Connect with us

City

डेढ़ साल बाद नहीं चली पानीपत व सोनीपत जाने वाली ट्रेन, यात्री परेशान

Published

on

Advertisement

डेढ़ साल बाद नहीं चली पानीपत व सोनीपत जाने वाली ट्रेन, यात्री परेशान

पानीपत व सोनीपत रेलवे लाइन पर डेढ़ वर्ष से ट्रेन नहीं चलने से यात्रियों को परेशानी झेलनी पड़ रही है। कोरोना के चलते लाकडाउन लगने के बाद दोनों ही रूटों पर ट्रेनों को बंद कर दिया था। दूसरे लाइन पर तो ट्रेन चला दी, लेकिन इन पर डेढ़ वर्ष बीत जाने के बाद भी ट्रेन नहीं चली है। जहां पर गोहाना से सोनीपत, दिल्ली और पंजाब जाने वाले यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। जींद से प्रतिदिन हजारों यात्री इन रेलों के माध्यम से सोनीपत, पानीपत व आगे दिल्ली तक अप एंड डाउन करते थे लेकिन अब लोगों को बस या निजी वाहनों से जाना पड़ रहा है। प्रतिदिन पानीपत व सोनीपत अप-डाउन करने वाले लोगों को ज्यादा किराया देना पड़ रहा है। प्रतिदिन यात्री इन रेलगाडिय़ों के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए रेलवे स्टेशन के चक्कर काट रहे हैं लेकिन उन्हें कोई स्पष्ट जवाब नहीं मिल पा रहा है। ऐसे में दैनिक रेलयात्रियों की मांग है कि जींद-सोनीपत व जींद-पानीपत रेल मार्ग पर रेलगाडिय़ों का परिचालन शुरू किया जाए।

डेढ़ साल बाद नहीं चली पानीपत व सोनीपत जाने वाली ट्रेन, यात्री परेशान

Advertisement

———

पानीपत ट्रेन बंद होने से हजारों यात्री परेशान

जिले से काफी लोग पानीपत की विभिन्न फैक्ट्रियों में नौकरी करते हैं। पहले जहां यह कर्मचारी सुबह जाने वाली ट्रेन में पानीपत पहुंच जाते थे और शाम को पानीपत से आने वाली ट्रेन में आते थे। दैनिक यात्रियों ने ट्रेन का पास बनवाया हुआ था और उनका नाममात्र का ही किराया लगता था, लेकिन पानीपत जाने के लिए रोडवेज बसों का इंतजार करना पड़ता है और वहां पर लगभग 65 रुपये किराया देना पड़ता है। रेलगाड़ी न चलने के चलते यहां आम आदमी को आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा है, वहीं रेलवे को भी राजस्व का नुकसान हो रहा है। प्रतिदिन की बात की जाए तो टिकट बिक्री के माध्यम से 50 से 60 हजार रुपये तक कमा लेता था। जोकि अब शून्य हो चुका है। अब देश तथा प्रदेश में करोना संक्रमण के मामले न के बराबर रह गए हैं। ऐसे में दिशा निर्देशों तथा अहतियात भरे कदम उठाते हुए रेलवे विभाग द्वारा रेलगाडिय़ों का परिचलन शुरू किया जा सकता है। दैनिक यात्री संघ इसे लेकर रेलवे अधिकारियों को ज्ञापन भी सौंप चुका है लेकिन रेलवे अधिकारी फैसला रेलवे विभाग द्वारा किए जाने की बात कह कर टाल देता है।

Advertisement

———-

रेलगाड़ियों के परिचलन का फैसला मुख्यालय के हाथ में : जयप्रकाश

रेलवे जंक्शन के स्टेशन अधीक्षक जयप्रकाश ने बताया कि जींद-सोनीपत व जींद-पानीपत रेलमार्ग पर रेलगाड़ी चलाने का निर्णय मुख्यालय स्तर पर लिया जाता है। रेलवे यात्रियों की मांग को मुख्यालय तक भिजवा दिया गया है। जो भी विभाग दिशा-निर्देश देगा उस बारे में यात्रियों का अवगत करवा दिया जाएगा। फिलहाल रेलगाड़ियों के परिचलन को लेकर उनके पास कोई जानकारी उपलब्ध नहीं।

Advertisement

 

Advertisement