Connect with us

City

पानीपत में खुले स्‍कूल,कोरोना गाइडलाइन का पालन करते दिखे

Published

on

पानीपत में खुले स्‍कूलकोरोना गाइडलाइन का पालन करते दिखे
Advertisement

Advertisement

कोविड महामारी ने स्कूलों के नियम बदल दिए हैं। चार महीने बाद स्कूल खुले तो जरूर लेकिन आधी छुट्टी जैसा कुछ नहीं था। यानी रिसेस नहीं मिली। दरअसल, स्कूल का समय सुबह नौ से बारह बजे तक रखा गया है। तीन घंटे के दौरान रिसेस का कोई विकल्प नहीं है। कोविड के कारण स्कूल में आधे बच्चों को ही बुलाया गया। लेकिन इन आधों में से भी आधे ही बच्चे पहुंचे।

Advertisement

माडल संस्कृति स्कूल, निंबरी राजकीय स्कूल में बच्चों से बात की। वहां पर कोरोना गाइडलाइंस का पालन हो रहा है या नहीं, इसे देखा। माडल संस्कृति स्कूल में बच्चों ने बताया कि आनलाइन पढ़ाई से अब बोर हो चुके हैं। अब आफलाइन पढ़ाई शुरू हो जानी चाहिए। कोरोना से बचने के लिए जिस तरह पहले दिन शारीरिक दूरी का नियम माना है, ठीक वैसे ही आगे भी मानेंगे।

Advertisement

आधे बच्चों को मैसेज

स्कूलों की तरफ से आधे बच्चों को मैसेज भेजा जा रहा है। आधे बच्चे अगले दिन आएंगे। यानी किसी क्लास में अगर पचास बच्चे हैं तो पच्चीस बच्चे एक दिन आएंगे, पच्चीस बच्चे अगले दिन आएंगे।

Advertisement

धनसौली में पांच

धनसौली के राजकीय स्कूल में सुबह केवल पांच बच्चे ही पहुंचे। चार क्लास के इन बच्चों को बैठाने में अध्यापकों को कोई दिक्कत नहीं हुई। अध्यापकों को उम्मीद है कि आगे बच्चों की संख्या बढ़ेगी।

निंबरी में नौ बच्चे

निंबरी के राजकीय स्कूल में नौवीं और दसवीं की क्लास लगी। यहां नौ बच्चे ही पहुंचे। अध्यापकों ने बताया कि आधे बच्चों को मैसेज भेजा गया है। अभी संख्या कम है। उम्मीद है कि जल्द बच्चे आएंगे। कोरोना नियम का पालन करेंगे।

पानीपत में स्‍कूलों में आधी छुट्टी जैसा माहौल।

उग्राखेड़ी में संख्या ज्यादा

उग्राखेड़ी के राजकीय स्कूल में बच्चों की संख्या ज्यादा दिखी। यहां पचास से अधिक बच्चे दिखे। हालांकि शारीरिक दूरी का ध्यान रखा गया। लेकिन छुट्टी के वक्त बच्चे आपस में मिलने लगे। तब शारीरिक दूरी का ध्यान नहीं रहा। यह असावधानी भारी बढ़ सकती है।

इन नियमों का पालन करना होगा जरूरी

-विद्यार्थी को स्कूल आने के लिए अभिभावकों की लिखित अनुमति लानी होगी।

जो विद्यार्थी आनलाइन पढ़ाई करना चाहते हैं, उनके लिए आनलाइन पढ़ाई जारी रहेगी।

-स्कूल में विद्यार्थियों की उपस्थिति को लेकर कोई बाध्यता नहीं होगी।

-विद्यार्थियों के लिए स्कूल का समय सुबह नौ से दोपहर 12 बजे तक का होगा।

– शिक्षकों के लिए स्कूल का समय सुबह 8:30 से दोपहर 12:30 तक रहेगा।

-बच्चों का तापमान व हाजिरी रोजाना अवसर एप पर अपलोड करनी होगी।

-स्कूल के सभी शिक्षकों का टीकाकरण होना जरूरी है।

-एक डेस्क पर एक ही विद्यार्थी को बैठाया जाएगा।

 

किस कक्षा में कितने विद्यार्थी

नौंवी –7737

दसवीं –8364

ग्यारहवीं –6880

बारहवीं –6547

नोट : विद्यार्थियों की संख्या के उक्त आकड़े पांच जुलाई तक हो चुके एडमिशन की रिपोर्ट के मुताबिक हैं।

Source jagran

Advertisement

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *