Connect with us

पानीपत

पत्नी ने प्रेमी संग मिल गला घोंटकर की पति की हत्या, शव दफना स्लैब रखे, उसी पर नहाती थी

Published

on

Advertisement

पत्नी ने प्रेमी संग मिल गला घोंटकर की पति की हत्या, शव दफना स्लैब रखे, उसी पर नहाती थी

एनएफएल के पीछे विकास नगर में 18 माह से लापता टेक्नीशियन हरबीर सिंह (31) का उसी की पत्नी गीता ने प्रेमी विकास संग मिलकर मर्डर किया था। दोनों ने प्रेम संबंधों के चलते हरबीर को बीच से हटाने की साजिश रची। एक रात हरबीर नशे में धुत था, तब दोनों ने मिलकर परने से गला घोंटकर उसे मार डाला और घर में ही गड्ढ़ा खोदकर दफना दिया। उसके ऊपर सीमेंट के स्लैब रख दिए।

Advertisement

उसी जगह नहाने के लिए टेंपरेरी बाथरूम बना दिया। गीता रोज वहीं नहाने लगी। यह बात गीता ने पुलिस पूछताछ में कबूली है। आरोपी गीता को गिरफ्तार कर लिया है। महिला ने बताया कि वह नया घर बनवा रही थी। उसकी मां व मौसेरा भाई भी आए हुए थे। एक कमरे की दीवारें तैयार थीं। इसलिए वह शुक्रवार को लेंटर की शटरिंग का सामान लेने बाजार चली गई। तभी मां ने टॉयलेट के लिए गड्‌ढ़ा खुदवा दिया। जब तक वह बाजार से लौटी, तब तक 4 फीट की खुदाई में कंकाल मिल चुका था। उसने कंकाल दूसरी जगह दफना दिया।

Advertisement

भतीजे ने पूछा तो कहा कि तेरे चाचा ने कुत्ता दबाया था, उसकी हड्‌डी हैं। बाद में परिजनों ने आकर कंकाल निकाला। गड्‌ढे की और खुदाई की तो जींस का बटन, टी-शर्ट व अंडरवियर मिला। भाइयों ने टी-शर्ट के जरिए हरबीर की पहचान की। तब हत्या का शक पत्नी गीता पर जताया। पुलिस ने पूछताछ की तो कहा कि शराब पीकर झगड़ा करता था इसलिए मार डाला। सख्ती से पूछताछ की तो प्रेमी के साथ मिलकर वारदात करने की बात कबूल की। पोस्टमार्टम में कंकाल पुरुष का ही निकला। डीएनए जांच के लिए हरबीर की मां का सैंपल लिया गया है।

आरोपी बोली- घर बन जाता तो जिंदगीभर पता नहीं चलता; अब प्रेमी का एड्रेस नहीं बता रही

Advertisement

पुलिस के अनुसार, गीता व विकास के कई साल से संबंध थे। विकास, हरबीर के साथ मोबाइल टावर पर काम करता था। उसका घर आना-जाना था। वारदात की रात वह हरबीर के घर था। हरबीर नशे में धुत था। वह गले में परना डाले था। गीता व विकास ने परने से हरबीर का गला घोंट दिया। रात में ही उसे दफना दिया और सीमेंट के स्लैब रखकर नहाने के लिए टेंपरेरी बाथरूम बना दिया। गीता ने पड़ोसियों को कुछ दिन घर नहीं आने दिया। फिर कह दिया कि पति बिना बताए चला गया। हरबीर के भाइयों को उसके लापता होने की जानकारी दी। इसके बाद पति को ढूंढने का नाटक करती रही। किसी को शक न हो, इसलिए 3 माह बाद थाने में लापता होने की एफआईआर कराई। गीता ने कहा कि अगर घर बन जाता तो जिंदगीभर किसी को पता नहीं चलता कि हरबीर मर गया। लोग लापता ही समझते। मेरे बाजार जाकर छोटी सी गलती करने के कारण भेद खुल गया। गीता ने अभी पुलिस को यह नहीं बताया कि विकास कहां का रहने वाला है।

 

Source : Bhaskar 

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *