Connect with us

विशेष

सांसों के लिए संघर्ष! दिल्ली के 3 अस्पतालों में ऑक्सीजन संकट, HC ने कहा- तुरंत दें ध्यान

Published

on

Advertisement

सांसों के लिए संघर्ष! दिल्ली के 3 अस्पतालों में ऑक्सीजन संकट, HC ने कहा- तुरंत दें ध्यान

कोरोना संकट के बीच दिल्ली में ऑक्सीजन की किल्लत का मसला दिल्ली हाईकोर्ट (HC) पहुंच चुका है. सुनवाई के दौरान दिल्ली सरकार के वकील ने कहा कि दिल्ली को ऑक्सीजन का अपना आवंटित कोटा नहीं मिल रहा है. अन्य राज्यों के विपरीत दिल्ली को वह नहीं मिल रहा है, जिसकी उसे आवश्यकता है. केंद्र ने हमें अपने यहां टैंकर मंगाने को कहा है, हमें टैंकर कहां से मिलेंगे? उधर, तीन बड़े अस्पतालों ने ऑक्सीजन की कमी का मुद्दा उठाया. जिसपर HC ने दिल्ली सरकार से अस्पतालों की आवश्यकताओं को तुरंत देखने के लिए कहा.

दिल्ली में ऑक्सीजन संकट

Advertisement

दिल्ली के सीताराम भारतीय अस्पताल, वेंकेटेश्वर अस्पताल और इंस्टीट्यूट ऑफ ब्रेन एंड स्पाइन, लाजपत नगर ने हाईकोर्ट को बताया कि उनके यहां ऑक्सीजन की किल्लत है. वहीं, दिल्ली सरकार की दलील और केंद्र की दलील सुनने के बाद HC ने कहा ​​है कि राजधानी को प्राप्त ऑक्सीजन आपूर्ति पर केंद्र और दिल्ली सरकार के आंकड़ों के बीच विसंगतियां हैं.

इसके अलावा हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार को यह भी सुनिश्चित करने का निर्देश दिया कि कोई भी दवा या उपकरण एमआरपी से अधिक दाम पर न बेचे जाएं. इस नियम उल्लंघन करने वालों के खिलाफ के कार्रवाई के जानी चाहिए. हाईकोर्ट ने ICMR को कोर्ट में पेश होने के लिए कहा है.

Advertisement

दिल्ली सरकार ने कहा कि हमने दिल्ली के लिए जो किया वो केंद्र के मुकाबले बेहतर है. दिल्ली सरकार की ओर से कहा गया कि हमने 20 MT, 25 MT, 20 MT, 26 MT, 12 MT, 16 MT और 15 MTके 7 टैंकर प्राप्त करने में कामयाबी हासिल की है.

इसपर सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि हमें केंद्र पर जिम्मेदारी डालने पर आपत्ति है. कई गैर-औद्योगिक राज्य हैं जो खुद ही ऑक्सीजन टैंकरों की व्यवस्था कर रहे हैं, दिल्ली सरकार को कुछ नई सोच की जरूरत है.

Advertisement

उधर, केंद्र ने दिल्ली HC में एक अर्जी दायर की है, जिसमें कहा गया है कि वह कल HC द्वारा पारित आदेश को वापस ले ले. कम से कम अवमानना ​​का हिस्सा आदेश से हटाया जाए. हालांकि, दिल्ली सरकार ने कल के आदेश को वापस लेने के लिए केंद्र के आवेदन का विरोध किया.

दरअसल, सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने कहा था कि पानी अब सिर से ऊपर चला गया है, किसी भी हाल में आज (1 मई) 490 MT ऑक्सीजन पहुंचनी चाहिए. अगर इसका पालन नहीं किया गया तो अदालत की अवमानना माना जाएगा.

गौरतलब है कि शनिवार को दिल्ली के बत्रा अस्पताल में ऑक्सीजन खत्म हो गई थी. इस वजह से 12 कोविड मरीजों ने अपना दम तोड़ दिया. अस्पताल प्रशासन की तरफ से बताया गया था कि सभी से संपर्क साधा गया था, लेकिन कहीं से कोई मदद नहीं मिली. वहीं जब ऑक्सीजन की आपूर्ति की भी गई तो वो काफी देर से हुई जिस वजह से मरीजों की मौत हो गई.

मालूम हो कि दिल्ली में इस समय ऑक्सीजन की भारी किल्लत हो रही है. जिसके चलते केंद्र और दिल्ली सरकार आमने-सामने हैं. कई मरीज ऑक्सीजन की कमी के चलते अस्पतालों में दम तोड़ चुके हैं.

 

 

 

 

Source : Aaj Tak

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *