Connect with us

विशेष

9 व 10 जुलाई के बीच हरियाणा के इन जिलों में होगी बारिश की संभावना

Published

on

Advertisement

बारिश के बाद हिसार में एक बार फिर से गर्मी का असर दिख रहा है। रविवार सुबह तेज धूप के कारण लोगों को गर्मी का अहसास होता दिखाई दिया। वहीं आसमान पर बादल तो छाए रहे मगर बारिश के आसान नजर नहीं आ रहे। मगर फिर भी मौसम विज्ञानियों ने रविवार को बारिश होने के आसार जताए हैं। बीते शनिवार को अग्रोहा, बरवाला सहित अन्य क्षेत्रों में अच्छी बारिश हुई थी। जिससे मौसम सायं तक सुहाना हो गया था। हिसार में दिन का तापमान 40.6 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। वहीं रात्रि तापमान 24.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। जो सामान्य से तीन डिग्री कम रहा।

लगातार चार दिन तक भीषण गर्मी झेलने के बाद हरियाणा के लोगों को बीते 24 घंटों में बड़ी राहत मिली है. बढ़ती गर्मी के कारण तापमान में लगातार बढ़ोतरी दर्ज हो रही थी. राज्य के बढ़ते तापमान को लेकर मौसम (Haryana Weather Update) विभाग द्वारा जारी आंकड़ों की माने तो अंबाला, हिसार और करनाल में बारिश की राहत से पहले अधिकतम तापमान क्रमशः 38, 40.6 और 36.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ. नारनौल, रोहतक, गुरुग्राम और भवानी जिलों में भी तापमान शीर्ष पर देखने को मिला.

Advertisement

There will be rain again in Haryana, know how long is the forecast?

मानसूनी टर्फ रेखा दक्षित की तरफ आनी शुरू हुई

Advertisement

चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय में कृषि मौसम विज्ञानी डा. मदन खिचड़ ने बताया कि शुक्रवार को मानसूनी टर्फ रेखा थोड़ी दक्षिण की तरफ नीचे आने से राज्य के विशेषकर राज्य के उत्तर पश्चिमी व दक्षिणी क्षेत्रों में 4 जुलाई के बीच आंशिक बादलवाई, हवाओं व गरज चमक के साथ कहीं- कहीं हल्की बारिश होने की संभावना है जिससे बाद में दिन के तापमान में हल्की गिरावट संभावित है। मानसून की सक्रियता 9 से 10 जुलाई के आसपास रहने के आसार हैं। तब मानसून की बारिश देखने को मिलेगी। इस बार मानसून को बढ़ाने का काम चक्रवातों ने जरूर किया। अभी तापमान सामान्य से 3 डिग्री सेल्सियस अधिक चल रहा है। गौरतलब है कि पिछले कुछ वर्षों से चक्रवात हमारे मौसम चक्र को प्रभावित कर रहे हैं। जिसके कारण मौसम ही नहीं बल्कि फसल चक्र भी प्रभावित हो रहा है।

Haryanarains

Advertisement

यह था अभी तक मौसम

कृषि मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार मानसून की उत्तरी सीमा अब भी बाड़मेर, भीलवाड़ा, धौलपुर, अलीगढ़, मेरठ, अम्बाला, अमृतसर पर ही बनी हुई है। पाश्चिमी हवाओं के चलने के कारण मानसूनी हवा के आगे बढ़ने के लिए अनुकूल परिस्थितियां नहीं बन पा रही हैं। अब मानसून टर्फ रेखा हिमालय की तलहटियों की तरफ बढ़ी हुई है। पिछले तीन-चार दिनों से हरियाणा राज्य मौसम गर्म व खुश्क तथा दिन के तापमान में लगातार बढ़ोतरी होने से वातावरण में अस्थिरता की स्थिति बनने के कारण विशेषकर उत्तर पाश्चिमी व दक्षिणी क्षेत्रों में धूलभरी हवा चली।

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *