Connect with us

City

लाठीचार्ज के बीच सामने आया SDM का वीडियो

Published

on

Advertisement

खुद को ड्यूटी मजिस्ट्रेट बता कह रहे- नाका नहीं टूटना चाहिए, कोई आए तो लट्ठ मारना, उसका सिर फूटा होना चाहिए, वरुण गांधी ने कहा- ये लोकतंत्र में अस्वीकार्य

करनाल में किसानों पर हुए लाठीचार्ज के बीच एक ड्यूटी मजिस्ट्रेट बताए जा रहे अधिकारी का सख्ती बरतने का आदेश देते वीडियो सामने आया है। इस वीडियो को कई विपक्षी नेताओं ने भी अपने हैंडल पर शेयर किया है।

हालांकि ट्रेंड कर रहा वीडियो घटनास्थल बसताड़ा टोल का नहीं है, ये वीडियो कैथल रोड नाके का बताया जा रहा है। वीडियो में एक अधिकारी ड्यूटी मजिस्ट्रेट के तौर पर पुलिस वालों को सख्त आदेश देते नजर आ रहे हैं। पुलिस वालों को अधिकारी बोल रहा है कि, मैं ड्यूटी मजिस्ट्रेट हूं। ये नाका नहीं टूटना चाहिए। जो भी आए उस पर लट्ठ मारो। यहां से आने वाले का सिर फूटा हुआ होना चाहिए।

Advertisement

12 फोटो में देखें, हरियाणा में किसानों पर लाठीचार्ज:सड़कें जाम कर रहे किसानों पर पुलिस ने भांजी लाठियां, कई किसानों के सिर फूटे; दिल्ली-हिसार हाईवे पर ट्रैफिक डाइवर्ट

वीडियो में क्या बोले SDM पढ़िए
अधिकारी बोल रहे हैं कि, सिम्पल है, जो भी यहां से (बैरिकेड की तरफ इशारा कर के) कोई नहीं जाना चाहिए। जो जाए उसका सिर फोड़ दो, मैं ड्यूटी मजिस्ट्रेट हूं। सीधे लट्ठ मारना, कोई डाउट। मारोगे…?
जवाब में पुलिस वालों की आवाज आई- जी सर।
अधिकारी कहते हैं कि, सीधे उठा-उठा कर मारने पीछे। कोई डाउट नहीं है। कोई डायरेक्शन की जरूरत नहीं है। क्लीयर है। ये नाका किसी भी हालत में लीक नहीं होने देंगे। हमारे पास पर्याप्त मात्रा में 100 की फोर्स पीछे है। कोई इश्यू नहीं है। ठीक है। हम पूरी रात नहीं सोए हैं। दो दिन से ड्यूटी कर रहे हैं। यहां से एक बंदा नहीं जाना चाहिए। जो जाए तो उसका सिर फूटा होना चाहिए।

Advertisement

किसानों पर लाठीचार्ज सरकार पर विपक्ष का ‘वार’:राहुल बोले, शर्म से सर झुक गया हिंदुस्तान का, प्रियंका ने बतााया सरकार के ताबूत में कील, भूपेंद्र हुड्‌डा, सुरजेवाला और अभय ने भी घेरा

लोकतांत्रिक भारत में अस्वीकार्य : वरुण गांधी

Advertisement

उधर, इस वीडियो को कई बड़े नेताओं ने अपने हैंडल से शेयर किया है। वहीं भाजपा के सांसद वरुण गांधी ने वीडियो को शेयर करते हुए लिखा है कि वह उम्मीद जताते हैं कि यह वीडियो एडिटेड हो और अधिकारी ने ऐसी बात न कही हो। यदि ऐसा है तो यह हमारे अपने लोगों के लिए लोकतांत्रिक भारत में अस्वीकार्य है।

Advertisement