Connect with us

पानीपत

पानीपत के उद्यमी हुए परेशान, सालों से सरकारी विभागों को मंथली देते देते परेशान

Published

on

हरियाणा ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज की बैठक में उद्यमियाें ने विधायक ढांडा के सामने मुख्य 3 मांग रखी। सबसे प्रमुख 10 साल पुरानी इंडस्ट्रीज काे रेगुलाइजेशन दिलवाने की मांग रखी। उद्यमी बाेले कि जिन इंडस्ट्रीज के पास रेगुलाइजेशन सर्टिफिकेट नहीं है, उनमें आए दिन किसी न किसी सरकारी विभाग की टीम आकर बैठी रहती है।

परेशानी से बचने के लिए उद्यमियाें काे मंथली देनी पड़ती है। इस परेशानी से राहत दिलवा दाे। इस पर विधायक महिपाल ढांडा ने कहा कि इस समस्या समेत अन्य के सभी के जायज मांगाें काे लेकर सीएम मनाेहर लाल से 23 मई काे मुलाकात करवा दूंगा, लेकिन अापकाे भी इस बात का विशेष ध्यान रखना हाेगा कि जाे इंडस्ट्री नाे जाेन में चल रही हैं, उन्हें खुद ही फ्री जाेन में ले जाएं।

बैठक में मुख्य रूप से विधायक महिपाल ढांडा, हरियाणा चैंबर्स अाॅफ कॉमर्स के चेयरमैन विनाेद खंडेलवाल, सचिव मनीष अग्रवाल, द पानीपत डायर्स एसेसिएशन के प्रधान भीम सिंह राणा व उद्यमी एवं समाज सेवी तरूण गांधी व अन्य विशेष रूप से शामिल हुए।

विधायक महिपाल ढांडा ने ठेठ हरियाणवी का प्रयाेग करते हए उद्यमियाें काे भराेसा दिलाया। कहा कि थारा छाेरा विधानसभा में बाेल्लण अार अापणी बात मनवाण की हिम्मत राखै सै। मेरा विश्वास रखाे। अाज तक उस बात का कभी दावा नहीं किया, जाे पूरी न हाे पाए। उन्हाेंने कहा कि यह कितनी हैरान करने वाली बात है कि 20 साल में जिले का काेई भी मंत्री या विधायक विधानसभा में आपकी बात रखना ताे दूर, खड़ा हाेने तक की भी हिम्मत नहीं रख पाया। आपके बच्चे ने सीना तानकर हर सेशन में बात भी रखी  और रनवाई भी। जाे काम कर दिए हैं, वह काेई आने वाले 20 सालों में भी नहीं करवा सकता था। वैसे तो 7 तारीख काे सीएम इसराना में भी आएगे। वहां बात करने का सही समय नहीं रहेगा। 23 मई काे फुरसत से चंडीगढ़ में मुलाकात करके हर समस्या का समाधान भी तलाशेंगे। इस अवसर पर विनाेद ग्राेवर, नितिन अराेड़ा, राजेश वर्मा, रामनिवास गुप्ता, सियाराम गुप्ता, पंकज कपूर, हरीश बंसल व सुशील बंसल माैजूद रहे।

यह हैं तीन मुख्य मांगें 

 10 साल पुरानी इंडस्ट्री काे रेगुलराइज किया जाए, ताकि सरकारी विभागाें की अनावश्यक दखल अंदाजी बंद हाे जाए।
 बिजली निगम ने नए नियम के अनुसार अब इंडस्ट्री कनेक्शन लेने पर नाेन रिफंडेबल प्रति किलोवाट सर्विस सिक्योरिटी 2000 रुपए लेना शुरू कर दिया है। इसे खत्म किया जाए।
 सेक्टर-29 में कई जगहाें पर झुग्गी झाेपड़ियां हैं। इनमें रहने वाले लाेग रात के समय फैक्ट्रियाें में जाने वाली लेबर से लूटपाट व मारपीट करते हैं। एेसी घटनाअाें की पुलिस भी शिकायत नहीं ले रही। एेसी सभी झुग्गियों काे सेक्टर से बाहर निकाला जाए।

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: बुरी नज़र वाले तेरा मुँह कला