Connect with us

जींद

ऑक्सीजन सिलेंडर ले जा रही गाड़ी को रातभर चौकी में रखा, वक्त पर ऑक्सीजन नहीं मिल पाने से गाजियाबाद में कोरोना मरीज की मौत

Published

on

Advertisement

ऑक्सीजन सिलेंडर ले जा रही गाड़ी को रातभर चौकी में रखा, वक्त पर ऑक्सीजन नहीं मिल पाने से गाजियाबाद में कोरोना मरीज की मौत

 

जींद में पुलिस पर धक्केशाही का आरोप लगा है। कहा जा रहा है कि ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर जा रही गाड़ी को पकड़कर पुलिस ने रातभर चौकी में रखा। हालांकि उसने जरूरमंद कोरोना मरीज से फोन पर बात भी करवाई, लेकिन रौब के भूखे खाकी वालों ने एक न सुनी। सुबह बिना कार्रवाई के ही छोड़ दिया। आखिर नतीजा यह हुआ कि वक्त पर ऑक्सीजन नहीं मिल पाई और मरीज ने दम तोड़ दिया। यह अलग बात है कि पुलिस वाले इस तरह के आरोप से इनकार भी करते नजर आ रहे हैं।

Advertisement

गाड़ी में रखे ऑक्सीजन सिलेंडर, जिसे जींद पुलिस द्वारा रातभर चौकी में रखे जाने से जरूरतमंद की मौत हो गई। - Dainik Bhaskar

पंजाब के धुरी निवासी गुरप्रीत ने DIG ओम प्रकाश नरवाल को दी शिकायत में बताया कि वह धुरी के ट्रांसपोर्ट राजेंद्र सिंह के पास गाड़ी चालक का काम करता है। उनके ट्रांसपोर्ट के अकाउंटेंट राहुल गोयल का ससुर गाजियाबाद निवासी ललित मोहन कोरोना संक्रमित था और वह घर पर ही ऑक्सीजन सपोर्ट था। सोमवार को दिल्ली में ऑक्सीजन का सिलेंडर नहीं मिलने पर राहुल गोयल ने ट्रांसपोर्ट राजेंद्र सिंह को बताया कि रात को 3 बजे की ऑक्सीजन उनके पास है, इसलिए पंजाब से दो सिलेंडरों की व्यवस्था करके उसे दिल्ली के लिए रवाना किया था।

Advertisement

गाजियाबाद जा रही गाड़ी को जींद में गतौली चौकी के पास नाके पर तैनात पुलिसकर्मियों ने रात करीब 11 बजे रुकवा लिया। चालक को चौकी में बंद कर दिया। सुबह उसे नागरिक अस्पताल जींद में ले जाया गया। यहां से चालक को बिना कार्रवाई के छोड़ दिया गया। आरोप यह है कि रात को गाड़ी के चालक ने कोरोना संक्रमित के पास वीडियो कॉल करके बात भी करवाई, लेकिन पुलिस कर्मियों का फिर भी दिल नहीं पसीजा। ऑक्सीजन नहीं मिलने से मंगलवार सुबह कोरोना पॉजिटिव ने दम तोड़ दिया।

इसके बाद दोपहर में उसके रिश्तेदार संबंधित गाड़ी के चालक को साथ लेकर DIG से मिले। इन्होंने गतौली चौकी प्रभारी वीरेंद्र के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। DIG ने इस मामले की जांच DSP-H पुष्पा खत्री को सौंप दी है।

Advertisement

उधर चौकी प्रभारी गतौली वीरेंद्र सिंह से बात की गई तो उनका कहना था कि पुलिस पर लगाए गए सभी आरोप बेबुनियाद हैं। वीरेंद्र सिंह ने कहा कि रात को पंजाब के नंबर की गाड़ी को रुकवाया गया। इसमें दो ऑक्सीजन सिलेंडर मिले। चालक मौके पर जरूरी कागजात नहीं दिखा पाया। बाद में उसने कागजात दिखा दिए तो उसे रात में ही छोड़ दिया गया था।

 

 

Source : Bhaskar

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *