Connect with us

City

मदद के बहाने लूट का प्रयास

Published

on

Advertisement

एसबीआई में वृद्ध महिला के 50 हजार लेकर भागा बदमाश, दो गार्ड ने 300 मी. तक पीछा कर पकड़ा

 

जीटी राेड पर एसबीआई में शुक्रवार काे वृद्ध महिला के 50 हजार रुपए लेकर भागे बदमाश काे बैंक के दाे गार्ड ने करीब 300 मीटर तक पीछा कर पकड़ लिया। उसने बचने के लिए कई जतन किए। दाैड़ते हुए सड़क पर 50 हजार रुपए फेंक दिए। तब एक गार्ड रुपए उठाने में लग गया, जबकि दूसरे ने उसे काबू किया। बदमाश ने उसे गिरा भी दिया, चाेट लगने के बाद भी गार्ड ने उसे नहीं छाेड़ा। रुपए और बदमाश काे पकड़कर गार्ड बैंक में ले गए और हाथ बांध दिए।

Advertisement

सिटी थाने पुलिस ने केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया। शनिवार काे काेर्ट ने दाे दिन की पुलिस रिमांड पर साैंपा है। सेक्टर-11 फेस-वन निवासी 65 वर्षीय महिंद्र काैर पत्नी सताेख सिंह ने बताया कि 12 अगस्त काे पति की बीमारी से माैत हाे गई थी। उनके घर में चिनाई का काम लगा है। अक्सर वह बैंक में रुपए जमा व निकालने जाती थी। शुक्रवार दोपहर काे वह जीटी राेड पर एसबीआई में 50 हजार रुपए निकलने गई थी। जहां एक युवक मिला, वह मदद के बहाने फार्म भरने लगा।

उसने पूछ लिया कि खाते में कितने रुपए है ताे उसे बैलेंस 3 लाख रुपए बता दिया। बाउचर पर 50 की जगह ढाई लाख रुपए भरकर साइन करा लिए। कैशियर ने बाउचर पर ढाई लाख रुपए देने से मना कर दिया। यह चाल उसकी विफल हाे गई, महिला समझ नहीं पाई। फिर 50 हजार का दूसरा फार्म भरा। महिला साइड में खड़ी थी। रुपए निकालने के बाद वह कैश देने की बजाय भागने लगा। महिला ने राेका ताे धक्का मारा और थप्पड़ भी मारे। तब उसने शाेर मचा दिया। लेकिन वह रुपए व पासबुक लेकर भाग गया।

Advertisement

रास्ते में रुपए गिराए, ताकि बच सके
मैं गेट पर ड्यूटी पर था। महिला चिल्लाई ताे देखा बदमाश गेट पार कर चुका था। तब पीछा किया। बाहर खड़े दूसरे गार्ड नरेश कुमार उसके पीछे लगा। तब बदमाश रेलिंग फांद पुल के नीचे चला गया। नरेश भी उसके पीछे लगा रहा। मैं बाइक वाले से मदद ले जीटी राेड पर चलता रहा। जब बदमाश काे लगा कि नरेश उसे पकड़ लेगा ताे उसने 50 हजार रुपए व पासबुक फेंक दी। मजबूरन नरेश रुक गया और रुपए व पासबुक उठाने लगा। नरेश जैसे ही रुका ताे बदमाश रेलिंग फांद वापस जीटी राेड पर रेलवे राेड के पास आ गया। मैंने बाइक से उतर बदमाश काे पकड़ लिया। तब तक पुलिस आ गई। फिर हम उसे बैंक में लाए। बदमाश से 79 हजार रुपए मिले। राजेश कुमार, बैंक के गार्ड।

सिर्फ वारदात करने पानीपत आया था आराेपी
आराेपी झारखंड के धनबाद निवासी 30 वर्षीय राजकुमार करीब 1 साल पहले फरीदाबाद में जाॅब करता था। उसने कबूला कि काेराेना काल जाॅब छूटने के बाद जरूरत पूरी नहीं हाे पा रही है। इसलिए वारदात करने लगा। वह पानीपत सिर्फ वारदात करने के लिए आया था। क्योंकि उसे डर था कि फरीदाबाद में उसके जानने वाले हैं और वारदात के बाद उसे काेई पहचान न लें। सिटी थाना प्रभारी सुनील कुमार ने बताया कि आराेपी राजकुमार काे गिरफ्तार करके दाे दिन की पुलिस रिमांड पर लिया है।

Advertisement
Advertisement