Connect with us

समाचार

1020 किमी यह एक्सप्रेसवे देश का सबसे बड़ा एक्सप्रेसवे होगा, पीएम मोदी देंगे देश को सौग़ात

Published

on

1020 किमी यह एक्सप्रेसवे देश का सबसे बड़ा एक्सप्रेसवे होगा, पीएम मोदी देंगे देश को सौग़ात

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 30 नवंबर को उत्तर प्रदेश के वाराणसी पहुंच रहे हैं। वह यहां पर बहुचर्चित वाराणसी-प्रयागराज (गंगा एक्सप्रेसवे) का लोकार्पण करेंगे। वाराणसी-प्रयागराज के लोगों को इस सिक्स लेन एक्सप्रेसवे की सौगात मिलेगी। एक बार पूरा होने के बाद यह एक्सप्रेसवे

देश का सबसे बड़ा एक्सप्रेसवे होगा। यह 1,020 किलोमीटर लंबा है। इसे बनाने में लगभग 37,000 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं। इस परियोजना की शुरुआत इसी साल जनवरी में उत्तर प्रदेश सरकार ने की थी।

 

expressway
देश के सबसे बड़े एक्सप्रेसवे के बारे में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पहले कहा था कि यह 6,556 हेक्टेयर भूमि पर फैले भारत का सबसे लंबा एक्सप्रेसवे होगा। राजमार्ग परियोजना को दो चरणों में विकसित किया जाएगा। गंगा एक्सप्रेसवे के प्रथन चरण में 596 किलोमीटर की दूरी तय की जाएगी और मेरठ, ज्योतिभा फुले नगर, हापुड़, संभल, बदायूं, शाहजहांपुर, फर्रुखाबाद, हरदोई, उन्नाव, रायबरेली, प्रतापगढ़ और प्रयागराज जिलों को इससे जोड़ा जाएगा। इसमें पांच प्रमुख पुल, आठ रोड-ओवरब्रिज और 18 फ्लाईओवर होंगे। एक्सप्रेसवे में छह लेन, आठ लेन तक विस्तार योग्य, पूरी तरह से एक्सेस-नियंत्रित एक्सप्रेसवे होगा जो पश्चिम यूपी को पूर्वी यूपी से जोड़ता है।

कहां से कहां तक बनेगा एक्सप्रेसवे
परियोजना के पहले चरण के लिए निर्माण की कुल लागत 37,350 करोड़ रुपये आंकी गई है, जिसमें 9,500 करोड़ रुपये भूमि के अधिग्रहण पर और 24,091 रुपये निर्माण कार्यों पर खर्च किए जाएंगे। परियोजना को 70 फीसदी ऋण और 30 पर्सेंट इक्विटी द्वारा वित्त पोषित किया जाएगा। एक्सप्रेसवे एनएच-235 से शुरू होगा, जो मेरठ में शंकरपुर गांव के पास होगा और प्रयागराज जिले में सोरांव के पास एनएच-330 पर समाप्त होगा।

गंगा किनारे लगेंगे वृक्ष
एक्सप्रेसवे के दूसरे चरण के तहत, तिगरी से उत्तर प्रदेश-उत्तराखंड सीमा तक 110 किलोमीटर लंबी सड़क का विस्तार किया जाएगा और प्रयागराज से बलिया तक 314 किलोमीटर की एक और सड़क बनेगी।

गंगा एक्सप्रेसवे का अनोखा पहलू यह है कि यह राज्य में अन्य एक्सप्रेसवे को लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे, पूर्वांचल एक्सप्रेसवे और बलिया लिंक एक्सप्रेसवे के माध्यम से जोड़ेगा। खबरों के मुताबिक, यूपी सरकार ने गंगा एक्सप्रेसवे के किनारे बड़े पैमाने पर वृक्षारोपण अभियान शुरू करने की योजना बनाई है।

 

 

Source : Nav Bharat Times

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *