Connect with us

पानीपत

धुंध के कारण पानीपत की लिंक नहर में गिरी कार, रोहतक के युवा उद्यमी की मौत

Published

on

Advertisement

धुंध के कारण पानीपत की लिंक नहर में गिरी कार, रोहतक के युवा उद्यमी की मौत

 

रोहतक जिले के गांव महम के युवा उद्यमी की कार समालखा के पास लिंक नहर में गिर गई। सुबह तक घर न पहुंचने पर परिजन मोबाइल लोकेशन के आधार पर समालखा पहुंचे। मंगलवार सुबह करीब 10 बजे उद्यमी की कार ऊपर आई। पुलिस ने क्रेन की मदद से कार को बाहर निकाला। उद्यमी भी कार में ही मृत मिला। पोस्टमार्टम के बाद शव परिजन को सौंपा गया है।

Advertisement
क्रेन द्वारा नहर से उद्यमी की कार निकालते हुए।
क्रेन द्वारा नहर से उद्यमी की कार निकालते हुए।

सोनीपत जिले के गांव शामड़ी के सुंदर सिंह ने बताया कि रोहतक जिले के गांव महम निवासी उनके साले 33 साल के राजेश कुमार ने पानीपत की सनौली रोड पर कपड़े की फैक्ट्री लगाई हुई है। उसे उनके पास ही आना था। सोमवार रात 10:30 बजे राजेश से फोन पर बात हुई। उसने कहा कि रास्ते में है और 11 बजे के आसपास शामड़ी पहुंच जाएगा। इंतजार करने के बाद सुंदर सो गया। सुबह 4 बजे तक जब राजेश नहीं आया तो फोन किया, लेकिन फोन स्विच ऑफ मिला।

राजेश कुमार का फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar

Advertisement

इसके बाद सुंदर ने बेटे से राजेश के मोबाइल की आखिरी लोकेशन निकलवाई। राजेश के मोबाइल की लोकेशन समालखा के पास मिली। करीब 5 बजे वह अन्य परिजनों के साथ समालखा पहुंचे। काफी तलाश की लेकिन राजेश का पता नहीं लगा। परिजन खोज ही रहे थे कि नरायणा गांव के पास लिंक नहर में राजेश की स्विफ्ट डिजायर कार ऊपर आ गई। उन्होंने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने क्रेन की मदद से कार को बाहर निकाला। राजेश ड्राइवर साइड की सीट पर मृत मिला।

धुंध और सड़क पर पड़े पत्थर बने कारण
सुंदर ने बताया कि सोमवार रात को काफी धुंध थी। जहां राजेश की कार मिली है उससे कुछ पहले सड़क पर पत्थर पड़े हुए हैं। अधिक धुंध होने और सड़क पर अचानक पत्थर आने के कारण राजेश की कार नहर में गिरने की संभावना है।

Advertisement

सीट बेल्ट से निकला, लेकिन पानी के दबाव के कारण नहीं खुली खिड़की
जब कार को नहर से बाहर निकाला तो सीट बेल्ट खुली तो नहीं थी, लेकिन राजेश उससे बाहर था। नहर में पानी काफी है और बहाव भी तेज है। पानी के दबाव के कारण राजेश कार की खिड़की नहीं खोल सका। हालांकि, राजेश तैरना जानते थे, यदि वह कार से बाहर निकल पाता तो जान बच जाती।
दाे बच्चे का था पिता
सुंदर सिंह ने बताया कि राजेश एक 5 साल की बेटी और ढाई साल के बेटे का पिता था। राजेश के पिता भूप सिंह रोडवेज से रिटायर्ड हैं। अब बड़ा भाई बचा है।

Advertisement