Connect with us

पानीपत

कुूरुक्षेत्र में बेरिकेट्स तोड़़कर भारी संख्‍या में दिल्‍ली की ओर बढ़े किसान, पुलिस ने की पानी की बौछार, देखें वीडियो

Published

on

Advertisement

कुूरुक्षेत्र में बेरिकेट्स तोड़़कर भारी संख्‍या में दिल्‍ली की ओर बढ़े किसान, पुलिस ने की पानी की बौछार, देखें वीडियो

किसानों के दिल्‍ली कूच के मद्देजर हरियाणा सरकार ने पंजाब से लगती सीमा पूरी तरह सील कर दी है। भारी संख्‍या में किसान अंबाला में पुलिस का घेरा तोड़कर आगे बढ़े। कुरुक्षेत्र में भी उनको रोकनेे के लिए बेरिकट्स लगाए गए थे। वे इसे तोड़कर आगे बढ़े तो पुलिस ने वाटर कैनन से उन पर पानी की बौछार की।

Advertisement

कुरुक्षेत्र में किसानों को दिल्ली जाने से रोकने के लिए त्योड़ा में पुलिस का नाका लगाया गया और हाईवे पर बेरिकेट्स लगाए गए थे। इस दौरान किसानों ने तीन नाके तोड़ दिए हैं। यहां प्रशासन और पुलिस अधिकारी किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी से बातचीत भी की, लेकिन किसान नहीं मानें व आगे बेरिकेट्स तोड़कर आगे बढ़ने लगे। इसके बाद पुलिस ने वाटर कैनन से किसानों पर पानी की बौछार कर दी। किसानों ने कुरुक्षेत्र के त्योड़ा गांव में लगाया पुलिस का नाका भी तोड़ दिया और दिल्ली कूच के लिए आगे बढ़ गए हैं।

Advertisement

कुरुक्षेत्र में पुलिस द्वारा लगाए गए बेरिकेट्स।

प्रियंका गांधी वाड्रा को लाडवा हाेकर निकाला

Advertisement

बुधवार को शाहाबाद और कुरुक्षेत्र के बीच किसानों को रोकने के लिए लगाए बेरिकेड्स की वजह से कांग्रेस महासचवि प्रियंका गांधी वाड्रा को लाडवा से निकाला गया। प्रियंका गांधी की लाडवा से होकर गुजरने की जानकारी किसी भी कांग्रेस नेता को नहीं लगी। इस दौरान उनके काफिले को जाम से बचाकर निकालने में पुलिस अधिकारियों के भी पसीने छूट गए। वह चंडीगढ़ से दिल्ली जा रही थीं। उनके काफिले को शाहाबाद से लाडवा की तरफ निकाला गया।

 

चंडीगढ़-अंबाला हाईवे पर लगा 15 किमी लंबा जाम, शादियों में जा रहे लोग भी फंसे

राज्‍य में अन्‍य सीमाओं को भी पूरी तरह सील किया गया है। अंबाला में चंडीगढ़- दिल्‍ली हाईवे पर कड़ी सुरक्षा है और बैरिकेट्स लगाकर सड़क पर आवागमन पूरी तरह रोक दिया गया है। पंजाब की ओर से किसानों को रोकनके लिए भारी संख्‍या पुलिस और अर्द्ध सुरक्षा बलों के जवान तैनात हैं। अंबाला में मोहड़ा मंडी के पास  रैपिड एक्शन फ़ोर्स की टीम भी तैनात है। मंडी के पास और हाईवे पर काफी संख्‍या में किसान पहुंच गए।

 

चंडीगढ़-अंबाला हाईवे पर तैनात रैपिड एक्‍शन फोर्स के जवान।

किसानों ने हटाए बेरिकेट्स, दिल्ली को हुए रवाना

मोहड़ा अनाज मंडी में जुटे किसानों ने बेरिकेट्स को हटा दिया है और वे दिल्‍ली की ओर रवाना गए। पुलिस ने किसानों को रोकने की कोशिश की, लेकिन उनकी संख्‍या काफी अधिक होने के कारण वह सफल नहीं हुई।

 

शंभू बार्डर पर और सदौपुर बार्डर पर भी जुटी रही पुलिस

 

पंजाब से आने वाले किसानों को रोकने के लिए  शंभू बार्डर और सदौपुर बार्डर पर भी कड़े सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं। भारी संख्‍या में पुलिस और अर्द्ध सैनिक बलों के जवानों ने मोर्चा संभा‍ल रखा है। हरियाणा-पंजाब बार्डर को पूरी तरह सील किया गया है और बेरिकट्स लगाए गए हैं। यहां पुलिस ने दो कंपनियां तैनात की गई हैं। वैसे दिल्ली नेशनल हाईवे को अभी चालू रखा हुआ है। अभी इन जगहों पर पंजाब से किसानों के पहुंचने की सूचना नहीं है।

 

पुलिस ने वाहनों को डायवर्ट करने का पहले से ही प्लान बनाया हुआ है। इसके अनुसार चंडीगढ़ जाने वाले लोग अंबाला शहर होक नारायणगढ़ रोड़ से हंडेसरा, बरवाला होते हुए चंडीगढ़ जा सकते हैं। सुल्तानपुर चौक से जड़ौत, बरवाला व पंचकूला जा सकते हैं। पंजाब जाने के लिए देवी नगर से हिसार रोड पुल के माध्यम से जमीतगढ़ मोड से होते हुए घन्नौर रास्ते से पटियाला जा सकते हैं।

 

पुलिस पर हुई पत्थरबाजी

शाहपुर रेलवे ट्रैक पर किसान जुट गए थे, इसकी सूचना पुलिस को मिल गई। उन्हें हटाने के लिए मौके पर पहुंची। इस दौरान पुलिस पर कुछ लोगों ने पथराव भी किया। वैसे, इसमें  किसी को चोट नहीं लगी। बाद में पुलिस ने किसानों को रेल ट्रैक से हटा दिया।

 

हाईवे पर लगा 15 किलोमीटर लंबा जाम, किसानों ने सड़क पर लगाया लंगर

अंबाला-चंडीगढ़ हाईवे पर बैठकर लंगर खाते किसान।

किसानों को  पुलिस और अर्द्ध सुरक्षा बलों के जवानों ने आगे बढ़ने से रोक दिया तो वे हाईवे पर बैठ गए। इससे करीब 15 किलोमीटर लंबा जाम लग गया। इससे किसानों के अलावा शादियों में जा रहे लोग और बरात भी फंस गई। इस दौरान किसानों ने सड़क पर ही लंगर लगा दिया।

 

सिरसा और जींद में भी पंजाब बार्डर सील, जींद में सीमा पर ट्रैक्टर के साथ पंजाब के किसानों ने जमाया डेरा

 

हरियाणा में भी कृषि कानूनों के विरोध में भारतीय किसान यूनियन के दिल्ली कूच को लेकर प्रशासन और किसान नेता आमने-सामने आ गए हैं।  दिल्ली में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच प्रस्तावित किसान आंदोलन में शिरकत करने से रोकने के लिए प्रशासन ने किसान नेताओं की धर-पकड़ की जा रही है। प्रदेश की सीमाएं बुधवार सुबह से ही पूरी तरह सील कर दी गई हैं। सिरसा और जींद में पंजाब से लगती सीमाओं पर सुरक्षा व्यवस्था चौकस कर दी गई है तो झज्जर जिले में धारा 144 लगा दी गई है।

अंबाला-चंडीगढ़ हाईवे पर बैठे किसान।

पुलिस की सख्ती को देखते हुए भाकियू ने भी अपनी रणनीति में बदलाव करते हुए अब अंबाला जिला के गांव मोहड़ा के पास जीटी बेल्ट के किसानों को एकत्रित करने का फैसला किया और यहां बुधवार सुबह से किसान आने लगे। सिरसा में तीन, फतेहाबाद में एक, करनाल में तीन, चरखीदादरी में छह समेत हिसार,  रोहतक, भिवानी, यमुनानगर और अंबाला से कई किसानों को पुलिस ने के हिरासत में लिया है। अंबाला में भी पंजाब से आने वाले किसानों को रोकने के लिए नाकेबंदी कर दी गई है।

 

अंबाला में हरियाणा-पंजाब बार्डर पर तैनात रैपिड एक्‍शन फोर्स के जवान।

 

 

जींद में पंजाब के किसानों ने बार्डर पर जमाया डेरा

पंजाब सीमा को गांव दातासिंहवाला के पास बैरिकेड लगाकर पुलिस ने सील कर दिया है। पंजाब सीमा पर लगाए गए बैरिकेड के पास भारी पुलिस बल को तैनात किया गया है। वहीं पंजाब के काफी किसान ट्रैक्टर ट्राली लेकर बार्डर के पास पहुंचे, लेकिन बैरिकेड लगा होने के चलते किसानों ने वहीं पर डेरा जमा लिया। उन्होंने पंजाब की सीमा के अंदर ही भंडारा शुरू कर दिया है। जिले में 30 नाके लगाए गए हैं।

 

झज्जर जिला में 25 से 27 नवंबर तक धारा-144 लागू 

झज्जर जिला प्रशासन ने किसान संगठनों के दिल्ली कूच की चेतावनी के मद्देनजर  कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए अंतर राज्य व अंतर जिला नाके सील किए जा रहे हैं। आगामी तीन दिनों के लिए धारा 144 लागू करते हुए ठोस कदम उठाए जा रहे हैं।

 

भाकियू के प्रदेशाध्यक्ष अनिल नांदल को नींद से जगा हिरासत में लिया

रोहतक में भारतीय किसान यूनियन अंबावता के प्रदेश अध्यक्ष अनिल नांदल उर्फ बल्लू प्रधान को उनके निवास से पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। प्रदेशाध्यक्ष का आरोप है कि पुलिस कर्मी सादी वर्दी में हथियारों से लैस होकर उनके आवास पर पहुंचे और अपराधियों की तरह उनको हिरासत में लिया। पुलिस कार्रवाई की उनके सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई।

 

 

Source : Jagran

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *