Connect with us

City

पानीपत में मानसून की पहली तेज बारिश में शहर पूरी तरह डूब गया, देखे तस्वीरें

Published

on

पानीपत में मानसून की पहली तेज बारिश में शहर पूरी तरह डूब गया देखे तस्वीरें
Advertisement

Advertisement

Advertisement

इस मानूसन की पहली बरसात ने जहां शहर वासियों को गर्मी से राहत प्रदान की,वहीं शहर भर में हुए जलभराव ने प्रशासन के बारिश के पानी के निकासी के दावों की भी पोल खोल कर रख दी है।

Advertisement

हालांत यह बने की शहर की लाइफ लाईन जी.टी.रोड पर भी कई-कई फुट तक पानी खड़ा हो गया। जिससे जी.टी.रोड पर वाहनों की कतार लग गई।


बता दें कि ऐतिहासिक एवं औद्योगिक नगरी पानीपत हमेशा से ही बारिश के पानी से परेशान रहा है। अगर अच्छी सी बारिश हो जाए तो शहर का कोई भी कोना जलभराव से अछूता नहीं रहता।

Advertisement

यह बात अलग है कि नगर निगम हर बार बरसात शुरू होने से पहले डे्रन व गंदे नालों की सफाई करा दिए जाने की बात कहते हुए बारिश का पानी नहीं रूकने दिया जाएगा के दावे करता है पर हर बार ही नगर निगम के दावे बारिश के पानी में तैरते नजर आते हैं।

इस बार भी ऐसा ही हुआ गुरूवार को शहर में हुई तेज बारिश से पूरे शहर में जलभराव हो गया। यही नहीं शहर के निचले हिस्सों की कालोनियों में तो लोगों के घरों व दुकानों में भी पानी घूस गया। जिसे निकालने के लिए उन्हें पसीना बहाना पड़ा।

यहां हुआ जलभराव

शहर के पाश एरिया माडल टाउन, हुडा सेक्टर 6, 11-12, 13-17, 18, 25, 29, सनौली रोड, जाटल रोड, असंध रोड, एसडी कालेज रोड, इंसार बाजार, पचरंगा बाजार, गुड़मंडी, कलंदर पीर बाजार, पालिका बाजार, सुखदेव नगर,

देसराज कालोनी, बिशन सरूप कालोनी, गीता कालोनी, कच्चा कैंप, मुखीजा कालोनी, नूरवाला, एकता विहार, राम नगर, धूपसिंह नगर, विद्यानंद कालोनी, जसबीर कालोनी, मोतीराम कालोनी, इन्दिरा विहार कालोनी, हरिसिंह कालोनी, परशुराम कालोनी समेत दर्जनों कालोनियों व बाजारों में बारिश का पानी खड़ा हो गया।

जिससे कालोनी वासियों व राहगिरों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। यही नहीं नगर निगम की लापरवाही यहां तक देखने को मिली की शहर की लाइफ लाईन कहे जाने वाले जी.टी.रोड पर कई फुट तक पानी खड़ा हो गया। जिसके चलते जी.टी.रोड से गुजरने वाले वाहनों को जाम में फंसना पड़ा।

जाम लम्बा होने के बाद यातायात पुलिस को वाहनों को सेक्टर 18 के पास से टोल प्लाज से ऐलिवेटिड हाईवे से गुजारना पड़ा,

वहीं नांगल खेड़ी से भी ऐलिवेटिड हाईवे पर भेजना पड़ा।

Source Sk

Advertisement

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *