Connect with us

City

हरियाणा से होकर गुजरेगा देश का पहला इलैक्ट्रिक युक्त एक्सप्रेस-वे, जानिये कौनसे कौनसे जिलों से गुजरेगा ?

Published

on

Advertisement

हरियाणा से होकर गुजरेगा देश का पहला इलैक्ट्रिक युक्त एक्सप्रेस-वे, जानिये कौनसे कौनसे जिलों से गुजरेगा ?

देश को जल्द ही पहला इलैक्ट्रिक युक्त एक्सप्रेस वे मिलने की उम्मीद है। न्यू दिल्ली मुंबई ग्रीन एक्सप्रेस वे का का हवाई सर्वेक्षण केंद्रीय सड़क एवं परिवहन राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी 16 सिंतबर को करेंगे।

केंद्रीय मंत्री का हवाई सर्वेक्षण कार्यक्रम 16 सितंबर को गुरुग्राम के अलीपुर से शुरू होगा और मेवात होते हुए राजस्थान की ओर कूच करेगा। कार्यक्रम को लेकर एनएचएआई और जिला प्रशासन के अधिकारियों ने तैयारियां शुरू कर दी हैं।

Advertisement

आपको जानकारी देते हुए बता दें कि न्यू दिल्ली मुंबई ग्रीन एक्सप्रेस वे का निर्माण कार्य इस वक्त चल रहा है। यह एक्सप्रेस वे देश की जनता को साल 2023 में समर्पित किया जाना है।

Advertisement

1350 किलोमीटर लंबे इस मार्ग के बनने के बाद दिल्ली से मुंबई के बीच का सफर मात्र 12 घंटों में तय किया जा सकेगा। बताया जा रहा है कि यह मार्ग आठ लेन का बनाया जाना है। इस मार्ग पर सवा लाख करोड़ रुपये से अधिक खर्च किया जा रहा है।

एक्सप्रेस-वे दिल्ली से गुरुग्राम और मेवात, कोटा, रतलाम, गोदरा, बडोदरा, सूरत, दहिसर होते हुए मुंबई में समाप्त होगा। इस एक्सप्रेस-वे पर हर 50 किलोमीटर की दूरी पर पेट्रोल पंप, होटल, रेस्टोरेंट और पार्किंग की सुविधा प्रदान की जाएगी।

Advertisement

निर्माणाधीन न्यू दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे को ग्रीनफिल्ड एक्सप्रेस-वे बनाने के लिए इसपर 10 लाख पौधे लगाए जाएंगे। पर्यावरण संरक्षण की दिशा में निश्चित ही यह महत्वपूर्ण कदम हैं। उक्त एक्सप्रेस-वे पर इस समय पौधारोपण का काम तेजी से किया जा रहा है।

Fourlane highway

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों के अनुसार 350 किलोमीटर का एक्सप्रेस-वे बनकर तैयार हो चुका है। इसका निर्माण 2023 तक पूरा होने की संभावना है। मेवात की धरती से निकल रहे इस एक्सप्रेस वे की लंबाई करीब 80 किलोमीटर है।’

एनएचएआई की प्रस्तावित योजना के मुताबिक 1350 किलोमीटर इस ग्रीनफिल्ड एक्सप्रेस-वे पर बारिश के पानी के संचयन के लिए हर 500 मीटर की दूरी पर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाए जाएंगे। मेवात में एनएचएआई द्वारा जलसंचयन की दिशा में उठाया गया है यह अभी तक का सबसे बड़ा कदम होगा। इससे पहले इस तरह के प्रयास यहां संभव नहीं हो सके थे।

दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे का निर्माण इस समय मार्डन टेक्नोलाजी से हो रहा है। केंद्रीय सडक़ मंत्रालय की योजना के मुताबिक यह देश का पहला ऐसा इलेक्ट्रिक हाईवे होगा जिसपर इलेक्ट्रिक वायर लगाई जाएगी। इस इलेक्ट्रिक हाईवे पर आपको जल्द ही इलेक्ट्रिक ट्रक भी दौड़ते नजर आएंगे। संभावित आठ लेन के इस इलेक्ट्रिक हाईवे का उद्देश्य हाईवे को प्रदूषण से मुक्त करना है।

एक्सप्रेस-वे बनने के बाद केवल 12 घंटे में दिल्ली से मुंबई का सफर कार से लोग कर सकेंगे। वर्तमान में दिल्ली से मुंबई की दूरी सड़क मार्ग से लगभग 1510 किलोमीटर है। एक्सप्रेस-वे बनने के बाद दूरी 1350 किलोमीटर रह जाएगी। निर्माण पर लगभग 90 हजार करोड़ रुपये की लागत आएगी।

यह पांच राज्यों से होकर गुजरेगा, जिनमें हरियाणा, राजस्थान, मध्यप्रदेश, गुजरात एवं महाराष्ट्र शामिल हैं। नाम दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे है लेकिन इसकी शुरुआत गुरुग्राम जिले के गांव अलीपुर से है। अलीपुर में एक्सप्रेस-वे का सबसे बड़ा जंक्शन होगा।

इस एक्सप्रेस-वे की खासियत यह है कि यह पांच राज्यों के अधिकतर पिछड़े इलाकों से होकर गुजरेगा। इससे इलाकों में विकास के पंख लगेंगे। हरियाणा ही नहीं देश के पिछड़े इलाकों में शामिल नूंह जिले से होकर गुजरेगा। इससे नूंह इलाके की तस्वीर बदलने की उम्मीद है।

Advertisement