Connect with us

पानीपत

पानीपत असंध पुलिस चौकी के दो हवलदारों की कहानी, जिन्‍होंने नहर में कूदकर महिला की जान बचाई,

Published

on

Advertisement

एक महिला को नहर में डूबने से बचाने के लिए दो हेडकांस्टेबल ने अपनी जान की भी परवाह नहीं की। वर्दी में ही पहले एक ने छलांग लगाई, फिर दूसरा भी कूद गया। आखिरकार, महिला को बचाकर ही बाहर निकले। ये दोनों हैं असंध पुलिस चौकी पर तैनात हेडकांस्टेबल रामराज और संजय। दोनों ही गांव के तालाब में नहाने जाते थे। तब इन्होंने तैराकी सीखी थी। यही सीख काम आई और महिला की जान बचा ली। आपको बताते हैं इनके बारे में।

असंध रोड नहर से महिला को बाहर निकालते पुलिसकर्मी।

Advertisement

हेडकांस्टेबल रामराज पानीपत के गांव दरियापुर में रहते हैं। महिला ने जब नदी में छलांग लगाई तो उन्होंने अपने कर्तव्य का निर्वहन करने व उसे बचाने के लिए वर्दी में ही छलांग लगा दी। महिला के पास पहुंचा तो चुन्नी व उसके बाल हाथ में आ गए। उनके पीछे आए कैथल के गांव रमाणा निवासी हेडकांस्टेबल संजय ने भी बिना सोचे नदी में छलांग लगा दी। दोनों  मिलकर महिला को किनारे पर लेकर आए। रामराज ने बताया कि बचपन में गांव के तालाब में नहाने जाते थे तो वहां तैरना  सीख गए थे। इसका फायदा महिला को बचाने में मिला।

Panipat Police

Advertisement

ये हुआ था

सोंधापुर वासी 18 वर्षीय युवती नीतिका अपने स्वजनों के साथ अपनी मां सोना देवी की शिकायत करने असंध नहर नाका चौकी में जा रही थी। उसकी मां सोना देवी भी पीछे-पीछे उनके साथ चल पड़ी। जब बेटी शिकायत देने के लिए चौकी के नजदीक पहुंची तो उसकी मां सोना देवी ने वापस दौड़कर नहर में छलांग लगा दी। इसका पता चलते ही हेडकांस्टेबल रामराज और संजय ने भी नहर में कूदकर महिला को सुरक्षित बाहर निकाल लिया। नीतिका ने बताया कि उसका पिता शिवकुमार ट्रक ड्राइवर है। उसकी मां सोना देवी व  चाचा सोमपाल उसे तंग करते हैं। दोनों मिलकर उसके साथ मारपीट करते हैं। उन दोनों से उसे जान का खतरा है। वह मां के साथ नहीं रहना चाहती। बदनामी के डर से उसकी मां ने नहर में छलांग लगाई थी।

Advertisement

डीएसपी ने  की तारीफ

एरचसी रामराज व संजय ने बताया कि डीएसपी हेडक्वार्टर सतीश कुमार वत्स व मॉडल टाउन थाना प्रभारी सुनील कुमार ने उन दोनों को बुलाया था। दोनों की बहादुरी की प्रशंसा की।

मोबाइल हो गया खराब

महिला को बचाने के लिए आनन फानन नहर में कूदे रामराज ने जल्दबाजी में अपना मोबाइल फोन व पर्स भी जेब से नहीं निकाला। उसका मोबाइल फोन पानी में डूब गया। पानी लगने से मोबाइल, पैसे, आइडी  प्रूफ खराब हो गए। रामराज का कहना है कि महिला की जान बच गई। उन्हें मोबाइल फोन खराब होने का अफसोस नहीं है।

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *