Connect with us

पानीपत

प्रॉपर्टी टैक्स में जुड़कर आएगा डोर-टू डोर कचरा कलेक्शन के लिए यूजर चार्ज, कवर्ड प्लॉट एरिया के हिसाब से लगेगा चार्ज

Published

on

Spread the love

प्रॉपर्टी टैक्स में जुड़कर आएगा डोर-टू डोर कचरा कलेक्शन के लिए यूजर चार्ज, कवर्ड प्लॉट एरिया के हिसाब से लगेगा चार्ज

शहर वासियों को अब निगम की डोर-टू डोर कचरा कलेक्शन सर्विस के बदले यूजर चार्ज अदा करना होगा। इससे पहले कांट्रेक्ट पर सफाई कार्य होने से बहुत कम लोग ही यूजर चार्ज अदा करते थे, क्योंकि यह यूजर चार्ज कांट्रेक्टर को वसूलना होता था। इसलिए निगम भी इस तरफ कोई ध्यान नहीं देता था, लेकिन अब सीएम सिटी प्रदेश में पहला ऐसा शहर है जहां सफाई कार्य के ठेके को पूर्णरूप से बंद कर दिया है। नियम व शर्तें पूरी करने वाले ठेके पर कार्यरत सफाई कर्मचारियों को सरकार की पॉलिसी के तहत पे रोल पर लेकर निगम ने खुद अपने बूते पर शहर की सफाई कराना शुरू कर दिया है।

ऐसे में अब निगम अधिकारियों की देखरेख में पूरे शहर की सफाई होगी। निगम को अपने सफाई बेड़े से शहर में सभी तरह के सफाई कार्य करवाने हैं। झाड़ू लगवाने से लेकर एकत्रित कचरे को सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट तक पहुंचाना है। इसलिए हरियाणा सरकार की ओर से निर्धारित किए गए डोर-टू डोर कचरा कलेक्शन के लिए मासिक यूजर चार्ज निगम द्वारा शहरवासियों से वसूले जाएंगे। प्रभावी रूप से इसकी वसूली के लिए निगम की ओर से इसे प्रॉपर्टी टैक्स के साथ जोड़ा जाएगा। लोगों से प्रॉपर्टी टैक्स के साथ ही यूजर चार्जेज की राशि भी वसूली जाएगी।

शहर में प्रॉपर्टी टैक्स की 1.41 लाख यूनिट

सीएम सिटी में 1 लाख 41 हजार प्रॉपर्टी यूनिट है, जिनमें से करीबन 20 प्रतिशत खाली प्लॉट हैं। इसलिए निगम को प्रतिवर्ष शहर से यूजर चार्ज के रूप में करोड़ों रुपए की आमदनी हो सकती है। इससे प्रत्येक व्यक्ति से यूजर चार्जेज की वसूली होगी, क्योंकि अब सरकार ने प्रॉपर्टी की क्रय-विक्रय में नो ड्यूज सर्टिफिकेट की शर्त लगा दी है। इसलिए अब लोगों को कोई भी सरकारी टैक्स चुकाना ही होगा।

धर्मशाला, धार्मिक स्थान पर यूजर चार्ज नहीं लगेगा

प्रदेश सरकार की ओर से जारी की गई यूजर चार्ज की रेट लिस्ट के अनुसार धर्मशाला, धार्मिक स्थान और स्पोर्ट्स क्लबों से यूजर चार्जेज नहीं वसूला जाएगा। इन सभी को फिलहाल सरकार की ओर से छूट दी गई है।

निगम ने निर्धारित किया किस से कितना वसूला जाएगा मंथली यूजर चार्ज

रेजिडेंशियल

  • बीपीएल हाउस, स्लम बस्ती, मलिन बस्ती और ईडब्ल्यूएस फ्लैट वालों से- 5 रुपए प्रतिमाह
  • 100 स्क्वेयर मीटर तक के प्लाट एरिया में बने आवासी भवन हॉस्टल समेत-20 रुपए
  • 200 स्क्वायर मीटर तक के प्लॉट एरिया में बने आवासी भवन हॉस्टल समेत-40 रुपए
  • 200 स्क्वायर मीटर से अधिक और 400 स्क्वायर मीटर तक के प्लॉट एरिया में बने आवासी भवन हॉस्टल समेत-50 रुपए
  • 400 स्क्वायर मीटर से अधिक प्लॉट एरिया के हॉस्टल समेत आवासीय भवन- 100 रुपए

कॉमर्शियल

  • व्यक्तिगत शॉप व प्राइवेट ऑफिस जो जिसका 200 स्क्वायर फीट तक कवर्ड एरिया है, जिसमें सर्विस स्टेशन, रेस्टोरेंट, ढाबा, फीशरी शॉप, ग्रेन व सब्जी मंडी में दुकान- 25 रुपए
  • व्यक्तिगत शॉप व प्राइवेट ऑफिस जो जिसका 200 स्क्वायर फीट से अधिक कवर्ड एरिया है, जिसमें सर्विस स्टेशन, रेस्टोरेंट, ढाबा, फीशरी शॉप, ग्रेन व सब्जी मंडी में दुकान- 100 रुपए
  • नर्सिंग होम, क्लिनिक, अस्पताल, औषधालय, बिना इनडोर सुविधा के 50 बैड तक के अस्पताल- 1500 रुपए
  • 50 बैड से अधिक और 100 बैड तक के अस्पताल- 3000 रुपए
  • 100 बैड से अधिक संख्या वाले अस्पताल से- 5000
  • शॉपिंग काॅम्प्लेक्स जिसमें माॅल, सिनेमा हाॅल व नोटिफाइड स्लॉटर हाउस है- कवर्ड एरिया पर 0.50 रुपए पर स्क्वायर फीट
  • फैक्ट्री और मिल्स- 0.5 पर स्क्वायर मीटर प्लॉट एरिया का
  • बैंक, ऑडिटोरियम, गेस्ट हाउस, होटल 10 रूम तक- 500 रुपए
  • मैरिज हाल, बैंक्वेट हाल, होटल 10 कमरों से अधिक तथा कॉमर्शियल प्रॉपर्टी लोन-4000 रुपए
  • क्लब और रेस्टोरेंट 500 लोगों तक की मेंबरशिप सुविधा वाले- 500 रुपए
  • क्लब और रेस्टोरेंट 500 लोगों से अधिक मेंबरशिप सुविधा वाले- 1000 रुपए

इंस्टीट्यूशनल

  • सेंटर व स्टेट गवर्नमेंट और पब्लिक सेक्टर के ऑफिस, कांप्लेक्स, वेलफेयर ऑर्गेनाइजेशन व सोसायटी-150 रुपए
  • सभी एजुकेशनल इंस्टीट्यूट दो एकड़ तक के प्लॉट एरिया- 500 रुपए
  • एजुकेशनल इंस्टीट्यूट-1000 रुपए

डोर-टू डोर कचरा कलेक्शन के लिए 40 नए टिप्पर होंगे सफाई बेड़े में शामिल

नगर निगम के सफाई बेड़े को मजबूत बनाने के लिए स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत 40 नए टिप्पर सफाई बेड़े में शामिल किए जा रहे हैं। करीबन एक दर्जन नए टिप्पर निगम के बेड़े में शामिल हो चुके हैं। दूसरी ओर पे रोल पर लिए गए कर्मचारियों सहित निगम के पास अपने 1101 सफाई कर्मचारी हो चुके हैं।

Source : Bhaskar

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *