Connect with us

Uncategorized

निगम ने 24 लाख खर्च कर करवाई गई थी नालों की सफाई, फिर भी ओवरफ्लो

Published

on

Advertisement

नगर निगम द्वारा शहर में करवाई गई नालों व सीवर की सफाई व्यवस्था पर एक बार भी सवाल उठने लगे हैं। निगम ने जून माह में 24 लाख रुपये के बजट से सफाई कराई थी। फिर भी नाले व सीवर ओवरफ्लो होने लगे हैं। अभी शहर में ठीक से बारिश भी नहीं हुई, दूसरी तरफ सेक्टर 11-12, सनौली व ओल्ड इंडस्ट्रियल एरिया के हालात काफी खराब हो चुके हैं। इसमें सबसे ज्यादा खराब स्थिति सेक्टर 11-12 की है।

सेक्टर11-12 क्षेत्र शहर के सबसे वीआइपी एरिया में आता है। यहां लगभग दिनभर में 30 हजार से ज्यादा लोगों का आना जाना लगा रहता है। यहां नाले व सीवर दोनों ही ओवरफ्लो हो रहे हैं। अगर अगले कुछ दिनों में बारिश हुई तो शहर पूरी तरह से डूब जाएगा। अब नगर निगम की इस तरह की कार्यप्रणाली से अधिकारियों की कार्यशैली पर भी सवाल खड़े होने शुरू हो गए हैं। पहले ही नगर निगम के अधिकारियों व कर्मचारियों पर भ्रष्टाचार के आरोप लगते रहे हैं।

Advertisement

नाला गैंग शहर में सफाई व्यवस्था को लेकर हमेशा विवादों में रहा है। इससे शहर में ठीक से सफाई नहीं होने के कारण जगह-जगह सीेवर व नाले ओवरफ्लो हो जाते हैं। जानिए..शहर के कुछ क्षेत्र की ग्राउंड रिपोर्ट

24 लाख खर्च कर करवाई गई थी नालों की सफाई, फिर भी ओवरफ्लो

Advertisement

सेक्टर 11-12 : इस क्षेत्र में सबसे ज्यादा सीवर व नाले ओवरफ्लो की समस्या बनी रहती है। चाहे बारिश हो या न हो। कभी भी ओवरफ्लो की समस्या दूर नहीं हुई। पिछले माह ही नाले व सीवर की सफाई की गई थी।

ओल्ड इंडस्ट्रियल एरिया : यहां भी नालों की बहुत ही बुरी हालात है। नाले ओवरफ्लो हैं। सफाई होने की रिपोर्ट भी नगर निगम के अधिकारियों को सौंप चुके हैं।

Advertisement

किशनपुर बाजार : यहां सबसे ज्यादा लोगों की चहल-पहल रहती है। नाले पूरी तरह से ओवरफ्लो है और काफी गंदगी फैली हुई है। सफाई व्यवस्था के नाम पर हालात खराब। जनस्वास्थ्य विभाग देखेगा सीवर

नगर निगम के सफाई निरीक्षक रिकू शर्मा ने बताया कि नालों की सफाई के लिए छह सफाई गैंग हैं। अधिकतर एरिया की सफाई कर दी गई है और सीवर ओवरफ्लो हो रहे हैं तो जन स्वास्थ्य विभाग देखेगा।

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *