क्राइम इनवेस्टिगेशन एजेंसी (सीआइए-थ्री) ने अंतरराज्यीय अवैध हथियार तस्कर गिरोह का पर्दाफाश कर चार तस्करों को गिरफ्तार किया है। तस्करों के कब्जे से 35 देसी पिस्तौल और 45 मैगजीन बरामद हुई हैं। इन हथियारों को 18 लाख रुपये में बेचा जाना था।

गिरफ्तार आरोपित उत्तर प्रदेश के जिला सहारनपुर के गांव बुढ़ाखेड़ा गांव के महफूज उर्फ फौजी हाल पता बलजीत नगर, मध्यप्रदेश के जिला मंदसौर के निगावलपुरा गांव के संतोष व राय सिंह और जिला धार के खड़की गांव का हीरालाल है।

Advertisement

पुलिस ने बताया कि महफूज उर्फ फौजी टैक्सी चलता था। वह टैक्सी की बुकिंग लेकर मध्यप्रदेश के गंधवानी गया था, वहीं पर अवैध हथियार तस्कर गिरोह के सरगना मध्य प्रदेश के जिला धार के गंधवानी गांव के बच्चन सिंह उर्फ बच्ची यादव के संपर्क में आया। बच्ची ने उसे अवैध हथियार बेचकर जल्द लखपति बनने का सपना दिखाया। महफूज ने बच्ची से कई पिस्तौल 12 से 15 हजार रुपये में खरीदी और पंजाब, दिल्ली, हरियाणा व उत्तर प्रदेश में 45 से 50 हजार रुपये में बेच दी थी।

30 और पिस्तौल का बच्ची को आर्डर दे दिया। इन पिस्तौल की महफूज को सप्लाई देने आए बच्ची के गुर्गे संतोष, राय ङ्क्षसह और हीरालाल को पुलिस ने गिरफ्तार किया। उक्त तीनों तस्कर पानीपत सहित हरियाणा के कई जिलों, उत्तर प्रदेश, पंजाब, गुजरात और राजस्थान में करीब 500 अवैध पिस्तौल बेच चुके हैं। पुलिस बच्ची और उसके कई गुर्गों की तलाश में संभावित ठिकानों पर छापे मार रही है।

Advertisement

एपपी शशांक कुमार सावन ने मंगलवार लघु सचिवालय में प्रेसवार्ता कर बताया कि 18 अगस्त को सीआइए-थ्री इंस्पेक्टर अनिल छिल्लर की टीम ने सिवाह के पास चौटाला रोड के डाडौला चौक से बैग सहित बलजीत नगर के महफूज को गिरफ्तार किया। उसके कब्जे से पांच पिस्तौल व दस मैगजीन बरामद की गई। आरोपित को अदालत में पेश कर आठ दिन की रिमांड पर लिया गया। पूछताछ में महफूज ने कबूल किया कि बच्ची यादव अवैध हथियार तस्कर गिरोह का सरगना है। बच्ची की फैक्ट्री में अवैध हथियार बनाए जाते हैं। बच्ची ने कई प्रदेशों में अवैध हथियार बेचने के लिए गुर्गे लगा रखे थे।