Connect with us

पानीपत

पैदल ही निकल पड़े उत्तर प्रदेश, बॉर्डर पर लगा जाम

Published

on

Advertisement

पैदल ही निकल पड़े उत्तर प्रदेश, बॉर्डर पर लगा जाम

उत्तर प्रदेश में वीकेंड क‌र्फ्यू के कारण रविवार को उप्र-हरियाणा बॉर्डर को उप्र पुलिस ने सील कर दिया। वहीं, हरियाणा में लॉकडाउन लगने की खबर लगते ही लोग उत्तर प्रदेश में अपने घर की ओर रवाना हो गए। इस दौरान वाहनों की छह किलोमीटर तक लाइन लग गई। पांच घंटे तक जाम लगा रहा।

यमुना पुल यूपी चौकी इंचार्ज एसआइ ज्ञानेंद्र सिंह के नेतृत्व में पुलिस ने बॉर्डर पर चेकिग अभियान चलाया। इस दौरान बॉर्डर पर सनौली हरियाणा से वाहन लेकर पहुंचने वाले चालकों को पूछताछ की गई। पुलिस ने केवल उन्हीं वाहनों को आवागमन की छूट दी, जो मालवाहक या फिर इमरजेंसी अथवा आवश्यक कार्यों से जा रहे थे। इसके अलावा अन्य वाहन चालकों को सख्त चेतावनी देते हुए वाहनों को हरियाणा की ओर वापस भेज दिया गया।

Advertisement

पैदल ही निकल पड़े उत्तर प्रदेश, बॉर्डर पर लगा जाम

इस दौरान बॉर्डर पर जाम की स्थिति बनी रही। दोनों ओर से यमुना पुल जाम लगने से वाहन जाम में फंस गए। हरियाणा रोडवेज की दर्जनों बसे भी जाम में फंसी रहने से काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। कई वाहनों के काटे चालान

Advertisement

लॉकडाउन के दौरान सवारियां भरकर चलाई जा रही कई इको कार चालकों को पुलिस ने कड़ी फटकार लगाई। पुलिस ने कई वाहनों के चालान भी काटे तथा चालकों को लॉकडाउन में गाड़ी चलाने पर कार्रवाई की चेतावनी भी दी। यमुना बार्डर से निकल रहे लोग

 

Advertisement

प्रदेश सरकार ने तीन मई सोमवार से एक सप्ताह के लिए लॉकडाउन लगाने की घोषणा से पानीपत, कुराड, छाजपुर फैक्ट्रियों से बाहरी राज्यों के मजदूर सनौली यमुना बार्डर से पैदल ही रवाना हो गए। मजदूरों को डर सताने लगा है कि कहीं पिछले वर्ष की तरह लॉकडाउन लंबा न चल पड़े। शेल्टर होम में न ठहरना पड़ जाए। पुलिस ने बंद कराईं दुकानें

रविवार को शाम 6 बजे सनौली अड्डे पर सनौली थाना एसएचओ नवीन कुमार पुलिस टीम सहित पहुंचे। इस पर सरकार के निर्देशों का पालन करते हुए सनौली अड्डे के दुकानदार शाम छह बजे अपनी-अपनी दुकान बंद कर गए। इस दौरान सनौली थाना एसएचओ नवीन कुमार भी पुलिस टीम सहित मौके पर पहुंचे और दुकानदारों को सरकार के नियमों का पालन करने पर दुकानों बंद करने को दुकानदारों को समझाया गया। इस दौरान सभी दुकानों बंद कर ही अपने घरों पर चले गए।

 

SOURCE : JAGRAN

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *