Connect with us

राज्य

अब जीटी रोड पर दौड़ेंगी ट्रेन, पंजाब से बंगाल तक 35 फ़िट ऊपर रेल ट्रैक

Published

on

Advertisement

अब जीटी रोड पर दौड़ेंगी ट्रेन, पंजाब से बंगाल तक 35 फ़िट ऊपर रेल ट्रैक

देश में पहली बार नीचे यात्री गाड़ी और 35 फीट ऊंचाई पर मालगाडिय़ां दौडेंगी। राष्ट्रीय राजमार्ग के ऊपर भी रेल लाइन बिछाई जाएगी। यह लुधियाना से कोलकाता तक 1856 किलोमीटर तक बिछने वाली लाइन डेडिकेटेड फ्रंट कोरिडोर के प्रोजेक्ट का अहम हिस्सा होगी। करीब 2499 करोड़ के इस प्रोजेक्ट को जून 2022 में पूरा करने का लक्ष्य है। इस वर्ष दिसंबर माह से रेल लाइन बिछाने का कार्य शुरू हो जाएगा। हरियाणा और पंजाब में तीन जगहों पर नीचे सवारी गाड़ी तो ऊपर मालगाडिय़ां दिखेंगी। अंबाला-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग के ऊपर भी मालगाडिय़ां दौड़ती नजर आएंगी।

Advertisement

नीचे यात्री ट्रेन, 35 फीट ऊपर दौड़ेंगी मालगाडिय़ां, पंजाब एवं हरियाणा में हाइवे के ऊपर भी बिछेगी लाइन

लुधियाना से कोलकाता तक करीब 116 डिब्बों की लंबी मालगाड़ी दौड़ाने के लिए 1856 किलोमीटर की लाइन बिछाई जा रही है। इस रेल लाइन पर सिर्फ मालगाडिय़ां ही दौड़ेंगी और इनकी रफ्तार 100 किलोमीटर प्रति घंटा होगी। मौजूदा समय 40 से 50 किलोमीटर की रफ्तार से ही मालगाडिय़ां दौड़ रही हैं। इस मालगाड़ी को खींचने के लिए विशेष ईंधन तैयार किए जा रहे हैं। इसके बाद एक राज्य से दूसरे राज्य तक सामान पहुंचाना आसान हो जाएगा।

Advertisement

 

अंबाला में हाईवे के ऊपर नजर आएगी मालगाड़ी

Advertisement

अंबाला में करीब पांच किलोमीटर तक 35 फीट की ऊंचाई पर लाइन बिछाई जाएगी। मालगाड़ी को खींचने के लिए ओएचई (ओवरहेड इलेक्ट्रिफिकेशन) तार जमीन से करीब 50 फीट ऊंची होगी। इसी प्रकार पंजाब के राजपुरा में 3 किलोमीटर, सरङ्क्षहद में करीब 6 किलोमीटर, अलीगढ़ में 28 किलोमीटर, इटावा 25, कानपुर में 50 किलोमीटर तक मालगाडिय़ां पुल के ऊपर दौड़ेंगी।

 

सवारी गाडिय़ों की बढ़ेगी संख्या, यात्रियों को होगी सुविधा

इस प्रोजेक्ट के पूरा होने के बाद मालगाडिय़ों के लिए विशेष लाइन हो जाएगी। मालगाडिय़ां इसी विशेष लाइन पर शिफ्ट हो जाएंगी। इसके बाद यात्री सुविधाओं में इजाफा होगा। साथ ही सवारी गाडिय़ों की संख्या और उनकी रफ्तार दोनों बढ़ जाएगी। मौजूदा समय में सवारी और मालगाडिय़ां दोनों एक ही पटरी पर दौड़ रही हैं।

 

उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक बिछेगी रेल लाइन

प्रोजेक्ट की बात करें तो उत्तर में सबसे अधिक दूरी तक रेललाइन बिछाई जाएगी, जबकि सबसे कम हिस्सा पंजाब में होगा। हरियाणा में इस प्रोजेक्ट के लिए 72 किलोमीटर, पंजाब में 88 किलोमीटर, उत्तर प्रदेश में 1058 किलोमीटर, बिहार में 239 किलोमीटर, झारखंड में 196 किलोमीटर और पश्चिम बंगाल में 203 किलोमीटर रेल लाइन बिछेगी। प्रोजेक्ट में रेल लाइन बिछाते समय संरक्षा से जुड़े सभी अहम पहलुओं पर भी नजर रखी जा रही है।

 

 

 

Source : Jagran

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *