Connect with us

पानीपत

सिविल अस्पताल में छह बेड की आइसीयू तैयार, रोहतक पीजीआइ नहीं जाना पड़ेगा

Published

on

Advertisement

सिविल अस्पताल में छह बेड की आइसीयू तैयार, रोहतक पीजीआइ नहीं जाना पड़ेगा

पानीपत के लोगों के लिए अच्छी खबर है। सिविल अस्पताल में इमरजेंसी और बर्न वार्ड के पास छह बेड की आइसीयू (गहन चिकित्सा यूनिट) बनकर तैयार है। मैन पावर की डिमांड डीजी हेल्थ कार्यालय को भेजी गई है।

Advertisement

अस्पताल के डिप्टी एमएस डा. अमित पोरिया ने दैनिक जागरण को बताया कि आइसीयू रनिंग में आने से मरीजों को काफी सहूलियत होगी। अति गंभीर मरीजों को खानपुर, रोहतक बहुत कम रेफर करना पड़ेगा। दो बेड की कोविड हाई डिपेंडेंसी यूनिट पहले से रनिंग में है। आइसीयू की व्यवस्था संभालने के लिए पांच डाक्टर, 20 स्टाफ नर्स, चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की जरूरत पड़ेगी। सिविल सर्जन कार्यालय में डिमांड भेज दी है।

सिविल सर्जन इस बाबत डीजी हेल्थ से चर्चा करते रहते हैं। डा. पोरिया के मुताबिक मैन पावर मिलने में देर हुई तो मौजूदा स्टाफ को प्रशिक्षण देकर यूनिट को रनिंग में लाने का प्रयास करेंगे। एनस्थेटिस्ट डा. सुरजीत और डा. विरेंद्र ढांडा जिम्मेदारी संभालेंगे।

Advertisement

सिविल अस्पताल में इमरजेंसी और बर्न वार्ड के पास छह बेड की आइसीयू।

हृदयरोगियों के लिए होगी व्यवस्था

Advertisement

आइसीयू बनने से दुर्घटना में घायल मरीजों की जान बचाना आसान होगा। इसके अलावा हृदय रोग से ग्रसित मरीजों के लिए अलग से कोरोनेरी केयर यूनिट शुरू की जाएगी। आइसीयू में मल्टी पैरा मानिटर होगा, जो मरीजों की सांस, खून एवं हृदय गति को काबू करेगा। वेंटीलेटर, सीरिंज पंप, इंफ्यूजन पंप, डिथ ब्रिलेटर, दवाओं के रखरखाव के लिए क्रेश कार्ड समेत अनेक हाईटेक उपकरण रहेंगे।

ब्लड बैंक के उपकरण मिलने शुरू

सिविल सर्जन डा. संतलाल वर्मा ने बताया कि कोविड लैब पूरी तरह रनिंग में है। अब ब्लड बैंक शुरू करने पर फोकस है। इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार है, सरकार से उपकरण मिलने शुरू हो गए हैं। कुछ मशीनरी इंस्टाल हो गई हैं।

 

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *