Connect with us

जींद

लॉकडाउन में ढील के साथ ही जींद में कोरोना ने फिर पसारे पैर, 110 केस मिले, चार लोगों की मौत

Published

on

Advertisement

लॉकडाउन में ढील के साथ ही जींद में कोरोना ने फिर पसारे पैर, 110 केस मिले, चार लोगों की मौत

 

कोरोना की चेन  तोड़ने की खातिर लगाए गए लॉकडाउन के कारण जींद में कोरोना का ग्राफ लगातार गिरता जा रहा था। लेकिन, जैसे ही लॉकडाउन में ढील मिली, फिर से कोरोना के केस बढ़ने लगे हैं। शुक्रवार को 110 लोग कोरोना पॉजिटिव मिले तो चार लोगों की मौत हो गई। वहीं नरवाना के धोला कुआं निवासी एक 60 वर्षीय व्यक्ति में ब्लैक फंगस के लक्षण मिले हैं, जिसे हिसार के अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में रेफर किया गया है। वहां पर टेस्ट के बाद ब्लैक फंगस की पुष्टि हो पाएगी।

Advertisement

लॉकडाउन के दूसरे सप्ताह में ही जिले में कोरोना संक्रमण की रफ्तार पर ब्रेक लगने शुरू हो गए थे। हालांकि बीच-बीच में केस बढ़ते-घटते रहे लेकिन महीने के अंत तक आते-आते 100 से भी कम केसों पर कोरोना सिमटने लगा था। पिछले एक सप्ताह में दो दिन ही ऐसे रहे, जिन दिनों में कोरोना के 100 से ज्यादा मामले सामने आए। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार 27 मई काे 79, 26 मई को 89 कोरोना संक्रमित, 25 मई को 71 कोरोना संक्रमित मिले थे।

नरवाना में ब्लैक फंगस का संदिग्ध केस मिला है। उसे अग्रोहा रेफर किया गया है।

Advertisement

इस माह पहली बार एक्टिव केस एक हजार से कम 

शुक्रवार को स्वास्थ्य विभाग को कोरोना के 895 सैंपलों की जांच रिपोर्ट मिली। इनमें 110 लोग कोरोना संक्रमित मिले। 134 लोगों ने शुक्रवार को कोरोना को मात दे दी। अब जिले में एक दिन में जितने कोरोना संक्रमित मिल रहे हैं, उनसे ज्यादा कोरोना मरीज कोरोना को मात दे रहे हैं। इसका परिणाम यह है कि कोरोना के एक्टिव केसों की संख्या भी लगातार कम होती जा रही है। इस महीने में पहली बार कोरोना के एक्टिव केसों की संख्या एक हजार से कम आई है। फिलहाल जिले में 849 एक्टिव केस बच गए हैं। मई के पहले सप्ताह में एक्टिव केसों की संख्या 2800 थी।

Advertisement

 

कोरोना से चार की मौत, चारों 60 वर्ष से ज्यादा आयु के

कोरोना संक्रमण के कारण शुक्रवार को चार लोगों की मौत हो गई। इसमें उचाना के बड़ौदा गांव का 72 वर्षीय कृष्ण, गढ़वाली गांव की 70 वर्षीय दया देवी, जलालपुरा कलां की 62 वर्षीय प्यारी देवी, किनाना का 76 वर्षीय चतरु कोरोना से जंग हार गए। सभी लोग जींद के नागरिक अस्पताल में दाखिल थे। हालांकि मौत का आंकड़ा भी अब कम होने लगा है। मई महीने में जितनी मौतें कोरोना के कारण हुई है, उतनी मौतें पूरे साल में भी नहीं हुई हैं। जिले में कुल 502 मौत में से मई महीने में ही 245 लोगों की जान कोरोना से चली गई। डिप्टी सिविल सर्जन डा. पालेराम कटारिया ने बताया कि जिले के लिए राहत भरी बात यह है कि रिकवरी रेट लगातार बढ़ रहा है और पॉजिटिविटी रेट लगातार कम होता जा रहा है। नए केसों से ठीक होने वालों की संख्या अधिक है।

 

नरवाना में ब्लैैक फंगस का संदिग्ध मरीज मिलने पर अग्रोहा रेफर

संवाद सूत्र, नरवाना : नरवाना में एक मरीज को ब्लैक फंगस के लक्षण मिलने पर उसे हिसार के अग्रोहा मेडिकल कॉलेज रेफर किया गया है। धौला कुआं निवासी 60 वर्षीय एक व्यक्ति दांत में दर्द होने पर प्राइवेट डेंटल सर्जन के पास गया था। जहां दंत चिकित्सक को उसके अंदर ब्लैक फंगस के लक्षण दिखाई दिए। इसकी सूचना एसएमओ डॉ. देवेंद्र बिंदलिश को दी गई। इसके बाद स्वजन उसे अग्रोहा मेडिकल लेकर गये। एसमएओ डॉ. देवेंद्र बिंदलिश का कहना है कि जिस व्यक्ति में ब्लैक फंगस के लक्षण मिले हैं, वह एक महीने पहले कोरोना संक्रमिता था। बाद में उसकी रिपोर्ट नेगेटिव आ गई थी। व्यक्ति शुगर का भी मरीज है। अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में टेस्ट के बाद ही ब्लैक फंगस की पुष्टि होगी।

SOURCE:JAGRAN

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *