Connect with us

पानीपत

किसान ट्रॉलियों में लगाने लगे TV और डिश, स्थानीय लोगों का ब्राडबैंड का पासवर्ड भी लिया

Published

on

Advertisement

किसान ट्रॉलियों में लगाने लगे TV और डिश, स्थानीय लोगों का ब्राडबैंड का पासवर्ड भी लिया

 

छुट्‌टी के दिन रविवार को हरियाणा-दिल्ली के बीच कुंडली बॉर्डर पर किसान आंदोलन मेले में बदल गया।। हरियाणा के गांवों के अलावा पंजाब से भी 500 से अधिक महिलाएं अलग-अलग जत्थों में बच्चों के साथ पहुंचीं। सोनीपत के करीब 28, पानीपत के करीब 23 व जींद के करीब 17 गांवों के किसानों का जत्था ट्रैक्टरों पर तिरंगा लगाकर पूरे जोश में यहां पहुंचा। 800 के करीब ट्रैक्टरों व अन्य वाहनों में किसान पहुंचे।

Advertisement

गाजीपुर बॉर्डर पर राकेश टिकैत की गिरफ्तारी की तैयारी के बीच उनके भावुक होकर आंसुओं वाले पोस्टर वायरल हो रहे हैं। इसके बाद अब आंदोलन में हरियाणा की भागीदारी बढ़ गई है। पंजाब फतेहगढ़ साहिब से 27 महिलाओं का जत्था बच्चों के साथ कुंडली बॉर्डर पर पहुंचा। महिला गुरुपेंदर कौर ने कहा कि ट्रांसपोर्ट की दिक्कत थी, इसलिए महिलाओं ने रुपए इकट्‌ठे करके बस की और यहां पहुंचीं।

कुंडली बॉर्डर पर ट्रॉली में लगी LED पर खबरें देखते किसान। 26 जनवरी को दिल्ली में हुई हिंसा के बाद सरकार ने किसान आंदोलन वाले कुंडली बॉर्डर पर इंटरनेट बंद कर दिया है। - Dainik Bhaskar

Advertisement

गुरुपेंदर ने कहा कि पहले गांव से किसान ट्रैक्टर-ट्राॅली लेकर आए, अब वे पहुंची हैं। कई दिन तक यहीं रहकर लंगर सेवा में भागीदारी देंगी। हरजीत कौर ने बताया कि खबरों से 26 जनवरी के बाद डराने जैसा माहौल बना है, लेकिन किसान कृषि कानूनों के खिलाफ अपने हक की लड़ाई लड़ रहे हैं। पंजाब में गांव-गांव मुनादी हो रही है। वापस गए लोग भी लौट रहे हैं।

आंदोलन में आपराधिक वारदात न हो, इसके अंदेशे में सरकार ने मोबाइल इंटरनेट सेवाएं पिछले पांच दिन से बंद की हुई हैं। अब किसान सूचनाएं पाने के लिए फोन कॉल के साथ टीवी और डिश लगाने लगे हैं। कई ट्रैक्टर-ट्राॅली में डिश टीवी लगे हैं। किसान गुरविंद्र सिंह ने कहा कि छोटा टीवी खरीदकर लाए हैं।

Advertisement

आसपास डटे किसान भी देखने आ जाते हैं
यहां आसपास इलाके में आपसी रजामंदी से किसानों ने ब्रॉडबैंड के पासवर्ड भी लिए हैं। वहीं कई ने अपने ब्रॉडबैंड कनेक्शन को बिना पासवर्ड के चला रखा है। खापों और गांव-गांव में पंचायतें होने के बाद ट्रैक्टरों और अन्य वाहनों में भी किसान काफिलों में अब आंदोलन में पहुंच रहे हैं।

पानीपत के कुटानी, उग्राखेड़ी, निंबरी, जींद जिले के खरखरामजी, गांगोली, गोहाना, सोनीपत जिले के बढ़खालसा, राई, साथ ही अन्य इलाकों से किसान ट्रैक्टर-ट्रॉलियों में राशन तक लेकर आए। आंदोलन में संयुक्त किसान मोर्चा के मंच पर कुछ दिन पहले तक पंजाब-हरियाणा भाईचारा एकता के नारे सुनाई देते थे। अब पंजाब, हरियाणा, यूपी किसान-मजदूर भाईचारा एकता के नारे लग रहे हैं।

 

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *