Connect with us

City

सरकार बीपीएल परिवारों के कोरोना मरीजों को वित्तीय सहायता देगी, प्राइवेट अस्पतालों में दाखिल हर गरीब कोरोना मरीज को 35 हजार रु. मिलेंगे

Published

on

Advertisement

सरकार बीपीएल परिवारों के कोरोना मरीजों को वित्तीय सहायता देगी, प्राइवेट अस्पतालों में दाखिल हर गरीब कोरोना मरीज को 35 हजार रु. मिलेंगे

 

हरियाणा सरकार बीपीएल परिवारों के कोरोना मरीजों को वित्तीय सहायता देगी। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बुधवार को इसकी घोषणा की। उन्होंने कहा कि सरकार प्रदेश के निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन या आईसीयू बेड पर उपचाराधीन बीपीएल परिवारों के कोरोना संक्रमितों के लिए रोजाना प्रति मरीज 5000 रुपए (अधिकतम 7 दिन) यानी 35000 रुपए की सहायता देगी।

Advertisement

मुख्यमंत्री मनोहर लाल - Dainik Bhaskar

प्रदेश के मरीजों को भर्ती करने वाले निजी अस्पतालों को भी हर दिन प्रति मरीज 1000 रुपए या अधिकतम 7000 रुपए तक की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी, ताकि निजी अस्पतालों में हरियाणा के कोरोना मरीज भर्ती हो सकें। यह राशि सीधे अस्पताल के खाते में जाएगी। सीएम ने कहा कि होम आइसोलेशन में रहने वाले बीपीएल को दवा, ऑक्सीमीटर आदि के खर्च के लिए 5000 रुपए मिलेंगे। राशि संबंधित व्यक्ति के खाते में भेजी जाएगी।

Advertisement

निजी अस्पतालों के लिए बेड, वेंटिलेटर के रेट तक किए

राज्य में बेड व अन्य सुविधाओं के रेट फिक्स किए गए हैं। राज्य में 42 निजी अस्पताल कोविड मरीजों का इलाज कर रहे हैं। सरकार ने एनएबीएच व जेसीआई मान्यता प्राप्त अस्पतालों में आइसोलेशन बेड का 10000 रुपए, बिना वेंटिलेटर के आईसीयू बेड का 15000 रुपए व वेंटिलेटर युक्त आईसीयू बेड का 18000 रुपए प्रतिदिन की दर से रेट तय किए हैं। बिना एनएबीएच मान्यता प्राप्त अस्पतालों में आइसोलेशन बेड का 8000 रु., बिना वेंटिलेटर के आईसीयू बेड का 13000 रु. व वेंटिलेटर आईसीयू बेड का 15000 रुपए प्रतिदिन की दर से रेट तय किए हैं।

Advertisement

जहां जरूरत वहां दिए जाएंगे वेंटिलेटर

सीएम ने कहा कि वे नूंह के मेडिकल कॉलेज में गए थे। वहां 80 वेंटिलेटर में से 34 चालू हैं, 46 नहीं चल रहे हैं। इनमें से 16 और नूंह के काॅलेज में चालू कर दिए गए हैं। आसपास के स्थानों पर वेंटिलेटर न होने पर 5 रेवाड़ी, 5 पलवल के लिए भेजे गए हैं।

तैयारी गांवों में लगाए जाएंगे कैंप 15 मई तक कोरोना का पीक होगा

ग्रामीण इलाकों में प्रारंभिक जांच के लिए कैंप लगाए जाएंगे। सीएम ने कहा है कि हर जिले में हेल्पलाइन बना दी है। इसमें तीनों शिफ्टों में 8 से 10 व्यक्ति होंगे। सीएम ने कहा है कि विशेषज्ञ बता रहे हैं कि 15 मई के आसपास कोरोना का पीक होगा। आज कोविड संख्या 20% बढ़ जाए, तो करीब 1.30 लाख मरीज हो सकते हैं।

सहयोग घर-घर में अनाज वितरण के लिए वॉलंटियर का लेंगे सहयोग

पांच किलोग्राम अनाज का वितरण करने के लिए वॉलेंटियर से संपर्क करेंगे। नए वॉलंटियर का पंजीकरण करेंगे, ताकि घर-घर डिलीवरी की जा सके। वॉलेंटियर को पास बनाकर देंगे। किरयाना व्यापारी भी होम डिलीवरी कर सकेंगे। वे अपने यहां काम करने वालों के मूवमेंट पास बनाकर राशन की होम डिलीवरी करा सकेंगे।

 

 

Source : Bhaskar

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *