Connect with us

City

बीड़ी की चिंगारी से रजाई में लगी आग, पैसों की कमी के कारण नहीं ले जा सके चंडीगढ़

Published

on

Advertisement

बीड़ी की चिंगारी से रजाई में लगी आग, पैसों की कमी के कारण नहीं ले जा सके चंडीगढ़

करनाल के खेड़ी मानसिंह में मानसिक रूप से परेशान मुल्तान (40) की बीड़ी से रजाई में लगी आग में झुलसने से मौत हो गई। परिजन उसे गंभीर हालत में कल्पना चावला मेडिकल कॉलेज लेकर आए, यहां से स्थिति को देखते हुए पीजीआई चंडीगढ़ रेफर कर दिया। परिजनों ने सुबह तक पैसों का प्रबंध कर चंडीगढ़ जाने की योजना बनाई, लेकिन दिन निकलने से पहले ही उसकी मौत हो गई।

खेड़ी मानसिंह निवासी गुरदीप ने बताया कि उसका चचेरा भाई मुल्तान उर्फ राजू मानसिक रूप से परेशान था। कल रात रात 9 बजे घर पर शराब पीकर आया। ऊपर चौबारे में पहुंचकर अंदर से कुंडी ली। वहां पर उसने सोने से पहले बीड़ी लगा ली। बीड़ी की चिंगारी से रजाई में आग लग गई। आग लगने पर मुल्तान चिल्लाने लगा। धुआं देख और चिल्लाने की आवाज सुनकर पड़ोसियों ने परिजनों को बताया। काफी लोग इकट्ठा हो गए। दरवाजा तोड़कर उसे बाहर निकाला, लेकिन तब तक झुलस चुका था।

Advertisement

झुलसे मुल्तान को रात को कल्पना चावला मेडिकल कॉलेज लेकर आए। डॉक्टरों ने स्थिति ज्यादा गंभीर होने पर पीजीआई चंडीगढ़ रेफर कर दिया। परिजन उसे वापस घर ले गए। ताकि सुबह तक पैसों को प्रबंध कर चंडीगढ़ इलाज करवा सकें। सुबह तक मुल्तान की मौत हो गई। मुल्तान समेत चार भाई थे। तीन की पहले ही मौत हो चुकी है। घर में विधवा भाभी और पिता रहता है।

Advertisement

सूचना पर पुलिस ने देखा मौका

Advertisement

एएसआई शमशेर सिंह ने बताया कि सुबह थाने में सूचना मिली थी। गांव खेड़ी मानसिंह में जलने से मौत हो गई है। मौके पर पहुंचे थे। मृतक 80 फीसदी मानसिक रूप से परेशान था। सीन ऑफ क्राइम टीम का मौके पर दौरा करवाया गया। आईपीसी की धारा 174 की कार्रवाई करते हुए शव का पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों के हवाले कर दिया।

Advertisement