Connect with us

City

मेन बाजार में कूड़ा उठाने को लेकर हुआ हंगामा

Published

on

Advertisement

मेन बाजार में कूड़ा उठाने को लेकर दुकानदारों से जेबीएम ने पैसे मांगे तो हुआ हंगामा

मेन बाजार, इंदिरा बाजार व इंसार बाजार में वीरवार को कूड़ा उठान के लिए जेबीएम कंपनी ने दुकानदारों से पैसे मांगे तो हंगामा हो गया। दुकानदारों व जेबीएम कंपनी के कर्मचारियों के बीच कहासुनी हुई। इस बीच बात को संभालने के लिए मौके पर मेयर अवनीत कौर ने संयुक्त व्यापार मंडल के प्रधान सुनील अरोड़ा से बात की। इसके बाद कहीं जाकर मामला शांत हो पाया।

जेबीएम के कर्मचारी दुकानदारों से 50 रुपये की पर्ची काटने पहुंचे थे। इस दौरान विरोध का सामना करना पड़ा। इससे पहले भी दुकानदारों व जेबीएम कंपनी के बीच खींचतान चल रही है। जब मामला बढ़ता दिखा तो संयुक्त व्यापार मंडल मीटिग बुला ली और फैसला लिया गया कि अगर आगे से जेबीएम कंपनी का कोई भी कर्मचारी कूड़ा उठान के नाम पर पैसे मांगने आया तो विरोध किया जाएगा। दुकानदारों ने जेबीएम कंपनी पर आरोप लगाया कि हर बार दुकानदारों को कूड़ा नहीं उठाने की धमकी दे रहे हैं। इस समस्या को लेकर कई बार निगम के अधिकारियों को मिला जा चुका है। कोई समाधान नहीं हो सका। क्या कहते हैं संयुक्त व्यापार मंडल के पदाधिकारी

Advertisement
मेन बाजार में कूड़ा उठान को लेकर दुकानदारों से जेबीएम ने पैसे मांगे तो हुआ हंगामा

संयुक्त व्यापार मंडल के चेयरमैन कृष्णलाल बधवा, प्रधान सुनील अरोड़ा, सुशील भराड़ा, गौरव लिखा, सुनील मंजाल, नरेश ने दैनिक जागरण से बातचीत में बताया कि जेबीएम कंपनी ने धमकी दी कि अगर पैसे नहीं देंगे तो कूड़ा उठान नहीं होगा। निगम के कर्मचारी नालों की सफाई कर कूड़े को बाहर निकाल जाते हैं। इसके भी पैसे दुकानदारों से वसूले जा रहे हैं जबकि सभी दुकानदार हर तरह के टैक्स निगम को दे रहे हैं। चार्ज तो देना पड़ेगा, नहीं तो लिखेंगे सरकार को पत्र

जेबीएम कंपनी के मैनेजर अत्येंद्र सिंह ने जागरण से बातचीत में बताया कि दुकानदारों से दुकान के हिसाब से कूड़ा उठान का चार्ज वसूला जा रहा है। यह तो हर हाल में दुकानदारों को देना होगा। अगर दुकानदार विरोध करते हैं तो सरकार को पत्र लिखा जाएगा और समाधान की मांग की जाएगी। वसूल सकते हैं चार्ज

Advertisement

मेयर अवनीत कौर ने जागरण से बातचीत में बताया कि जेबीएम कंपनी से 22 साल के लिए कूड़ा उठान का समझौता हुआ है। इसके आधार पर वह चार्ज वसूल सकते हैं। इसमें कुछ नहीं किया जा सकता।

Advertisement

Advertisement