्तावेजों पर निकाले गए हैं। इसके अलावा करीब दो करोड़ रुपये की देनदारी अलग-अलग बैंकों से प्रोपर्टी, कार आदि खरीदे जाने की सत्यम इंडस्ट्रीज के नाम से दिखाई जा रही है। बाद में जब इस बारे में आरोपित दीपक से बात की, तो वह धमकी देने लगा। अब उनके पास नोएडा के कोटक महेंद्रा बैंक, एक्सिस बैंक से भी लोन के लिए कॉल आ रहे हैं। इस मामले में अभिषेक ने एसपी को शिकायत दी थी। वहां से आर्थिक अपराध शाखा ने जांच की। जांच में सामने आया कि दीपक, मनोज, राजीव, भिवानी निवासी पवन गर्ग व मासूम गर्ग ने मिलकर यह ठगी की है।

 

 

Source : Jagran

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *