Connect with us

जींद

जींद में दुल्‍हनों के चक्‍कर में पड़ गए लेने के देने, जेल जाने से बचे हिसार के बराती

Published

on

Advertisement

जींद में दुल्‍हनों के चक्‍कर में पड़ गए लेने के देने, जेल जाने से बचे हिसार के बराती

जींद में दूल्‍हन को विदा कराने आए बराती जेल जाने से बच गए। यहां चार दुल्‍हनों की शादी की तैयारी चल रही थी। दूल्‍हे और उसके परिवार वालों को शपथ पत्र देना पड़ गया। इसके बाद ही बरात को जाने दिया गया। मामला बाल विवाह से जुड़ा हुआ है।

जींद में नाबालिग लड़कियों की नाबालिग लड़कों के साथ शादी हो रही थी।

Advertisement

जींद के हाडवा का मामला

जींद के हाडवा गांव के एक घर में चार सगी बहनों की शादी करवाई जा रही थी। इनमें दो छोटी बहनें तो नाबालिग थी ही, जिनके साथ उनकी शादी हो रही थी, वह भी नाबालिग ही थे। महिला संरक्षण एवं बाल विवाह निषेध अधिकारी ने टीम के साथ मौके पर पहुंचकर शादी को रुकवाया और उनके बालिग होने तक शादी नहीं करने के बयान लिए। इस पर चार में से दो बड़ी दुल्हनों को ही विदा किया गया।

Advertisement

 

Advertisement

चार सगी बहनों की शादी

जिला महिला संरक्षण एवं बाल विवाह निषेध अधिकारी को सूचना मिली थी कि गांव हाडवा में चार सगी बहनों की शादी करवाई जा रही है। इनमें जो दो सबसे छोटी हैं, उनकी उम्र शादी के योग्य नहीं है।

 

हिसार से आई बरात

बरात हिसार के पाबड़ा गांव से आनी थी। पाबड़ा से बरात लेकर आने वाले चार दूल्हों में भी दो नाबालिग हैं। सूचना मिलते ही सहायक बाल विवाह निषेध अधिकारी रवि लोहान, एसआई राजबीर, सिपाही ओमप्रकाश, आरती, नीलम पिल्लूखेडा पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे। बारात आई हुई थी।

 

कागजात मांगे तो मचा हड़कंप

टीम ने यहां वर व वधू के जन्म से संबंधित कागजात मांगे तो बारात में हडकंप मच गया। मौके पर दूल्हा पक्ष ने जो कागजात दिए गए, उसमें दोनों छोटे लड़के नाबालिग मिले। दुल्हन पक्ष में चार लड़कियों में से छोटी लड़की की उम्र 14 साल और उससे बड़ी की उम्र 16 साल मिली।

 

सहमति के बाद छोड़ा

टीम ने शादी न करने के लिए दोनों पक्षों को समझाया व कहा कि लड़कियों की उम्र 18 वर्ष व लड़कों की उम्र 21 वर्ष पूरी होने के बाद ही उनकी शादी करें। नहीं तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा सकती है। इस पर दोनों परिवार सहमत हो गए और शादी को स्थगित कर दिया गया। बरात सिर्फ बड़ी दो दुल्हनों को लेकर वापस लौट गई।

 

 

Source : Jagran

Advertisement