Connect with us

पानीपत

पानीपत का श्री हाफिजाबादी राम नाटक क्‍लब सील, टैक्‍स चुकाया नहीं, कारें पार्किंग कराने लगे

Published

on

Advertisement

पानीपत का श्री हाफिजाबादी राम नाटक क्‍लब सील, टैक्‍स चुकाया नहीं, कारें पार्किंग कराने लगे

 

पानीपत की नगर निगम की टीम ने किले के पास श्री हाफिजाबादी राम नाटक क्‍लब की जगह को सील कर दिया। इस जगह पर 17 लाख रुपये प्रापर्टी टैक्‍स बकाया है। क्‍लब चलाने वालों ने नगर निगम से जगह लीज पर ली। इस जगह पर कुछ लागों ने कारों की पार्किंग शुरू करा दी। कार मालिकों से किराया वसूला जाने लगा। आरोप है कि किसी ने कब्‍जा करके ये काम शुरू कर दिया। मामला कोर्ट में भी चल रहा है।

Advertisement

पानीपत नगर निगम इन दिनों प्रापर्टी टैक्‍स वसूलने के लिए सक्रिय है। एक दिन पहले मित्‍तल मेगा माल की 11 दुकानों को सील किया तो शनिवार को टीम किला के पास श्री हाफिजाबादी राम नाटक क्‍लब पहुंची। मैदान में कारें खड़ी थीं, साथ ही ड्राइ क्‍लीन का भी काम चल रहा था। आरोप लगा कि ड्राई क्‍लीन करने वालों ने कब्‍जा कर रखा है।

पानीपत में हाफिजाबादी राम नाटक क्‍लब की जगह सील।

तीन दिन पहले नोटिस 

Advertisement

क्‍लब के लोगों ने बताया कि तीन दिन पहले ही नोटिस आया है। इतने कम समय के नोटिस पर 17 लाख रुपये का बिल कैसे जमा कराया जा सकता है। वहीं, निगम के सिटी प्रोजेक्‍ट आफिसर राकेश कादियान ने कहा कि कई बार नोटिस दिया गया है। कारें बाहर निकलवा लें। सील लग गई तो कार भी अंदर रह जाएंगी।

 

Advertisement

पांच कार अंदर रह गईं 

नगर निगम की टीम ने काफी देर तक इंतजार किया। करीब दो घंटे बाद मुख्‍य गेट पर ताला लगा दिया। अब पांच कार अंदर रह गई हैं। सील लगने के बाद कार मालिक पहुंचे। जब तक टैक्‍स नहीं भरा जाता, तब तक सील लगी रहेगी। तब तक कार भी अंदर रहेंगी।

 सीलिंग करने पहुंची नगर निगम की टीम।

कुछ पैसे जमा कराने लगे, सील कार्रवाई नहीं रुकी 

प्रापर्टी टैक्‍स का कुछ हिस्‍सा जमा कराने के लिए लोग पहुंचे। निगम अधिकारी राकेश कादियान ने कहा कि अब सीलिंग की ही कार्रवाई होगी। सोमवार को निगम कार्यालय में टैक्‍स जमा करवा देना। इसके बाद सील खोल देंगे।

टैक्‍स गणना पर सवाल 

क्‍लब के सदसय सुभाष, अजय ने बताया कि यह जगह 3700 गज है। निगम ने 15 हजार गज के हिसाब से प्रापर्टी टैक्‍स बनाया है। इसमें सुधार करना चाहिए। इतनी बड़ी रकम बन ही नहीं सकती। निगम ने जानबूझकर सील करने के लिए ही इतना बड़ी राशि का नोटिस दे दिया।

17 रुपये सालाना लीज 

हैरानी की बात ये है कि महज 17 रुपये सालाना लीज फीस ही ली जाती है। इसके बावजूद प्रापर्टी टैक्‍स जमा नहीं कराया जा रहा था।

कमिश्‍नर निलंबत हुए तो कार्रवाई शुरू हुई

प्रदेश के निकाय मंत्री गृहमंत्री अनिल विज ने कुछ दिन पहले नगर निगम के कमिश्‍नर सुशील कुमार को निलंबित किया था। विज ने कहा था कि नगर निगम प्रापर्टी टैक्‍स की वसूली नहीं कर पा रहा। इसके लिए कमिश्‍नर दोषी हैं। सुशील कुमार के निलंबन के बाद से नगर निगम की रिकवरी टीम इतनी सक्रिय हुई कि एक के बाद एक प्रापर्टी को सील किया जा रहा है। अब राजस्‍व भी बढ़ा है।

 

 

 

Source : Jagran

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *