Connect with us

पानीपत

पानीपत-समालखा ट्रैफ़िक पुलिस का ध्यान जाम हटाने की बजाए सिर्फ़ चालान पर…

Published

on

पानीपत-समालखा ट्रैफ़िक पुलिस का ध्यान जाम हटाने की बजाए सिर्फ़ चालान पर…

कस्बे में ट्रैफिक व्यवस्था सुधर नहीं पा रही है। पुलिस की जिम्मेदारी व्यवस्था संभालने की है, पर सारा दिन चालान काटे जाते हैं। पुराना बस अड्डे पर सर्विस लेन पर हर रोज जाम लगता है। सोमवार को दोपहर के समय भी नजारा कुछ ऐसा ही था। दिल्ली से पानीपत सर्विस लेन पर जाम लगा था। उसे खुलवाने की बजाय पुलिसकर्मी लोगों के चालान काटने में व्यस्त थे।

Stopped by the Traffic Police? Here's What You Need to Keep in Mind

पुराना बस अड्डा पर फ्लाईओवर के नीचे और सर्विस लेन पर जाम लगता है। हाईवे ट्रैफिक, थाना से लेकर पुलिस चौकी की पीसीआर यहां खड़ी होती है, परंतु हर किसी का ध्यान केवल चालान काटने पर होता है। जाम का कारण बनने वाले ईको व टैक्सी वालों के प्रति सख्ती कोई नहीं दिखाता। वाहनों को सड़क पर लगा सवारियां बैठाते हैं। पुल के नीचे बने कट ही पार्किंग में तब्दील हो चुके हैं। कहीं कार, कहीं ई रिक्शा तो कहीं कोई और वाहन खड़ा कर दिया जाता है। पुलिस ने कट के बीच पत्थर रखकर आने व जाने के लिए अलग-अलग रास्ते बनाए हैं, परंतु कोई उसे लागू कराने के प्रति सजग नहीं है। इसके अलावा रही सही कसर सर्विस लेन किनारे बैंक, शोरूम, मॉल में आने वाले उपभोक्ताओं के पार्क होने वाले वाहन पूरा कर देते हैं। ऐसे में दिन भर जाम लगने का सिलसिला रहता है और लोगों को परेशानी झेलनी पड़ती है।

रेलवे रोड पर भी बुरा हाल

सर्विस लेन के साथ रेलवे रोड पर भी हाल बेहाल है। करीब अस्सी फीट चौड़ी सड़क है। फुटपाथ के साथ सड़क के काफी हिस्से पर दुकानदारों ने अपना सामान लगा रखा है। उसके बाद आगे फल, सब्जी की रेहड़ी लगवा देते हैं। आखिर में ग्राहकों के वाहन पार्क होते हैं। ऐसे हालात में अन्य वाहन सवारों का निकलना दूभर हो जाता है।