Connect with us

जींद

कोरोना की दूसरी लहर का कहर, जींद में शहर से ज्यादा गांवों में लोग संक्रमित

Published

on

Advertisement

कोरोना की दूसरी लहर का कहर, जींद में शहर से ज्यादा गांवों में लोग संक्रमित

 

कोरोना की दूसरी लहर में शहरी क्षेत्र की बजाए ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण तेजी से बढ़ा है, जबकि कोरोना की शुरुआत में कोरोना पॉजिटिव के मामले शहरी क्षेत्र में ज्यादा थे, लेकिन शहरी क्षेत्र में लोगों के सचेत होने से संक्रमण ज्यादा नहीं फैल पाया, लेकिन कोविड नियमों का पालन नहीं होने से कोरोना संक्रमण ने ग्रामीणों को अपनी चपेट में ले लिया।

Advertisement

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जिले में कोरोना के 1202 सक्रिय केस हैं। इसमें से शहरी क्षेत्र में 324, जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में 878 सक्रिय मरीज है। सक्रिय केसों के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में ज्यादा लोग कोरोना से मौत हुई है। संक्रमण बढ़ने के बावजूद ग्रामीण क्षेत्रों कोरोना टेस्ट नहीं करवाने पर स्वास्थ्य विभाग ने प्रत्येक गांव में सर्वे किया जा रहा है। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने 299 टीमें गांव में जाकर डोर-टू-डोर सर्वे कर रही है।

पानीपत में सुबह ही दोनों तरफ की दुकानें खुल गईं।

Advertisement

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जिले में अब तक एक लाख 21 हजार 514 मकानों का सर्वे किया जा चुका जा चुका है। इसमें छह लाख 51 हजार 984 लोगों के बुखार व आॅक्सीजन लेवल का चेक किया गया है। फिलहाल जिले की आधी आबादी का भी चेकअप नहीं हुआ है, इसके बावजूद अब तक 3384 लोग ऐसे मिले हैं जिनको कई-कई दिन से बुखार आ रहा है, लेकिन कोरोना टेस्ट करवाने की बजाए अपने स्तर ही गांव में इलाज ले रहे हैं।

ग्रामीणों द्वारा कोरोना महामारी को गंभीरता से नहीं लेने के चलते संक्रमण तेजी से बढ़ा है और काफी लोगों की मौत हो चुकी है। डिप्टी सिविल सर्जन डा. बिजेंद्र ढांडा ने बताया कि 15 मई से सर्वे अभियान चलाया जा रहा है और स्वास्थ्य विभाग की टीम प्रत्येक घर के सदस्य का चेकअप करेगी। जिन लोगों को बुखार मिला है उनके सैंपल लिए जा रहे हैं और उनका होम आइसोलेशन करके इलाज दिया जा रहा है।

Advertisement

कोरोना की स्थिति में हो रहा सुधार, 89 लोग मिले संक्रमित

जिले में कोरोना संक्रमण की स्थिति में निरंतर सुधार हो रहा है। जिला का रिकवरी रेट 91 फीसदी हो गया है। कोरोना के चलते सांस लेने में दिक्कत के चलते कोविड वार्ड में दाखिल हुए मरीज ठीक हो रहे हैं, वहीं नए मरीज भी अस्पताल में बहुत ही कम पहुंच रहे हैं। कोविड वार्ड से पिछले तीन दिन में 50 से ज्यादा मरीजों को ठीक होने के उपरांत डिस्चार्ज किया गया है। जिससे अस्पतालों में बेड की मारामारी से गंभीर रोगियों को राहत मिली है। नागरिक अस्पताल में बनाए गए अस्थाई कोविड वार्ड में 160 बेडों की व्यवस्था है, लेकिन इसमें से करीब 30 बेड खाली हो गए हैं। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार रविवार को 489 सैंपल रिपोर्ट में 89 लोग कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। जबकि 226 लोग स्वस्थ हुए हैं। जिले में अब तक 20063 कोरोना के संक्रमित मिले हैं। इसमें से 18 हजार 411 लोग कोरोना को हराकर स्वस्थ हो चुके हैं। रविवार को मात्र 306 लोगों के सैंपल लिए गए।

 

कोरोना से मरने वालों का सिलसिला जारी, दस की हुई मौत

कोरोना संक्रमण के मामलों में तो कमी आ गई, लेकिन मौत का आंकड़ा नहीं घट रहा है। जिले में अब तक 472 कोरोना संक्रमितों की मौत हो चुकी है। इसमें से 229 कोरोना संक्रमितों की मौत मई माह में हुई है। रविवार को भी छह महिलाओं सहित दस लोगों की कोरोना से मौत हुई है। इसमें गांव करसिंधु निवासी 78 वर्षीय सत्यनारायण, हिसार जिले के गांव के मोठ लुहारी निवासी 48 वर्षीय गीता, दखनिया मोहल्ला जींद निवासी 69 वर्षीय सुदेश, हिसार जिले के गांव कापड़ो निवासी 86 वर्षीय हवासिंह, गांव शामलो कलां निवासी 70 रोशनी देवी, उचाना निवासी 60 वर्षीय चंद्रपति, गांव झील निवासी 60 वर्षीय रामकुमार, गांव ईंटल खुर्द निवासी 55 वर्षीय बलवान, शिव कालोनी निवासी 52 वर्षीय सरोज, राजेंद्र नगर जींद निवासी 65 वर्षीय चंद्रकांता की मौत हो गई। प्रशासन ने सभी शवों का कोविड नियमानुसार अंतिम संस्कार करवाया।

 

 

Source : Jagran

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *