Connect with us

City

CM कार्यक्रम को लेकर किसानों को SDM की चेतावनी

Published

on

Advertisement

बोले- फायरिंग की नौबत आई तो गोली घुटनों से नीचे ही चलेगी; इससे पहले करनाल SDM ने दिए थे सिर फोड़ने के आदेश

 

हरियाणा के कैथल जिले में एसडीएम ने किसानों को सीएम के कार्यक्रम का विरोध करने पर गोली चलाने की चेतावनी दी है। एसडीएम ने कहा कि सीएम के कार्यक्रम में कुछ करने पर फायरिंग की नौबत आई तो गोली घुटनों से नीचे ही चलेगी। इससे पहले करनाल एसडीएम आयुष सिन्हा ने किसानों के नाका तोड़ने पर सिर फोड़ने के आदेश दिए थे।

Advertisement

महाराजा अग्रसेन जयंती पर 9 अक्टूबर को सीएम मनोहर लाल खट्टर के कैथल पहुंचने की संभावना है। सीएम के कैथल पहुंचने की सूचना पर किसान संगठन विरोध जताने के लिए कई दिनों से रणनीति बनाने में जुटे हैं। सोशल मीडिया पर भी इसको लेकर अभियान चला हुआ है। इसी के चलते जिला प्रशासन किसानों को मनाने के लिए थाना टोल पर पहुंचा।

Advertisement

कुछ ऐसा मत करना कि हमें गोली चलानी पड़े
प्रशासन की ओर से एसडीएम डॉ. संजय कुमार, जिला परिषद के सीईओ सुरेश राविश व डीएसपी विवेक चौधरी ने किसानों के साथ बैठक की। इस दौरान किसानों को एसडीएम ने कहा कि शांतिपूर्वक विरोध जताना। मैं आपको यह नहीं कह रहा कि विरोध न करो, आप नारे लगाओ या काले झंडे दिखाओ, लेकिन ऐसा कुछ मत करना, जिससे तनाव की स्थिति पैदा हो।

Advertisement

मेरी फोर्स आपको नुकसान नहीं पहुंचाएगी। आप तितरम मोड़ पर होने वाले धरनों पर भी देख ही चुके हो कि मैंने कभी किसी लठैत को वहां खड़ा नहीं किया। सीएम के प्रोग्राम में भी शांति बनाए रखना। कुछ गलत होता है तो दोनों तरफ से मेरा नुकसान होगा। मैं प्रशासन और किसानों की तरफ से किसी एक को भी नहीं खोना चाहता।

जानता हूं अपनों को खोने का दर्द

यह कहते हुए एसडीएम की आंखों में आंसू आ गए। आंसू पोंछते हुए कहा कि आप वहां अपने बच्चों के लिए जाएंगे और मैं अपने बच्चों के लिए। बस एक बात का ध्यान रखना कि फोर्स को तेजधार हथियार से गंभीर चोट न मार देना। फायरिंग की नौबत आई तो गोली घुटनों से नीचे ही मारेंगे। एसडीएम की यह बात सुनकर मीटिंग में मौजूद किसानों ने कहा कि एसडीएम साहब पैरों में ही क्यों हमें छाती पर गोली मारना। बस पीठ पर गोली मत चलाना। आपकी आंखों में पानी हैं हमारी आंखों में लहू है।

किसानों ने शांति बनाए रखने का दिया आश्वासन

जिला प्रशासन के साथ मीटिंग में मौजूद किसानों ने कहा कि किसानों की ओर से तो कभी हिंसा नहीं हुई। वे तो शांतिपूर्ण धरने प्रदर्शन कर रहे हैं। सीएम ही चैलेंज दे रहे हैं। इसलिए वे सीएम को कैथल में नहीं घुसने देंगे और न ही हेलिकॉप्टर उतरने देंगे। सीएम शाम 7 बजे इसलिए ही आना चाहते हैं कि हालात बिगड़ जाएं। वे कार्यक्रम में पहुंचने वाले किसी अग्रवाल नेता का विरोध नहीं करेंगे।

चाहे अग्रवाल समाज का विधायक हो या फिर सांसद। प्रशासनिक अधिकारियों ने किसानों से कार्यक्रम से निश्चित दूरी बनाकर रखने, शांति बनाए रखने आदि की बात कई बार कही तो किसानों ने कहा कि मामला सिर्फ कैथल जिले का नहीं हैं। सीएम ने पूरे प्रदेश के किसानों को चैलेंज किया है। किसान तो पूरे प्रदेश से इकट्ठा होंगे, पंजाब से भी किसान पहुंचेंगे। अब बात उनके बस से बाहर हो चुकी है।

17 टोल पर न्योता, गुरुद्वारे में बनेगा लंगर

भाकियू के जिला प्रधान होशियार सिंह गिल ने कहा कि उनका किसी समाज से कोई विरोध नहीं हैं। महाराजा अग्रसेन तो समाज को बसाने वाले थे। उन्होंने एक ईंट एक रुपए का नारा देकर समाज को बसाने का कार्य किया। किसान भी महाराजा अग्रसेन जयंती को मनाएंगे। विरोध तो सीएम का होगा। सीएम का विरोध करने के लिए प्रदेशभर में 17 टोल प्लाजा पर जाकर न्योता दिया जा चुका है। नीम साहिब गुरुद्वारा में किसानों के लिए लंगर बनाया जाएगा।

Advertisement