Connect with us

पानीपत

35 साल से सब्जी फ्रूट बेचने वाले कहां जाएं, अब मांग रहे मलकियत और किराया नामा

Published

on

Advertisement

35 साल से सब्जी फ्रूट बेचने वाले कहां जाएं, अब मांग रहे मलकियत और किराया नामा

पिछले 35 वर्षों से सब्जी, फ्रूट बेचने वाले आढ़तियों की परेशानी बढ़ती जा रही है। इन आढ़तियों के लाइसेंस का रिन्यू करने लिए अब मार्केटिग बोर्ड किरायानामा अथवा मलकियत के कागज जमा करवाने के लिए कह रहा है। हर साल आढ़तियों का लाइसेंस रिन्यू होता है। सनौली रोड सब्जी मंडी में काम करने वाले आढ़ती पिछले साल तक किरायानामा दे रहे थे। अब इन आढ़तियों को मंडी शिफ्टिग में प्लाट नहीं मिला इन दुकानदारों का केस सीए मार्केट कमेटी की कोर्ट में विचाराधीन है। ये आढ़ती नई सब्जी मंडी में किराये पर दुकानें लेकर काम कर रहे हैं। नई सब्जी मंडी में दुकानदार इन्हें किरायानामा नहीं देते। नई सब्जी मंडी में एक-एक दुकान पर कई-कई आढ़तियों को किराये पर दुकानें दी गई हैं, लेकिन उन्हें किरायानामा नहीं मिलता। एक-एक दुकान का किराया 1.50 लाख रुपये से अधिक होने के कारण कई-कई सब्जी आढ़ती मिलकर एक दुकान को ही किराये पर लेकर अपनी रोजी रोटी कमा रहे हैं। सांसद से की गुहार

Now on Saturday all three vegetable markets in Panipat will be closed

Advertisement

 

परेशानी सब्जी फ्रूट आढ़तियों ने सांसद संजय भाटिया से भी गुहार लगाई। सांसद ने सीए मार्केटिग बोर्ड सहित मार्केट कमेटी के सचिव को आढ़तियों की समस्या को हल करने के लिए कहा, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। लाइसेंस रिन्यू न होने पर केस कमजोर होगा

Advertisement

आढ़तियों का यदि लाइसेंस रिन्यू नहीं होता है तो वे काम नहीं कर पाएंगे। लाइसेंस रिन्यू न होने से उनका प्लाट के लिए जो केस सीए की कोर्ट में विचाराधीन है वह कमजोर पड़ सकता है। इस मामले को सीए मार्केट बोर्ड के संज्ञान में डाल दिया गया है। जो गाइड लाइन आएगी उसके मुताबिक लाइसेंस रिन्यू कर दिए जाएंगे।

 

Advertisement

SOURCE : JAGRAN

 

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *