Connect with us

City

इकलौते बेटे का शव लेने आ रहे परिजनों से लूट

Published

on

Advertisement

UP के कैराना से पहले दो कार सवार बदमाशों ने हमला करके 20 हजार छीने; पानीपत में सड़क हादसे में हुई थी पुत्र की मौत

हरियाणा के पानीपत जिले में इकलौते बेटे की मौत के बाद उसका शव लेने आ रहे परिजनों को दो बदमाशों ने लूट लिया। वारदात उत्तर प्रदेश में कैराना से पहले अंजाम दी गई। मृतक के पिता अपने साले और दो भतीजों के साथ मुजफ्फरनगर से पानीपत आ रहे थे। कैराना से करीब 5 किलोमीटर पहले एक कार चालक ने उनकी कार में साइड मार दी। हालात भांपकर उन्होंने कार दौड़ा ली।

पानीपत में सड़क हादसे में मारे गए बसंत का फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar

Advertisement

लेकिन एक ट्रक के आगे होने के कारण उन्हें कार रोकनी पड़ी। तभी दो कारों में सवार तीन बदमाशों ने घेरकर मृतक के पिता और चचेरे भाइयों पर लोहे की रॉड से हमला कर दिया। बदमाशों ने उनके सिर में वार किए और 20 हजार लूटकर शामली की ओर चले गए। पीड़ितों ने 112 पर कॉल किया, लेकिन कोई रिस्पॉन्स नहीं मिला। इसके बाद उन्होंने कैराना कोतवाली पहुंचकर शिकायत दी।

बेटे के साथ ऐसे हुआ था हादसा

Advertisement

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर के दक्षिण कृष्णा पुरी निवासी आदित्य शर्मा ने बताया कि वे पंडिताई का काम करते हैं। उनका 21 वर्षीय इकलौता बेटा बसंत शर्मा अपने दोस्त मयंक के साथ गुरुवार शाम को स्कूटी से अपनी बुआ के पास पानीपत आ रहा था। बुआ उग्राखेड़ी मोड़ पर रहती हैं। लेकिन गांव छाजपुर के पास पीछे से तेज गति से आई कार ने उनकी स्कूटी में जोरदार टक्कर मार दी।

मयंक कच्चे रास्ते पर जा गिरा, लेकिन बसंत का सिर सड़क पर लग गया। उसके सिर से लगातार खून बह रहा था। वह एक राहगीर की मदद से बसंत को अस्पताल लेकर जा रहा था कि रास्ते में ही बसंत ने दम तोड़ दिया। मयंक ने फोन करके हादसे की खबर बसंत के परिजनों और पुलिस को दी। जानकारी मिलते ही बसंत के परिजन और पुलिस मौके पर पहुंच गए।

Advertisement

मयंक के फोन करने पर घर से चले थे परिजन

मृतक बसंत के पिता आदित्य शर्मा ने बताया कि मयंक का फोन आने के बाद वे तुरंत साले जनार्दन शर्मा और भतीजे शिशिर व मुकुल के साथ कार लेकर पानीपत के लिए निकले। जब वह उत्तर-प्रदेश के कैराना के पास पहुंचे तो पीछे से आए कार चालक ने उनकी कार को साइड से टक्कर मार दी। कार चालक उन्हें रोकना चाहता था। लेकिन वह खतरा भापंकर कार दौड़ाते रहे।

इस दौरान सामने से ट्रक आ गया, जिस वजह से उन्हें कार धीमी करनी पड़ी। फिर दो कारों ने उन्हें घेर लिया और उसमें सवार बदमाशों ने लोहे की रॉड से उन पर हमला कर दिया। बदमाशों ने रॉड से सिर पर हमला किया, जिससे चारों घायल हो गए। इसके बाद बदमाशों ने कार की तलाशी ली और जेब में रखे 20 हजार रुपए निकाल लिए।

मौत होने और हाथ जोड़ने के बाद भी नहीं माने बदमाश

मृतक के चचेरे भाई मुकुल ने बताया कि बसंत के मामा जनार्दन बदमाशों से परिवार में मौत होने की बात कहकर उन्हें छोड़ने की मिन्नतें करते रहे, लेकिन बदमाश नहीं माने। इतना सुनने के बाद उन्होंने हमला नहीं किया। लेकिन पैसे लूट लिए। गनीमत रही कि जर्नादन की जेब में रखे 14 हजार रुपए उनके हाथ नहीं लगे, वरना आर्थिक नुकसान होता।

घर का इकलौता बेटा था बसंत

आदित्य शर्मा ने बताया कि उनका एक लड़का और एक लड़की है। बसंत बड़ा और इकलौता बेटा था। बसंत से छोटी एक बेटी है। बसंत फिलहाल ग्रेजुएशन के फर्स्ट ईयर में था।

Advertisement