Connect with us

पानीपत

दो माह में 14 बार शिकायत करने पर सफाई के लिए भेजी सुपर सकर मशीन, वह भी खराब

Published

on

Advertisement

दो माह में 14 बार शिकायत करने पर सफाई के लिए भेजी सुपर सकर मशीन, वह भी खराब

वार्ड-15 की शिव नगर काॅलाेनी में 3 माह से जाम सीवर लाइन की सफाई कराने के लिए पार्षद सुमन छाबड़ा के पति अशाेक छाबड़ा ने 2 महीने में 14 बार शिकायत की। जिन पर पब्लिक हेल्थ ने मंगलवार काे सीवर सफाई के लिए जाे सुपर सकर मशीन भेजी, वह खराब निकली। इस पर स्थानीयवासियों ने खूब हंगामा किया। भाजपा नेता अशाेक छाबड़ा, क्षेत्रवासी नरेश काैशिक, सतीश जिंदल, मनाेज वर्मा व अन्य ने आराेप लगाया कि एक साल से सीवर सफाई का काम ठेके पर दिया हुआ है।

Advertisement

तभी से ही ठेकेदार ने शहर का सत्यानाश कर दिया है। पब्लिक हेल्थ व नगर निगम अधिकारियाें पर भी आराेप लगाया कि ये भी ठेकेदार से कमिशन लेकर चुप बैठ गए हैं। इसलिए सीवर लाइन की सफाई न के बराबर हाे रही है। शिव नगर की 3 माह से जाम सीवर लाइन इसका सबसे बड़ा उदाहरण है।

Advertisement

विधायक, मेयर, डीसी तक शिकायत पहुंचने पर भी समाधान नहीं
पार्षद पति अशाेक छाबड़ा का कहना है कि उन्हाेंने जिस ग्रुप पर 14 बार शिकायत डाली, उससे विधायक प्रमाेद विज, मेयर अवनीत काैर, डीसी धर्मेंद्र सिंह, नगर निगम कमिश्नर डाॅ. मनाेज कुमार यादव व अन्य अधिकारी, पब्लिक हेल्थ एक्सईएन व अन्य अधिकारी और सफाई ठेकेदार नरेश कुमार भी जुड़ा है। उन्हाेंने पहली शिकायत 5 अक्टूबर, दूसरी 17, तीसरी 3, चाैथी 9, 5वीं 13, छठी 17, 7वीं 18, 8वीं 21, नाैवीं 24 व 10वीं 30 सितंबर, 11वीं 1 दिसंबर, 12वीं 2, 13वीं 5 व 14वीं 7 दिसंबर में की है। बावजूद इसके खराब मशीन भेज हमारा मजाक बना दिया।

सुपर सकर मशीन का गीयर बाॅक्स धारूहेड़ा से आएगा
ठेकेदार नरेश कुमार का कहना है कि विभाग की सुपर सकर मशीन मेड इन इटली की है। इसलिए इसके खराब स्पेयर पार्ट लाेकल मार्केट में नहीं मिलते। 15 से गीयर बाक्स खराब है। यह इटली से मंगवाया है। अब धारूहेड़ा पहुंच चुका है। किसानाें के भारत बंद चलते साेमवार काे पानीपत नहीं आ पाया। बुधवार आने की उम्मीद है। साथ में मैकेनिक भी बुलवाए हैं। वे रातभर लगकर मशीन ठीक करेंगे।

Advertisement

गुरुवार तक ठीक हाे जाएगी मशीन
मशीन का खराब पार्ट धारूहेड़ा आ चुका है। बुधवार काे पानीपत में आने की उम्मीद है। गुरुवार तक मशीन ठीक हाेकर काम पर लग जाएगी। शहरवासियाें से भी अपील है कि नालाें व सीवर में प्लास्टिक पॉलिथीन व बाेतलें न फेंकें। डेयरियाें का गाेबर भी मत बहाएं। इनके कारण सीवर जाम हाेते हैं। – भूपेंद्र सिंह, एसडीओ, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग, पानीपत।

 

 

Source : Bhaskar

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *