Connect with us

पानीपत

ट्रैफ‍िक थाना प्रभारी का वीडियो वायरल, खुली पोल तो सस्‍पेंड, रिश्‍वत से जुड़ा मामला

Published

on

Advertisement

ट्रैफ‍िक थाना प्रभारी का वीडियो वायरल, खुली पोल तो सस्‍पेंड, रिश्‍वत से जुड़ा मामला

 

चालान का डर दिखाकर ट्रक चालकों से ट्रैफिक थाना प्रभारी एसआई कुलवंत द्वारा 400-400 रुपये वसूली करते हुए का वीडियो वायरल हुआ है। थाना प्रभारी का वीडियो ट्रक चालकों ने ही बना लिया और उसके बाद उसे इंटरनेट मीडिया पर वायरल कर दिया। जब यह मामला डीआइजी ओपी नरवाल ने ट्रैफिक थाना प्रभारी कुलवंत को सस्पेंड कर दिया और उसकी विभागीय जांच के आदेश दिए हैं।

Advertisement

जींद में ट्रैफ‍िक थाना प्रभारी को सस्‍पेंड कर दिया गया।

वायरल वीडियो में ट्रैफिक थाना प्रभारी कुलवंत जींद बाईपास से पंजाब की तरफ जाने वाले चार ट्रकों को रोका हुआ है। इसमें थाना प्रभारी ट्रकों को ओवरलोड होने की बात कहकर चालान करवाने या एक-एक हजार रुपये देने की बात कह रहा है। ट्रक चालक एक हजार रुपये ज्यादा होने की बात कह रहे हैं और 200-200 रुपये देने की कहते हैं। जहां पर ट्रैफिक थाना प्रभारी कुलवंत सिंह प्रत्येक ट्रक के 500 रुपये से कम नहीं लेने की बात कह रहे हैं।

Advertisement

 

 

Advertisement

इसके बाद भी ट्रक चालक कम करने की गुहार लगाते हैं, लेकिन ट्रैफिक थाना प्रभारी उनके ट्रक के नंबरों का फोटो खींचकर ऑनलाइन चालान करने की बात कहते हैं। बाद में ट्रक चालक ट्रैफिक थाना प्रभारी तीनों ट्रकों से 400-400 रुपये ले लेते हैं और उसके बाद उनको आगे जाने देते हैं। ट्रक चालकों ने थाना प्रभारी कुलवंत का वीडियो बनाकर इंटरनेट मीडिया पर वायरल कर देते हैं।

 

जब वायरल वीडियो डीएसपी धर्मबीर खर्ब के पास गया। उन्होंने तुरंत ही वीडियो की जांच के आदेश दे दिए और रिपोर्ट तैयार करके डीआईजी ओपी नरवाल को सौंप दी। इस पर डीआईजी ओपी नरवाल ने ट्रैफिक थाना प्रभारी कुलवंत को सस्पेंड कर दिया और उसकी विभागीय जांच के आदेश दिए हैं।

 

डीआईजी ओपी नरवाल ने बताया कि ट्रैफिक थाना प्रभारी द्वारा ट्रक चालकों से वसूली का वीडियो सामने आया है। उस पर संज्ञान लेते हुए तुरंत प्रभारी से सस्पेंड कर दिया और उसकी विभागीय जांच भी खोल दी है।

 

पूरे जिले में चालान नहीं होने की ले रहे गारंटी

वीडियो में ट्रैफिक थाना प्रभारी कुलवंत ट्रक चालकों से कहते नजर आ रहे हैं कि जिले में उनकी तीन टीमें कार्यरत हैं। एक टीम जींद में तैनात है, जबकि एक जुलाना व नरवाना में है। उनकी कोई भी टीम अब उनका चालान नहीं करेगी। जिले से बाहर जाने के बाद उनकी कोई गारंटी नहीं है।

 

 

 

Source : Jagran

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *