Connect with us

City

हरियाणा GT Road के इन जिलों में देखें जलभराव के हालात।

Published

on

Advertisement

सावन की झड़ी में हरियाणा के कई जिलों में जमकर बारिश हुई। सुबह पांच बजे शुरू बारिश के बाद पानीपत सहित कई शहरों में जलभराव हो गया। मुख्‍य मार्ग भी बारिश की वजह से लबालब नजर आए। जलभराव की वजह से वाहनों के पहिए थम गए। खेतों में पानी जमा होने से किसानों की चिंता बढ़ गई।

Advertisement

पानीपत में इन जगहों में जलभराव

Advertisement

हाली झील के पास, गुरुद्वारा मार्ग, पानीपत किसान भवन, असंध रोड रेलवे अंडर पास, पानीपत बस स्टैंड, पानीपत पंचरंगा बाजार, ऊझा रोड में जलभराव हुआ।

Rain

Advertisement

कैथल में बारिश की वजह से भरा पानी।

गत कई दिन से बारिश रुक-रुककर हो रही है। बुधवार सुबह पांच बजे एक साथ बारिश शुरू हो गई। पिछले कई दिनों से नगर परिषद व पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों के पानी निकासी को लेकर तैयारियां बोनी पड़ गई। शहर में पिपली से थर्ड गेट तक कई जगह घना पानी जमा हो गया।

 

Rain

इसके अलावा शहर में एक दर्जन से अधिक सड़कों व गलियों में पानी भर गया। दुखभंजन कालोनी के कई मकानों में पानी घुस गया। स्थानीय लोगों ने नगरपरिषद में सूचना दी, लेकिन कर्मचारी बरसात के आगे बेबस हो गए।

Rain

 

ऐसे में लोगों को मकानों से पानी निकालने के लिए खुद आगे आना पड़ा। सबसे अधिक थानेसर में 97 एमएम बारिश दर्ज की गई। इसके बाद इस्माईलाबाद में 80 एमएम बारिश हुई।

Rain

कुरुक्षेत्र में यहां इतनी बारिश हुई

थानेसर – 97 एमएम

पिहोवा – 79 एमएम

शाहाबाद – 24 एमएम

लाडवा – 44 एमएम

इस्माईलाबाद – 80 एमएम

बाबैन – 42 एमएम

Rain

कैथल में भी जलभराव

बुधवार सुबह तीन बजे से चल रही बारिश से शहर में पानी पानी हो गया है। सीवरेज ओवरफ्लो हो चुके हैं और गलियों में पानी भर चुका है।

Rain

बारिश के कारण तापमान में तो गिरावट आई है लेकिन गलियों में पानी भर जाने के कारण लोगों का घर से निकलना मुश्किल हो गया है। वहीं अब यह बारिश किसानों के लिए भी परेशानी बन सकती है।

Rain

पानीपत का बस स्‍टैंड।

जींद में माइनर ओवरफ्लो

सुबह आठ बजे तक जींद में सबसे ज्यादा बारिश जुलाना में 77 एमएम हुई। वहीं सफीदों में 40, पिल्लूखेड़ा में 38, नरवाना व उचाना में 30, जींद में 16 एमएम बारिश हुई।

Rain

पानीपत के ऊझा रोड में जलभराव।

ज्यादा बारिश होने से जुलाना और पिल्लूखेड़ा में धान की फसल के भी डूबने से खराब होने का डर सता रहा है। जुलाना के पोली गांव में माइनर ओवरफ्लो हो गई और खेतों में भी कई फीट तक पानी भर गया।

Source jagran

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *