Connect with us

City

इलाज की आड़ में तांत्रिक ने की एक करोड़ 54 लाख की धोखाधड़ी, कार्रवाई के नाम पर एएसआई ने भी ठगा

Published

on

Advertisement

इलाज की आड़ में तांत्रिक ने की एक करोड़ 54 लाख की धोखाधड़ी, कार्रवाई के नाम पर एएसआई ने भी ठगा

करनाल से एक तांत्रिक ने कुछ लोगों के साथ मिलकर एक व्यक्ति के साथ उसकी पत्नी के ईलाज की आड़ में एक करोड़ 54 लाख रुपये की धोखाधड़ी करने का मामला सामने आया है। वहीं व्यक्ति जब न्याय की उम्मीद लेकर पुलिस के पास पहुंचा तो जांच अधिकारी ने रकम वापस दिलाने की आड़ में 12 लाख 70 हजार रुपये ऐंठ लिए। जानकारी के अनुसार आरोपित एएसआई ने उच्चाधिकारियों का हवाला देते हुए उससे 13 लाख रुपये की मांग की थी, जो अब सेवानिवृत भी हो चुका है। बताया जा रहा है कि मामला करीब दो साल पुराना है, जो गृह सचिव तक भी पहुंचा था। डीएसपी द्वारा मामले की जांच के बाद अब आरोपित एएसआई के खिलाफ क्रप्शन एक्ट के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

करनाल में इलाज के नाम पर 1 करोड़ 54 लाख रुपये की ठगी।

Advertisement

 

एएसआई ने मांगी रिश्वत

Advertisement

गांव कुडक जागीर वासी सुदेश कुमार ने 29 नवंबर 2019 को तरावड़ी थाना में मामला दर्ज कराया था, जिसमें उस समय वहीं पर तैनात एएसआई राजबीर सिंह जांच अधिकारी थे। शिकायतकर्ता के आरोप है कि एएसआई ने उसे कहा था कि पैसे निकलवा दूंगा, जिसकी एवज में 13 लाख रुपए देने होंगे। जांच अधिकारी ने कहा था कि राशि उच्च अधिकारियों को भी देनी पड़ती है, ताकि मामले में कार्रवाई हो सके। उसने एएसआई पर भरोसा करते हुए अलग-अलग समय पर 12 लाख 70 हजार रुपए दे दिए। आरोप है कि एएसआई कई बार उसके साथ पैसे लेने के लिए आढ़ती के पास भी गया, लेकिन उन्होंने न आरोपितों को गिरफ्तार किया और न ही उनसे हड़पी गई रकम वापस दिलाई।

 

Advertisement

समझौते पर हस्ताक्षर करवाने का डाला दबाव

कुछ समय बाद उनका तबादला दूसरे थाने में भी हो गया और वे उनके पीछे वहां भी चक्कर लगाते रहे। बाद में उसे ही किसी केस में फंसा देने की धमकी देने लगे। समझौते पर हस्ताक्षर करवाने के लिए दबाव भी डाला गया। पीड़ित ने बताया कि वह छह माह के दौरान अनेकों जगह शिकायत दे चुका, लेकिन एएसआई के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई। करनाल पुलिस से मिलीभगत कर वह बचता रहा। पीड़ित ने किसी दूसरे जिले की पुलिस से जांच कराए जाने की मांग की थी, जिसके बाद डीएसपी पेहवा को जांच सौंपी गई। जांच में एएसआई पर आरोप सही पाए जाने व कार्रवाई की सिफारिश के बाद पुलिस अधीक्षक कुरुक्षेत्र के मार्फत मामला करनाल पुलिस अधीक्षक के पास पहुंचा, जिसके बाद आरोपित एएसआई के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया। हालांकि आरोपित एएसआई सेवानिवृत हो चुका है।

अब डीएसपी जगदीप दून करेंगे जांच

तरावड़ी थाना में आरोपित एएसआई के खिलाफ एंटी क्रप्शन एक्ट के तहत मामला दर्ज कर जांच अब डीएसपी सिटी टू जगदीप दून को सौंपी गई है। वहीं पुलिस विभाग में यह मामला चर्चा का विषय बना हुआ है। उधर बताया जा रहा है कि पिहोवा डीएसपी स्तर पर की गई जांच के दौरान पीड़ित व आरोपित एएसआई के बीच पैसे के संबंध में बातचीत होनी पाई गई है।

पत्नी के ईलाज के लिए बेच दी थी पांच एकड़ जमीन

सुदेश कुमार ने तरावड़ी पुलिस थाना में जून माह में शिकायत दी थी, जिसमें आरोप लगाते हुए बताया था कि उसकी पत्नी कईं माह से बीमार थी, जिसे सतपाल सिंह पड़वाला ने तांत्रिक क्रिया के जरिए ठीक करने का भरोसा दिया था। आरोपित के कहे अनुसार उसने अपनी पत्नी के ईलाज के लिए पैसे का बंदोस्त पांच एकड़ जमीन बेचकर किया था। करीब एक करोड़ 54 लाख रुपये दिए जाने के बावजूद आरोपित 30 लाख रुपये और देने का दबाव देने लगा। यहां तक कि धमकी दी कि यह राशि नहीं दी तो वह उसकी पत्नी को ठीक न हीं होने देगा। जब वह उससे पैसे वापस मांगता तो कुछ सुंघाकर हालत खराब कर देता था। बाद में उसने पुलिस को शिकायत दी, जिसके बाद पुलिस ने आरोपित सतपाल सिंह, अखिल व सीमा के खिलाफ केस दर्ज किया था।

मुख्यालय भेजी जाएगी रिपोर्ट : एसपी

एसपी गंगा राम पूनिया का कहना है कि आरोपित एएसआई के खिलाफ जांच के बाद क्रप्शन एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। फिलहाल वह सेवानिवृत है। पूरे मामले की रिपोर्ट मुख्यालय भेजी जाएगी, जिसके बाद आदेशानुसार अगली विभागीय कार्रवाई की जाएगी।

Advertisement