Connect with us

City

चालीस फीट के टावर पर चढ़ा आढ़ती का बेटा, चढ़ूनी-टिकैत से बात करने के बाद क्रेन से उतरा

Published

on

चालीस फीट के टावर पर चढ़ा आढ़ती का बेटा चढ़ूनीटिकैत से बात करने के बाद क्रेन से उतरा
Advertisement

करनाल में किसानों पर लाठीचार्ज का विरोध करते हुए आढ़ती जयपाल छौक्कर का बेटा जोगिंद्र अनाजमंडी में बिजली के टावर पर चढ़ गया। करीब सवा छह घंटे तक हाईवोल्टेज ड्रामा हुआ। जोगिंद्र छौक्कर की मांग थी कि करनाल के उस एसडीएम आयुष सिन्हा को सस्पेंड किया जाए, जिसने लाठीचार्ज का आदेश दिया था। अगर उसकी बात नहीं मानी तो वह छलांग भी लगा देगा। समालखा का पूरा प्रशासन मौके पर पहुंच गया। भाकियू के जिला अध्यक्ष सोनू शहरमालपुर क्रेन से ऊपर पहुंचे। गुरनाम सिंह चढ़ूनी और राकेश टिकैत से बात कराई। तब जाकर छौक्कर नीचे उतरा।

jagran

Advertisement

पानीपत के इस टावर पर चढ़ा था जोगिंद्र छौक्कर।

सुबह 10 बजे टावर पर चढ़ा जोगिंद्र

Advertisement

जाेगिंद्र सुबह करीब साढ़े दस बजे टावर पर चढ़ा। जैसे ही इसकी सूचना मिली जिला प्रशासन ने एक्सईएन अनिल नागर, एसडीएम विजेंद्र हुड्डा, डीएसपी संदीप कुमार, थाना समालखा प्रभारी नरेंद्र कुमार, चौकी प्रभारी हरिराम मौके पर पहुंचे। फायर ब्रिगेड और एंबुलेंस को भी बुलाया गया। एक क्रेन मौके पर खड़ी की गई। जैसे ही क्रेन ऊपर जाती, जोगिंद्र कहता कि जबरदस्ती की तो वह छलांग लगा देगा। वह कह रहा था कि करनाल के एसडीएम के तबादले से वह संतुष्ट नहीं है। उसे निलंबित किया जाए।

पानीपत में चालीस फीट ऊंटे टावर पर चढ़ा जोगिंद्र छौक्कर।

Advertisement

इस तरह मनाया

सवा तीन बजे के करीब चुलकाना के उसके मित्र अनिल ने टावर पर चढ़कर उसे समझाया। उसके बाद भाकियू के जिला प्रधान सोनू शहरमालपुर ने भी टावर पर जाकर उसे समझाया। किसान मोर्चा के नेता गुरनाम सिंह चढूनी और राकेश टिकैत से बात करवाई। उसका छोटा भाई भी उसे समझाने टावर पर गया। पिता जयपाल छौक्कर भी नीचे से उतरने की अपील करते रहे। तब उसका दिल पसीजा।

jagran

किसान एकता जिंदाबाद के लगाए नारे

नीचे उतरने के लिए तैयार होने के बाद जोगिंद्र ने किसान एकता जिंदाबाद के नारे लगाए। प्रशासन, पिता सहित लोगों से माफी मांगी। किसान नेताओं के एसडीएम के खिलाफ कार्रवाई करवाने का भरोसा देने के बाद नीचे उतरे। भाकियू प्रधान की गाड़ी में बैठकर घर गए। चौकी प्रभारी हरिराम ने बताया कि मामले में अभी कोई कार्रवाई नहीं की गई है। शाम 4:50 बजे उसके नीचे उतरने पर सभी ने राहत की सांस ली।

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *