Connect with us

पानीपत

रसगुल्ला, गुलाब जामुन, चमचम में पड़े थे कीड़े-मक्खी, 518 किग्रा. माल कराया नष्ट

Published

on

Advertisement

रसगुल्ला, गुलाब जामुन, चमचम में पड़े थे कीड़े-मक्खी, 518 किग्रा. माल कराया नष्ट

जिलावासी सावधान ! त्योहारी सीजन में मिलावट करने वाले और मुनाफाखोरों ने मानव स्वास्थ्य के लिए हानिकारक मिठाइयां परोसने की तैयारी कर ली है। सीएम फ्लाइंग करनाल की टीम ने बुधवार को हरिनगर स्थित रसगुल्ला फैक्ट्री में छापामारी कर 500 किग्रा. रसगुल्ला, 10 किग्रा. गुलाब जामुन और आठ किग्रा. चमचम मिठाई नष्ट कराई है।

Advertisement

फैक्ट्री से मिठाइयों के आठ सैंपल भी लिए गए हैं। जिला खाद्य सुरक्षा अधिकारी डा. श्यामलाल ने बताया कि शिकायत के आधार पर सीएम फ्लाइंग के साथ रसगुल्ला फैक्ट्री में छापामारी की गई। मूल रूप से उप्र. के आगरा निवासी सुभाष करीब चार साल से पानीपत में मिठाइयां तैयार कर, दुकानों पर सप्लाई कर रहा है। टब में भरे रसगुल्लों में कीड़े और मक्खियां पड़ी हुई थी। गुलाब जामुन और चमचम की स्थिति भी ऐसी थी। इस पूरे माल को मौके पर ही नष्ट करा दिया गया।

रसगुल्ला, गुलाब जामुन, चमचम में पड़े थे कीड़े-मक्खी, 518 किग्रा. माल कराया नष्ट

रसगुल्ला, गुलाब जामुन, मोतीचूर के लड्डू, पनीर, चमचम, मावा, बेसन-सूजी के लड्डू और दूध पाउडर के सैंपल लिए गए हैं। फैक्ट्री मालिक मौके से नदारद था। कारीगरों को शुद्ध मिठाइयां तैयार करने और साफ-सफाई रखने के निर्देश दिए गए हैं।

Advertisement

 

 

Advertisement

माल खपाकर हो जाते हैं गायब :

पानीपत में उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश के लोग मुनाफाखोरी के चलते त्योहार के सीजन में मिठाइयों का कारोबार करते हैं। जिले की छोटी दुकानों पर तैयार मिठाइयों की सप्लाई करते हैं। दीपावली पर जिले में मिठाइयों की करीब 500 दुकानें लगती हैं। फैक्ट्री मालिक इन्हें माल बेचकर घरों को लौट जाते हैं। इस दौरान विभाग भी अस्थाई दुकानों से सैंपल नहीं ले पाता।

 

 

कारीगर नहीं पहने थे मास्क-टोपी :

खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन के आदेश हैं कि कारीगरों को मास्क, दस्ताने और सिर पर कैप पहननी होगी। फैक्ट्री में एक भी कारीगर नियमों का पालन नही कर रहा था।

फैक्ट्री में गंदगी की भरमार

रसगुल्ला फैक्ट्री में एक प्लाट में बने कमरे में चल रही थी। स्टाक को शेड के नीचे ओपन रखा हुआ था। प्लाट में उड़ती धूल भी तैयार मिठाइयों तक पहुंच रही थी। कारीगरों को सफाई के लिए कहा तो बोले कि फर्श कच्चा होने के कारण सफाई नहीं रख पाते।

 

 

 

Source : Jagran

 

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *